ईद मुबारक शायरी संदेश कविता, स्पेशल ईद 2017 हिंदी में

सभी देशवासियों और मुस्लिम मित्रों को ईद मुबारक Eid Mubarak| ईद 2017 पर शायरी SMS के जरिए अपने दोस्तों और परिवार जनों को ईद की मुबारकबाद देना बेहद प्रचलित तरीका हैं| HIHINDI के सभी पाठको के लिए ईद 2017 पर दिल को भीतर तक छू जाने वाली नायाब शायरियो और संदेश का सग्रह आपके लिए लाए हैं| ईद क्यों मनाई जाती हैं कब मनाई जाती हैं ईद का इतिहास और ईद को मनाने का तरीका भी इस लेख के अंत में दिया जा रहा हैं|

ईद मुस्लिम धर्मावलम्बीयों का महत्वपूर्ण दिन हैं रमजान पूरा होने पर दिखाई देने वाले चाँद पर ईद मनाई जाती हैं, ईद को कई अन्य नामों से भी जाना जाता हैं जैसे ईद अल फितर Eid al-Fitr और मीठी ईद| प्रेम और भाईचारे का संदेश देने वाले इस त्यौहार को वर्ष 2017 में 25 और 26 जून को भारत सहित दुनिया के सभी देशो में मनाया जाएगा| एक महीने एक अनवरत रोजो को इस दिन सभी से गले मिलकर खोला जाता हैं|

ईद मुबारक शायरी

आज ईद आई है सब लोग कहते है,
तुम जो आ जाओ तो मुझे यकीन हो जाये…!!!
– ईद मुबारक


ज़िन्दगी को रमज़ान जैसा बना लो !
अल्लाह की क़सम मौत भी तुम्हारी ईद जैसी होगी||

” ईद मुबारक ”


मुझे लगता है सलमान सठिया गया है
सेल्फ़ के ज़माने में “कीक”ला रहा है
Lid के ज़माने में “Tubelight”
” ईद मुबारक ”


खोलू जो तेरे दीदार से
काश कोई रोज़ा ऐसा भी हो
ईद मुबारक ||


आज लेके आए हैं एक नजराना
हैं यह दिल का फसाना
सबको मुबारक हो यह ईद
पूरी हो सारी आरजू आपकी|


अगर पास होते मेरे दोस्त तो गले लगाते
दूर हो तो क्या हम रस्म तो निभाएगे
गले ना मिल सके तो क्या शायरी जरुर सुनाएगे
मुबारक हो ईद यही चिलाएगे

“ईद मुबारक”


न देख यूँ हसरत से मेरी ओर लगा के आस
सेवई की एक ही कटोरी बची है मेरे पास

=======================================================================================

गुल को गुलशन मुबारक
शायर को शायरी मुबारक
चांद को चांदनी मुबारक
आशिक को उसकी मेहबूबा मुबारक
हमारी तरफ से आप लोगों को इन
एडवांस ईद मुबारक
आप सभी को ईद उल फितर की दिली मुबारकबाद

ईद मुबारक

================================================================================================

Eid Mubarak Shayari in Hindi

सभीको “ईद मुबारक़”
शायरी पेशेख़िदमत है..
दिन को रात कैसे कहूँ?
राज़ की बात कैसे कहूँ?
हसरतें उड़ते परिंदों जैसी
‘जिंदगी हवालात’ कैसे कहूँ?
दिल क्या, नज़रें भी नहीं मिली
इसको मुलाक़ात कैसे कहूँ?
मोम सी ग़ज़ल है मेरी
पिघलते जज़्बात कैसे कहूँ?
समंदर कई है आँखों में
कतरों को बरसात कैसे कहूँ?
लहज़ा अब तक शायराना नहीं
बहर में हर बात कैसे कहूँ? ईद मुबारक

——————————————————————————————————————————————————————————-

दीवानों को दीवानगी मुबारक
शायर को शायरीमुबारक
हमारी तरफ से सभी को ईद-उल-जुहा मुबारक

ईद मुबारक


मौका हैं ईद 2017 का
सुना दे दिल की आवाज
बिता सब कुछ भुलाकर
सबको ईद मुबारक

एक बार फिर सभी पाठको को ईद मुबारक Eid Mubarak यह लेख आपकों कैसा लगा? यदि पसंद आया हो तो प्लीज कम से कम अपने एक फ्रेंड के साथ शेयर कर उन्हें भी ईद मुबारक दे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *