गुगा पंचमी / भाई भिन्ना व्रत कथा महत्व

गुगा पंचमी / भाई भिन्ना 2018 व्रत कथा महत्व

यह भाद्रपद कृष्ण पक्ष की पंचमी को मनाया जाता हैं. इस दिन नाग देवता की पूजा का विधान हैं.

इस दिन सबसे पहले कटोरी में दूध लेकर नागों को पिलाना चाहिए. फिर आकर दीवाल में किसी एक जगह पर गेरू से पोत लेवे और थोड़े से दूध में कोयला पीसकर चौकोर घर जैसा बनाकर उसमें पांच सर्प बनावे उसके बाद उन नागों को जल, कच्चा दूध, रोली, चावल, बाजरा, आटा, घी और चीनी मिलाकर चढ़ावे और यथाशक्ति दक्षिणा भी चढावें.

गुगा पंचमी | भाई भिन्ना | गोगा पंचमी | Guga Panchami Ki Kahani | Goga Panchami Ki Kahani

इस व्रत को करने से स्त्री सौभाग्यवती होती हैं पति की विपत्तियों से रक्षा होती हैं और सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं.

बहुत से लोगों के यहाँ पूजन करके बहिने भाइयों को टीका भी लगाती हैं. वह मिठाई आदि देती हैं तथा चना व चावल का बना हुआ बासी भोजन उस दिन कराती हैं. बदले में भाई यथाशक्ति द्रव्य बहिनों को दे देते हैं.

Leave a Reply