गुप्त काल का इतिहास और मुख्य शासक | Gupta Empire History in Hindi

गुप्त काल का इतिहास और मुख्य शासक | Gupta Empire History in Hindi: Samudragupta, Chandragupta I, History of Chandragupta II (Vikramaditya) in Hindi

मौर्य सम्राज्य के पतन के बाद भारत में शुंग, सातवाहन, कुषाण आदि वंशो का शासन रहा. कुषाण शासकों में सर्वाधिक प्रसिद्ध कनिष्क हुआ. कनिष्क का सम्राज्य भी विशाल था. चौथी शताब्दी में गुप्त राजवंश ने भारत मे सता संभाली. इस वंश ने लगभग दो सौ वर्षों तक शासन किया. गुप्त वंश के शासनकाल में भारतीय सांस्कृतिक परम्परा अधिक सम्रद्ध हुई जिसकी शुरुआत मौर्य सम्राट चन्द्रगुप्त एवं आचार्य चाणक्य ने की.

गुप्त काल का इतिहास और मुख्य शासकगुप्त काल

Gupta Empire History in Hindi

गुप्त वंश का प्रथम प्रतापी शासक चन्द्रगुप्त प्रथम था, जो सन 319 से 320 ई. में शासक बना. उसने सम्पूर्ण भारत को एक सूत्र में बांधकर विशाल सम्राज्य की स्थापना की थी, वह कुशल प्रशासक कला एवं साहित्य का संरक्षक और उदार शासक था.

गुप्त काल शासक समुद्रगुप्त (Samudragupta)-

चन्द्रगुप्त के बाद उसका सुयोग्य पुत्र समुद्रगुप्त मगध का शासक बना. समुद्रगुप्त की माता नाम कुमार देवी था. समुद्रगुप्त न केवल गुप्तवंश का बल्कि सम्पूर्ण भारतीय इतिहास के महानतम शासकों में से एक था. वह पराक्रमी वीर एवं विद्वान था. राजा बनते ही उसने उतर भारत के सभी शासकों को पराजित कर दक्षिण और पूर्वोत्तर में भी अपना राज्य विस्तृत किया. समुद्रगुप्त ने भारत के विशाल भू भाग को जीतकर अश्वमेघ यज्ञ किया और उसकी स्मृति में अश्व के चित्र अंकित सोने के सिक्के चलाए.समुद्रगुप्त

समुद्रगुप्त का शासनकाल राजनैतिक एवं सांस्कृतिक दोनों रूप से गुप्त सम्राज्य के उत्कर्ष का काल माना जा सकता है, उनके दरबार में अनेक कलाकार एवं विद्वान् थे. हरिषेण उसका मंत्री एवं लेखक था, जिसने प्रयाग प्रशस्ति की रचना की थी. प्रयाग प्रशस्ति से समुद्रगुप्त के विजय अभियानों की जानकारी प्राप्त होती है. समुद्रगुप्त स्वयं एक महान संगीतज्ञ था, वीणा वादन का शौक था, वह प्रजापालक एवं धर्म निष्ठ शासक था, जिसने वैदिक धर्म एवं परम्पराओं के अनुसार शासन किया था.

गुप्त काल शासक चन्द्रगुप्त द्वितीय (विक्रमादित्य)-

समुद्रगुप्त के बाद चन्द्रगुप्त द्वितीय शासक बना. वह अपने पिता समुद्रगुप्त की तरह योग्य एवं प्रतिभाशाली था. उसे कला, विद्या के संरक्षक एवं अद्वितीय यौद्धा में रूप में सर्वाधिक स्मरण किया जाता है. उसने शक एवं कुषाण शासकों को पराजित किया था. चन्द्रगुप्त द्वितीय का साम्राज्य भी भारत के बहुत बड़े हिस्सें में विस्तृत था. विजय अभियानों के बाद उसने विक्रमादित्य की उपाधि धारण कर विक्रम संवत चलाया था.

चन्द्रगुप्त द्वितीय युद्ध क्षेत्र में जितना वीर (रणकुशल) था, शांतिकाल में उससे कही अधिक कर्मठ था. वह स्वयं विद्वान था एवं विद्वानों का आश्रयदाता था, उसके दरबार में नौ विद्वानों की एक मंडली थी, जिन्हें नवरत्न कहा जाता था.

विक्रमादित्य के दरबार के नवरत्न (9 Gems (Navratnas) of Chandragupta Vikramaditya)

नवरत्न
महाकवि कालिदास धन्वन्तरी क्षपणक
अमरसिंह शंकु वेताल भट्ट
घटकर्पर वराहमिहिर वररुचि

चीनी यात्री फाह्यान चन्द्रगुप्त द्वितीय के शासनकाल में भारत आया था. फाह्यान ने चन्द्रगुप्त द्वितीय के शासन के बारे में लिखा है, कि उसकी प्रजा सुखी है. राजा न तो शारीरिक दंड देता है और न ही प्राण दंड. चाण्डालो के अलावा कोई माँस एवं मदिरा का सेवन नही करता है. लोग घरों में भी ताला नही लगाते है. चन्द्रगुप्त द्वितीय का शासन काल प्रजा के लिए सुखमय एवं सम्पन्नता से भरा हुआ था.

गुप्तकाल में सुखी थी. राजा दयावान थे, धन वैभव की कमी नही थी. चारो ओर सम्रद्धि एवं उन्नति का बोलबाला था, सोने के सिक्के प्रचलन में थे. इस काल में कला एवं साहित्य के क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति हुई है, इसलिए गुप्तवंश का शासन काल भारतीय इतिहास का स्वर्ण युग माना जाता है.

Gupta Empire Objective Questions In Hindi

Gupt Samrajya Mcq in Hindi, Gupt Samrajya question, Gupt Samrajya Question Answer, Gupt cal in Hindi, Gupt Wansh in Hindi, Gupt Kaal pdf in Hindi, Gupta Dynasty Notes In Hindi, Important Questions Of History In Hindi

Gupt Samrajya GK

गुप्तवंश की स्थापना कब हुई— 319 ई.
● गुप्त वंश की स्थापना किसने की— चंद्रगुप्त I द्वारा
● गुप्त वंश के किस शासक ने ‘महाधिराज’ की उपाधि धारण की— चंद्रगुप्त प्रथम ने
● आर्यभट्ट कौन था— खगोल वैज्ञानिक व गणितज्ञ
● आर्यभट्ट किस वंश के समकालीन था— गुप्त वंश के
● गुप्त शासकों की राजदरबारी भाषा क्या थी— संस्कृत
● गुप्त राजवंश के किस शासक ने हूणों के आक्रमण को रोका— स्कंदगुप्त ने
● गुप्त राजवंश किसके लिए प्रसिद्ध था— कला एवं स्थापत्य के लिए
● अजंता व एलौरा कलाकृतियाँ किस काल से संबंधित हैं— गुप्त काल से
● कालीदास किसके राजदबारी कवि थे— चंद्रगुप्त II ‘विक्रमाद्वित्य’
● अंजता चित्रकारी किस धर्म से संबंधित हैं— बौद्ध धर्म से
● एरण अभिलेख का संबंध किस शासक से है— भानुगुप्त से
● चीनी यात्री फाह्यान किसके शासन काल में भारत आया— चंद्रगुप्त द्वितीय
● भारतीय संस्कृति का स्वर्ण युग किस युग को कहा जाता है— गुप्त युग को
● ‘सेतुबंध’ की रचना किस वंश के शासक ने की— वाकाटक
● किस गुप्तकालीन शासक को कविराज कहा गया है— समुद्रगुप्त को
● कौन-सा गुप्त शासक भारतीय नेपोलियन के नाम से प्रसिद्ध था— समुद्रगुप्त
● स्कंदगुप्त को किस लेख से ‘शक्रोपम’ कहा गया है— कहौमस्तम लेख
● गुप्त काल के सबसे लोकप्रिय देवता कौन थे— विष्णु
● दिल्ली में स्थित ‘लौह स्तंभ’ किस सदी में निर्मित हुआ— चौथी सदी में
● फाह्यान द्वारा लिखित ग्रंथ ‘फो-कुओ-की’ में किसका वर्णन मिलता है— बौद्ध धर्म के सिद्धांतों का
● ‘अमरकोष’ नामक ग्रंथ की रचना किसने की और वे किस शासक से जुड़े थे— अमर सिंह ने, चंद्रगुप्त II से
● हरिषेण किसका राजदरबारी कवि था— समुद्रगुप्त का
● गुप्त काल की सोने की मुद्रा को क्या कहा जाता था— दीनार
● ‘कुमारसंभव’ महाकाव्य को किसने रचा— कालीदास
● नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना किस युग में हुई— गुप्त युग में
● गुप्त युग में भू-राजस्व की दर क्या थी— उपज का छठा भाग
● नगरों का क्रमिक पतन किस युग की विशेषता थी— गुप्त युग की
● किस वंश के शासकों ने मंदिरों और ब्राह्मणों को सबसे अधिक ग्राम अनुदान में दिए— गुप्त वंश
● महरौली स्थित लौह स्तंभ किसकी स्मृति में है— चंद्रगुप्त II
● कालीदास द्वारा रचित ‘मालविकाग्निमित्र’ नाटक का नायक कौन था— अग्निमित्र
● समुद्रगुप्त की सैनिक उपलब्धियों का वर्णन किस अभिलेख में है— प्रयाग
● बाल विवाह की प्रथा कब आरंभ हुई— गुप्त युग में
● सर्वप्रथम कौन-सा ग्रंथ यूरोपीय भाषा में अनुदित/अनुवादित हुआ— अभिज्ञान शाकुंतलम्
● सती प्रथा का प्रथम उल्लेख कहाज्ञ से मिलता है— एरण अभिलेख से
● गुप्तकालीन सिक्कों का सबसे बड़ा ढेर कहाँ से प्राप्त हुआ— बयाना (भरतपुर)
● किस गुप्त शासक को नालंदा विश्वविद्यालय का संस्थापक माना जाता था— रूपक
● कालीदास की कौन-सी कृति की गिनती विश्व की सर्वाधिक प्रसिद्ध 100 कृतियों में की जाती हैं— अभिज्ञान शाकुंतलम्
● गणित की दशमलव प्रणाली के अविष्कार का श्रेय किसे दिया जाता है— मौर्य युग को
● किस विद्धान ने गणित को एक पृथक विषय के रूप में स्थापित किया— आर्यभट्ट
● गुप्तकाल की प्रसिद्ध पुस्तक ‘नवनीतकम्’ का संबंध किस क्षेत्र में है— चिकित्सा के क्षेत्र से
● ताँबे के सिक्के जारी करने वाला प्रथम गुप्त शासक कौन था— रामगुप्त
● मिहिरकूल का संबंध किससे था— हूण से
● कौन-से गुप्त राजा ने विक्रमाद्वित्य की उपाधि ग्रहण की थी— चंद्रगुप्त II
● किस गुप्त शासक ने दक्षिण में 12 राज्यों पर विजय प्राप्त की— समुद्रगुप्त ने
● ‘सर्वराजोच्छेता’ की उपाधि किसने धारण की— समुद्रगुप्त ने
● चंद्रगुप्त प्रथम ने गुप्त संवत् की स्थापना कब की— 319 ई.
● गुप्त संवत् एवं शक संवत् में कितना अंतर है— 241 वर्ष
● किस वंश के शासकों ने चाँदी की मुद्राओं का प्रचलन किया— गुप्त वंश के शासकों ने
● किसने समुद्रगुप्त को भारत का नेपोलियमन कहा था— विन्र्सेट स्मिथ ने
● गुप्तकाल में प्रमुख शिक्षा केंद्र कौन-से थे— पाटलिपुत्र, उज्जयिनी
● गुप्तवंश का अंतिम शासक कौन था— विष्णुगुप्त
● सती होने का प्रमाण प्रथम बार कब मिला— 510 ई.
● ‘सूर्य सिद्धांत’ नामक ग्रंथ किसने लिखा— आर्यभट्ट ने
● नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना कब हुई— 415-454 ई.

संगम काल | प्राचीन भारत का इतिहास
● संगम काल में कितनी रचनाओं का वर्णन है— 2289
● संगम काल की प्रसिद्ध रचना कौन सी थी— तमिल व्याकरण ग्रंथ तोलकाप्पियम
● ‘तोलकाप्पियम’ की रचना किसने की— तोल काप्पियर ने
● चोल वंश का सबसे प्रसिद्ध शासक कौन-था— करिकाल
● करिकाल गद्दी पर कब बैठा— 190 ई. के लगभग
● किस चोल वंश के शासक ने उद्योग धंधे व कृषिको प्रोत्साहन दिया— करिकाल ने
● चोल काल में सर्वोच्च न्यायालय को क्या कहा जाता था— मनरम
● मानसून की खोज किसने की— मिस्त्र के नाविक हिप्पालस ने
● चोल काल में सूती वस्त्र उद्योग का प्रमुख कौन-सा था— उरैयूर
● पांड्यों की राजधानी कहाँ थी— मदुरै
● चेर वंश का शासन किस क्षेत्र पर था— केरल पर
● चेर वंश का प्रसिद्ध शासक कौन था— सेंगुट्टुवन
● किस शासक को ‘लालचेर’ कहा जाता था— सेंगुट्टुवन

मौर्योत्तर काल | प्राचीन भारत का इतिहास
● अंतिम मौर्य सम्राट की हत्या किसने की— पुष्यमित्र ने
● शुंग वंश की स्थापना किसने की— पुष्यमित्र ने
● कण्व/काण्व वंश का संस्थापक कौन था— वासुदेव
● सातवाहन/आंध्र सातवाहन वंश की स्थापना किसने की— सिमुक ने
● किसके अधीन सातवाहनों ने अधिकारियों के रूप में कार्य किया था— मौर्यों के अधीन
● कौन-सा कुषाण शासक था जिसने बौध धर्म अपना लिया था— कनिष्क
● कुषाण काल के दौरान मूर्तिकाल की गंधार शैली किन शैलियों का मिश्रण थी— इंडो-ग्रीक (भारतीय-यूनानी) शैली
● कनिष्क की राजधानी कहाँ थी— पुरुषपुर व मथुरा
● पुरुषपुर का दूसरा नाम क्या है— पेशावर
● चरक किसके राजवैद्य थे— कनिष्क
● तक्षशिला किस शैली की कला के लिए प्रसिद्ध है— गंधार कला के लिए
● भारत में सर्वप्रथम स्वर्ण मुद्राएं किसने चलवाईं— इंडो-ग्रीक (बैक्ट्रियन ग्रीक)
● किस संग्रहायल में कुषाणकालीन मूर्तियाँ सबसे अधिक हैं— मथुरा संग्रहालय
● किस वंश के शासकों ने सोने के सबसे अधिक सिक्के जारी किए— कुषाण वंश के शासकों ने
● सातवाहनों के समय किस धातु की मुद्रा सर्वाधिक थी— सीसा
● नागार्जुन, अश्वघोष व वसुमित्र किसके समकालीन थे— कनिष्क के
● 78 ई. का शक संवत् किसने चलाया— कनिष्क ने
● तक्षशिला वर्तमान में कहाँ स्थित है— पाकिस्तान में
● कुषाण के काल में सबसे अधिक विकास किस क्षेत्र में हुआ— वास्तुकला
● सातवाहनों ने अपना शासन कहाँ शुरू किया— महाराष्ट्र में
● सातवाहनों की राजधानी कहाँ थी— पैठन
● किस सातवाहन सम्राट ने ‘गाथासप्तशई’ नामक महत्वपूर्ण कृति की रचना की— हाल ने
● मौर्यों के बाद दक्षिण भारत में सबसे प्रभावशाली राज्य किसका था— सातवाहन
● बुद्ध की खड़ी प्रतिमा किसके काल में बनवाई गई— कुषाण के काल में
● शुंग वंश के बाद किस वंश ने भारत पर राज्य किया— कण्व वंश ने
● किस चीनी जनरल ने कनिष्क को हराया था— पेगचाऔ ने
● कनिष्क बौद्ध धर्म की किस शाखा का अनुयायी था— महायान
● प्राचीन भारत के महान व्याकरण विद्वान पतंजलि किसके समकालीन थे— पुष्यमित्र के
● भारत में किसके द्वारा पहली बार सैनिक शासन व्यवहार में लाया गया— इंडो-ग्रीक द्वारा
● ईसा पूर्व दूसरी सदी के आरंभ में उत्तरी अफगानिस्तान में किसका शासन था— बैक्ट्रिया
● प्राचीन भारत में किसने नियमित रूप से सोने के सिक्के चलाए— कुषाण ने
● सातवाहनों का समाज कैसा था— मातृ सत्तात्मक
● कनिष्क किस जाति से संबंधित था— चीन की यूंची जनजाति से
● भारत का आइंस्टीन किसे कहा जाता है— नागार्जुन को
● पुष्यमित्र किस धर्म का समर्थक था— ब्राह्मण धर्म का
● बेसनगर में स्थित गरुण स्तंभ का निर्माण किसने कराया— हेलियोडोर ने
● ‘गार्गी संहिता’ क्या है— ज्योतिष ग्रंथ
● ‘गार्गी संहिता’ की रचना किसने की— कात्यायन ने
● कुषाण वंश की स्थापना किसने की— कुजुला कडफिसेस
● कनिष्क को शासन कब प्राप्त हुआ— 78 ई.
● कनिष्क के कुल का अंतिम शासक कौन था— वासुदेव
● ‘कामसूत्र’ की रचना किसने की— वात्सयायन ने
● पक्की ईंटों का शुभारंभ किसके काल में हुआ— कनिष्क के काल में
● किस प्रसिद्ध ग्रंथ को बौद्ध धर्म का विश्वकोष कहते हैं— महाविभाषाशास्त्र
● खारवेल किस वंश का शासन था— चेदि वंश का
● किस पुराण में 19 सातवाहन शासकों के शासन की चर्चा है— वायु पुराण में

मौर्यकाल | प्राचीन भारत का इतिहास
● सबसे प्राचीनतम राजवंश कौन-सा है— मौर्य वंश
● मौर्य साम्राज्य की स्थापना किसने की— चंद्रगुप्त मौर्य
● मौर्य वंश की स्थापना कब की गई— 322 ई. पू.
● कौटिल्य/चाणक्य किसका प्रधानमंत्री था— चंद्रगुप्त मौर्य का
● चाणक्य का दूसरा नाम क्या था— विष्णु गुप्त
● चंदगुप्त के शासन विस्तार में सबसे अधिक मदद किसने की— चाणक्य ने
● किसकी तुलना मैकियावेली के ‘प्रिंस’ से की जाती है— कौटिल्य का अर्थशास्त्र
● किस शासक ने सिंहासन पर बैठने के लिए अपने बड़े भाई की हत्या की थी— अशोक
● सम्राट अशोक की उस पत्नी का नाम क्या था जिसने उसे प्रभावित किया था— कारुवाकी
● अशोक ने सभी शिलालेखों में एक रुपया से किस प्राकृत का प्रयोग किया था— मागधी
● बिंदुसार ने विद्रोहियों को कुचलने के लिए अशोक को कहाँ भेजा था— तक्षशिला
● किस सम्राट का नाम ‘देवान प्रियादर्शी’ था— सम्राट अशोक
● किस राजा ने कलिंग के युद्ध में नरसंहार को देखकर बौद्ध धर्म अपना लिया था— अशोक ने
● कलिंग का युद्ध कब हुआ— 261 ई. पू.
● प्राचीन भारत का कौन-सा शासक था जिसने अपने अंतिम दिनों में जैनधर्म को अपना लिया था— चंद्रगुप्त मौर्य
● मौर्य साम्राज्य में कौन-सी मुद्रा प्रचलित थी— पण
● अशोक का उत्तराधिकारी कौन था— कुणाल
● अर्थशास्त्र का लेखक किसके समकालीन था— चंद्रगुप्त मौर्य
● मौर्य काल में शिक्षा का प्रसिद्ध केंद्र कौन-सा था— तक्षशिला
● यूनान के शासक सेल्यूकस ने अपने राजदूत मेगास्थनीज को किसके राज दरबार में भारत भेजा— चंद्रगुप्त मौर्य
● चंद्रगुप्त मौर्य ने सेल्यूकस को कब पराजित किया— 305 ई. पू.
● मेगस्थनीज की पुस्तक का क्या नाम है— इंडिका
● किसके ग्रंथ में चंद्रगुप्त मौर्य के विशिष्ट रूप का वर्णन हुआ है— विशाखदत्त के ग्रंथ में
● ‘मुद्राराक्षस’ के लेखक कौन है— विशाखदत्त
● किस स्त्रोत में पाटलिपुत्र के प्रशासन का वर्णन है— इंडिका
● अशोक के शिलालेखों में कौन-सी भाषा थी— पाकृत
● किस मौर्य राजा ने दक्कन पर विजय प्राप्त की थी— कुणाल ने
● मेगास्थनीज द्वारा अपनी पुस्तक में समाज को कितने भागों में बाँटा गया था— पाँच
● ‘अर्थशास्त्र’ किसके संबंधित है— राजनीतिक नीतियों से
● किस शासक ने पाटलिपुत्र को अपनी राजधानी बनाया— चंद्रगुप्त मौर्य ने
● पाटलिपुत्र में चंद्रगुप्त का महल किसका बना था— लकड़ी का
● किस अभिलेख से यह सिद्ध होता है कि चंद्रगुप्त का प्रभाव पश्चिम भारत तक फैला हुआ था— रुद्रदमन का जूनागढ़ अभिलेख
● सर्वप्रथम भारतीय साम्राज्य किसने स्थापित किया— चंद्रगुप्त मौर्य ने
● किस स्तंभ में अशोक ने स्वयं को मगध का सम्राट बताया है— भाब्रू स्तंभ
● उत्तराखंड में अशोक का शिलालेख कहाँ स्थित है— कालसी में
● अशोक के शिलालेखों को पढ़ने वाला प्रथम अंग्रेज कौन था— जेम्स प्रिंसेप
● कलिंग युद्ध की विजय तथा क्षत्रियों का वर्णन किया शिलालेख में है— 13वें शिलालेख में (XIII)
● कौन-सा शासक जनता के संपर्क में रहता था— अशोक
● किस ग्रंथ में चंद्रगुप्त मौर्य के लिए ‘वृषल’ शब्द का प्रयोग किया गया है— मुद्राराक्षस
● किस राज्यादेश में अशोक के व्यक्तिगत नाम का उल्लेख मिलता है— मास्की
● श्रीनगर की स्थापना किस मौर्य शासक ने की— अशोक
● किस ग्रंथ में शुद्रों के लिए ‘आर्य’ शब्द का प्रयोग हुआ है— अर्थशास्त्र में
● किसने पाटलिपुत्र को ‘पोलिब्रोथा’ कहा था— मेगास्थनीज ने
● मौर्य काल में ‘एग्रनोमाई’ किसको कहा जाता था— सड़क निर्माण अधिकारी को
● अशोक के बारे में जानने के लिए महत्पूर्ण स्त्रोत क्या है— शिलालेख
● ‘भारतीय लिखने की कला नहीं जानते हैं’ यह किसने कहा था— मेगास्थनीज ने
● बिंदुसार की मृत्यु के समय अशोक एक प्रांत का गवर्नर था, वह प्रांत कौन-सा था— उज्जैन
● किसने अपने पुत्र व पुत्री को बौद्ध धर्म के प्रचार व प्रसार हेतु श्रीलंका भेजा— अशोक ने
● कौटिल्य द्वारा रचित अर्थशास्त्र कितने अभिकरणों में विभाजित है— 15
● अशोक का अभिलेख भारत के अलावा किस अन्य स्थान पर भी पाया गया है— अफगानिस्तान
● किस शिलालेख में अशोक ने घोषणा की, ‘‘सभी मनुष्य मेरे बच्चे है’’— प्रथम पृथक शिलालेख में
● किस स्थान से अशोक के शिलालेख के लिए पत्थर लिया जाता था— चुनार से
● किस महीने में मौर्यों का राजकोषीय वर्ष आरंभ होता था— आषाढ़ (जुलाई)
● किस जैन ग्रंथ में चंद्रगुप्त मौर्य के जैन धर्म अपनाने का उल्लेख मिलता है— परिशिष्ट पर्व में
● चंद्रगुप्त मौर्य का संघर्ष किस यूनानी शासक से हुआ— सेल्यूकस से
● एरियन ने चंद्रगुप्त मौर्य को क्या नाम दिया— सैंड्रोकोट्स
● किस ग्रंथ में चंद्रगुप्त मौर्य के लिए ‘कुलहीन’ शब्द का प्रयोग हुआ— मुद्राराक्षस
● किस ग्रंथ में दक्षिणी भारत के आक्रमणों का पता चलता है— तमिल ग्रंथ ‘अहनानूर’
● चंद्रगुप्त मौर्य का निधन कब हुआ— 297 ई. पू.
● चाणक्य किस विश्वविद्यालय में शिक्षक थे— तक्षशिला विश्वविद्यालय में
● चंद्रगुप्त के बाद किसने शासन प्राप्त किया— बिंदुसार ने
● बिंदुसार किस संप्रदाय का अनुयायी था— आजीवक संप्रदाय
● किस विद्धान ने बिंदुसार को 16 राज्यों का विजेता बताया— तारानाथ ने
● अशोक मगध की गद्दी पर कब बैठा— 269 ई. पू.
● अशोक की माता का नाम क्या था— शुभद्रांगी
● भारत में शिलालेख का प्रचलन सर्वप्रथम किसने किया— अशोक ने
● अशोक के शिलालेखों की खोज कब हुई— 1750 ई.
● अशोक के शिलालेख प्रथम बार कब पढ़े गए— 1837 में
● अंतिम मौर्य सम्राट कौन था— बृहद्रथ
● प्राचीन काल में कलिंग का महान शासक कौन था— खारवेल
● किस अभिलेख में चंद्रगुप्त मौर्य व अशोक दोनों का उल्लेख मिलता है— महाक्षत्रप रुद्रदमन का जूनागढ़ अभिलेख

धार्मिक आंदोलन | प्राचीन भारत का इतिहास
● हिंदू धर्म का आधार कौन-से ग्रंथ हैं— वेद
● हिंदू धर्म की पवित्र पुस्तकें कौन-सी हैं— रामायण, महाभारत, वेद, पुराण
● ‘अद्वैतवाद’ का सिद्धांत किसने प्रतिपादित किया— शंकराचार्य ने
● ‘विशिष्ट द्वैतावाद’ का सिद्धांत किसने दिया था— रामानुज ने
● ‘द्वैतावाद’ का सिद्धांत किसने दिया था— माधवाचार्य ने
● ‘द्वैत-अद्वैतवाद’ का सिद्धांत किसने दिया था— निंबार्काचार्य ने
● गौतम बुद्ध का जन्म कब व कहाँ हुआ— 563 ई. पू. लुंबिनी (नेपाल)
● गौतम बुद्ध की मृत्यु कब व कहाँ हुई— 483 ई. पू., कुशीनगर (उ. प्र.)
● गौतम बुद्ध को ज्ञान प्राप्त कहाँ हुआ— गया (बिहार)
● गौतम बुद्ध ने अपना पहला धर्मोपदेश कहाँ दिया था— सारनाथ (उ. प्र.)
● ‘बुद्ध’ का शाब्दिक अर्थ क्या है— प्रकाशवान
● गौतम बुने अपने उपदेश किस भाषा में दिए— पाली भाषा में
● जातक कथाएँ किस धर्म से संबंधित है— बौद्ध धर्म से
● बौद्ध धर्म के दो संप्रदाय कौन-से हैं— हीनयान व महायान
● जैन धर्म के अनुसार कुल कितने तीर्थंकर हुए— 24
● जैन धर्म के प्रवर्तक या प्रथम तीर्थंकर कौन थे— ऋषभदेव
● जैन धर्म के 24वें एवं अंतिम तीर्थंकर कौन थे— महावीर स्वामी
● महावीर स्वामी का जन्म कब व कहाँ हुआ— 599 ई. पू., कुंडलग्राम
● महावीर स्वामी का मृत्यु कब व कहाँ हुई— 527 ई., पावापुरी (पटना)
● जैन धर्म के दो संप्रदाय कौन-कौन से है— श्वेतांबर व दिगंबर
● किस शासक ने विक्रमशिला विश्वविद्यालय की स्थापना की— धर्मपाल ने
● प्रथम बौद्ध संगीति कहाँ और किसके शासन में आयोजित की गई— सप्तपर्णि गुफा (राजगृह), अजातशत्रु के शासनकाल में
● द्वितीय बौद्ध संगीति कहाँ और किसके शासन में आयोजित की गई— चुल्लबग (वैशाली), कालाशोक के शासनकाल में
● किस शासक द्वारा तृतीय बौद्ध संगीति को संरक्षण प्रदान किया— अशोक ने
● चतुर्थ बौद्ध संगीति कहाँ और किसके शासन में आयोजित की गई— कुंडलवन (कश्मीर), कनिष्क के शासनकाल में
● बौद्ध ग्रंथ ‘त्रिपटक’ की रचना किस भाषा में की गई है— पाली भाषा
● साँची किसके लिए विख्यात है— सबसे बड़े बौद्ध स्तूप के लिए
● महावीर का जन्म किस क्षत्रिय गोत्र में हुआ— जांत्रिक
● सबसे प्राचीन विश्वविद्यालय कौन-सा है— नालंदा
● मठ, मंदिर व स्तूप किस धर्म से संबंधित हैं— बौद्ध धर्म से
● जैन धर्म व बौद्ध धर्म, दोनों के उपदेश किसके शासन काल में दिए गये— बिंबिसार
● बौद्ध धर्म ग्रहण करने वाली प्रथम महिला कौन थी— महाप्रजापति गौतमी
● गौतम बु का प्रथम धर्मोपदेश क्या कहलाता है— धर्मचक्र प्रवर्तन
● बौद्ध के ग्रह त्याग का प्रतीक क्या है— अश्व
● गौतम बु द्वारा भिक्षुणी संघ की स्थापना कहाँ की गई— कपिलवस्तु में
● ‘शून्यता का सिद्धांत ’ किस बौ दार्शिनिक ने प्रतिपादित किया— नागार्जुन
● ‘एशिया की रोशनी’ किसे कहा जाता है— गौतम बुद्ध को
● बौद्ध धर्म व जैन धर्म में कौन-सी बात समान नहीं है— अंहिसा
● आजीवक संप्रदाय के संस्थापक कौन थे— मक्खलि गोसाल
● महावीर स्वामी का प्रथम शिष्य कौन था— जमालि
● कौन-सा क्षेत्र पाश्र्वनाथ से संबंध होने के कारण जैनसिद्ध क्षेत्र माना जाता है— संमद शिखर
● बुद्ध की मृत्यु के बाद बौद्ध संगिति की अध्यक्षता किसने की— महाकस्सप ने
● बौद्ध के जीवन काल में संघ का प्रमुख कौन होना चाहता था— देवदत्त
● हेलियोडोरस का बेसनगर अभिलेख किसमें संदर्भित है— संकर्षण तथा वासुदेव
● किस ग्रंथ में भगवान श्रीकृष्ण का वर्णन सर्वप्रथम किया गया— छांदोगय उपनिषद में
● जैन धर्म के प्रथम विभाजन श्वेतांबर संप्रदाय के संस्थापक कौन थे— स्थूलभद्र
● प्रथम जैन महासभा का आयोजन कहाँ हुआ— पाटलिपुत्र
● राजा मिलिंद के साथ किस बौद्ध भिक्षु के संवाद हुए— नागसेन
● जैन धर्म के श्वेतांबर व दिंगबर संप्रदायों का विभाजन कब हुआ— चंद्रगुप्त मौर्य के समय में
● महावीर ने जैन संघ की स्थापना कहाँ की— पावा में
● महावीर की मृत्यु के बाद जैन संघ का अध्यक्ष कौन बना— सुधर्मन
● जैन धर्म की पवित्र पुस्तक कौन-सी है— आगम
● जैन ग्रंथ ‘कल्प सूत्र’ के रचियता कौन है— भद्रबाहु
● जैन धर्म को अंतिम राजकीय संरक्षण किस वंश के शासकों ने दिया— गुजरात के चालुक्य
● बौद्धों की रामायण किस गंथ को कहा जाता है— बुचरित
● बुचरित की रचना किसने की— अश्वघोष ने
● ‘महाविभाष शास्त्र’ के रचियता कौन हैं— वसुमित्र
● कौन-सी बौद्ध रचना गीता के समान पवित्र मानी जाती है— अभिधम्म पिटक
● ‘योगाचार’ या ‘विज्ञानवाद’ के प्रतिपादक कौन थे— मैत्रेयनाथ
● भारत के दक्षिण में स्थित देशों में बौद्ध धर्म का कौन-सा संप्रदाय प्रचलित हुआ— हीनयान
● बौद्ध धर्म का मूल आधार क्या है— चार आर्य सत्य
● अनेकांतवाद किस धर्म के लोगों का सिद्धांत व दर्शन है— जैनमत
● महाधार्मिक घटना ‘महामस्तकाभिषेक’ किससे संबंधित है— बाहुबली
● ‘परिशिष्ट पर्व’ रचना किस धर्म से संबंधित है— जैनधर्म से
● ‘परिशिष्ट पर्व’ के रचियता कौन है— हेमचंद्र
● बौद्ध धर्म को भारत में किस शासक ने अंतिम संरक्षण दिया— बंगाल के पालों ने
● भारत के उत्तरी देशों में बौद्ध धर्म के किस संप्रदाय की प्रचलन था— महायान
● बौद्ध धर्म के सिद्धांतों का उल्लेख किस ग्रंथ में है— सुत्त पिटक में
● किसने कृष्ण को हेराक्लीज कहा था— मेगास्थनीज ने
● इस्लमा धर्म के संस्थापक कौन थे— हजरत मुहम्मद साहब
● मुहम्मद साहब का जन्म कब और कहाँ हुआ— 570 ई., मक्का
● मुहम्मद साहब के जन्मदिन पर कौन-सा पर्व मनाया जाता है— ईद-ए-मिलाद-उल-नबी
● पारसी धर्म का प्रमुख ग्रंथ कौन-सा है— जेंद अवेस्ता
● महावीर की पहली महिला भिक्षुणी कौन थीं— चंदना

दोस्तों Gupta Empire History in Hindi में दी गई जानकारी आपकों अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे शेयर करना ना भूले.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *