दीपावली पर निबंध

Essay on Deepawali in Hindi: दीपावली दो शब्दों दीप और अवली से मिलकर बना हे. दीप का मतलब होता है दीपक और अवली का मतलब होता हे पंक्ति अर्थात दीपों की पंक्तियाँ. हमारे देश में प्रति वर्ष अनेक त्यौहार मनाये जाते है. हिन्दुओं के त्यौहारों में रक्षाबंधन, होली, दशहरा और दीपावली प्रमुख त्यौहार है. इस त्यौहार पर लोग दीपक को पंक्तियो में रखकर रौशनी करते है. दीपक का त्यौहार होने के कारण इसे दीपावली या दिवाली कहा जाता है. यह दो शब्दों दीप और अवली से मिलकर बना है. दीप का मतलब होता है दीपक और अवली का मतलब होता हे पंक्ति अर्थात दीपों की पंक्तियाँ. दीपावली निबंध, दिवाली पर निबंध, दीपावली का निबंध में पढ़िये बच्चों के लिए दिवाली शोर्ट एस्से 2018 इन हिंदी नीचे दिया गया हैं,

दीपावली पर निबंध | Essay on Deepawali in Hindi

यह त्यौहार कार्तिक मॉस की अमावस्या को मनाया जाता है. यह त्यौहार अमावस्या के दो दिन पूर्व त्रयोदशी से लेकर इसके दो दिन बाद दूज तक चलता है. इस तरह दीपावली का त्यौहार पांच दिन तक मनाया जाता है. दीपावली निबन्ध में कक्षा 1,2,3,4, 5 ,6,7,8,9,10 के बच्चों के लिए दिवाली का निबंध 2018 को 5,10,लाइन व 100,150,200,250,300,400,500,600 & 1000 शब्दों में नीचे दिया गया हैं.

दीपावली मनाने का कारण (Reason Of Celebration)

इस त्यौहार के साथ हमारी अनेक पौराणिक और धार्मिक कथाएं है. हिन्दुओं की मान्यता है की इस दिन भगवान श्री राम चौदह वर्ष का वनवास पूरा करके अयोध्या लौटे थे. उनके आने की ख़ुशी में अयोध्यावासियों ने अपने घरों में दीपक जलाकर उनका स्वागत किया था. पौराणिक कथाओं के अनुसार इसी दिन समुंद्रमंथन से धन की देवी लक्ष्मी प्रकट हुयी थी. जैन धर्म वाले भगवान महावीर स्वामी से सम्बधित कथा कहते है. कुछ लोग इस दिन हनुमान जी की जयंती मनाते है. मत चाहे कुछ भी हो लेकिन आनंद-उल्लास की दृष्टि से मनाये जाने वाले त्यौहारों में यह प्रमुख त्यौहार है.

दीपावली मनाने की विधि (Method Of Celebration)

दीपावली से पहले गृहणियां धन तेरस के दिन बर्तन खरीदना शुभ मानती है. रूपचौदस के दिन घरों की सफाई करके छोटी दीपावली मनाई जाती है. अमावस्या के दिन दीपावली का त्यौहार पुरे हर्षो-उल्लास से मनाया जाता है. इस दिन प्रत्येक घर में लक्ष्मी पूजन होता है. दुसरे दिन गोवर्धन पूजा की जाती है. लोग गोबर का गोवर्धन बनाकर उसे पूजते है.

कहते है इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी ऊँगली पर उठाकर मुसलाधार वर्षा से ब्रज की रक्षा की थी. इसके बाद भाई दूज का त्यौहार मनाते है. बहनें अपने भाइयों के ललाट पर तिलक लगाती है और उन्हें मिठाइयां खिलाती है. दीपावली के दिन लोग ‘दवात पूजन’ भी करते है और अपने बहीखाते भी बदलते है. इस प्रकार यह त्यौहार पांच दिन तक बड़ी-ख़ुशी के साथ मनाया जाता है.

दीपावली का महत्व (Importance Of Deepavali)

हर त्यौहार का अपने विशेष महत्व होता है. जिस प्रकार ईद मुसलमानों में भाईचारे का त्यौहार माना जाता है, उसी प्रकार दीपावली भी स्नेह का त्यौहार है. इस दिन सभी व्यक्ति अपने मित्रों और रिश्तेदारों से मिलते है तथा उन्हें शुभकामनाओं सहित मिठाइयाँ भेंट करते है. सांस्कृतिक पर्व की दृष्टि से यह त्यौहार पौराणिक परम्पराओं को बनाये रखने वाला है.

आखिर में

हिन्दुओं में मनाये जाने वाले त्योहारों में दीपावली का विशेष महत्व है. यह हमारी सामूहिक स्नेह भावना का प्रतीक है. खुद गरीबी को झेलते हुए भी भारतवासी उल्लास के साथ इस पर्व को मनाते है, लक्ष्मी पूजन करते है और करते रहेंगे.

इस त्यौहार का लोग बेसर्बी से इन्तजार करते है. बच्चे पटाखें जलाते हे, सारा परिवार एक जगह साथ होता है, लोग साथ में खाना खाते है और अपने सारे गिले-शिकवे भुलाकर गले मिलते है. इसी लिए तो हमारा देश अनेकता में एकता का सिद्दांत लिए चलता है. पूरा बाज़ार इस दिन चकाचौंध से भरा रहता है.

“रोशन हो दीपक और सारा जग जगमगाए

लिए साथ सीता मैया को राम जी आये

हर शहर यूँ लगे मानो अयोध्या हो

आओ हर दीवार, हर गली, हर मोड़ पर दीपक जलाये

Essay on Deepawali in Hindi For Students

दीपावली / दीवाली त्यौहार पर निबंध 2018 Essay on Diwali Festival in Hindi (Deepawali Festival): भारत त्योहारों का देश है, दीपावली हिन्दुओं का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार हैं. यह त्योहार कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाता हैं.

मनाने का कारण-दीपावली के समय हमारे यहाँ पर खरीफ की पैदावार तैयार हो जाती हैं. अतः पूर्वजों ने देवताओं को नया अन्न भेट करने के लिए उत्सव मनाने का प्रचलन किया था. यह भी कहा जाता है कि भगवान श्रीराम चौदह वर्ष के वनवास के बाद इसी दिन अयोध्या लौटे थे. अतः अयोध्यावासियों ने उनके स्वागत में घी के दीप जलाकर यह उत्सव मनाया था.

मनाने का तरीका-दीपावली का उत्सव कई दिन चलता हैं अर्थात कृष्ण पक्ष की तेरस से शुक्ल पक्ष की दूज तक. धनतेरस के दिन दीपक जलाकर सब लोग अपने द्वार पर रखते हैं. बर्तन खरीदना इस दिन शुभ माना जाता हैं. दूसरे दिन को छोटी दिवाली कहते हैं. तीसरे दिन लो लक्ष्मीजी का पूजन होता हैं. लोग घरों दुकानों और कार्यालयों को दीपकों रंग बिरंगे बिजली के बल्बों की मालाओं से सजाते हैं. ऐसा विश्वास है कि लक्ष्मीजी इस दिन प्रत्येक घर आती हैं. और जिस घर की स्वच्छता व सुन्दरता से प्रसन्न हो जाती हैं. उस दिन को अपने निवास के लिए चुन लेती हैं. इस दिन सब लोग नवीन वस्त्र धारण करते हैं तथा अपने इष्ट मित्रों को मिठाइयाँ देते हैं. चौथे दिन गोवर्धन पूजा होती हैं. पांचवा दिन भैया दूज या यम द्वितीया का होता हैं.

दीपावली का महत्व– दीपावली हिन्दुओं का महत्वपूर्ण त्योहार हैं. इस अवसर पर घरों की सफाई, लिपाई, पुताई हो जाती हैं. दीपक जलाने से वातावरण शुद्ध होता हैं. बीमारी फ़ैलाने वाले मच्छर, कीड़े और पतंग सब मर जाते हैं.

कुरीतियाँ– दीपावली एक अत्यंत पवित्र त्योहार हैं. परन्तु कुछ कुरीतियों ने इसके स्वरूप को बिगाड़ दिया हैं. कुछ लोग इस दिन जुआ खेलते हैं. हजारों रूपये हार जाते हैं, लाखों रूपये के पटाखे जला दिए जाते हैं, इससे प्रायः भयंकर दुर्घटनाएं हो जाती हैं.

उपसंहार– दीपावली हिन्दुओं का एक पवित्र और महत्वपूर्ण त्योहार हैं. यह हमे प्रसन्नता का संदेश देता हैं.

आशा करता हूँ आपकों Essay on Deepawali in Hindi का यह निबन्ध अच्छा लगा होगा, इसमें दी गई जानकारी आपकों अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे.

Diwali Essay In English For Students Diwali Essay In English: if you are...
दिवाली के टोटके अपनाए होगी धन की वर्षा... दिवाली के टोटके धार्मिक ग्रंथो म...
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *