पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध in hindi: अर्थ, कारण, दुष्प्रभाव, उपाय

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध in Hindi: -पर्यावरण प्रदूषण का अर्थ व भूमिका (Meaning and Role of Environmental Pollution), प्रदूषण के कारण (Due to pollution), पर्यावरण प्रदूषण का दुष्प्रभाव (Side effects of environmental pollution), प्रदूषण निवारण के उपाय (Measures for pollution prevention). पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध in hindi

पर्यावरण प्रदूषण का अर्थ व भूमिका (Meaning and Role of Environmental Pollution)

एनवायरमेंट यानि पर्यावरण का शाब्दिक अर्थ है- चारों ओर का वातावरण, जिसमें हम श्वास लेते है. इसके अंतर्गत वायु, जल, धरती, ध्वनि आदि से युक्त पूरा प्राकृतिक वातावरण आ जाता है.

आज भारत ही नही सारा संसार पर्यावरण प्रदूषण की समस्या से त्रस्त है. वर्तमान में पानी, हवा, रेत मिट्टी आदि के साथ साथ पेड़ पौधे, खेती एवं कर्मी कीट आदि सभी पर्यावरण प्रदूषण से प्रभावित हो रहे है.

अनेक उपायों के बिच संयुक्त राष्ट्र संघ और विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा प्रतिवर्ष 5 जून को पर्यावरण दिवस भी मनाया जाता है., परन्तु पर्यावरण प्रदूषण कम होने का नाम ही नही ले रहा है.

प्रदूषण के कारण (Due to pollution)

आज हमारी सबसे बड़ी समस्या यह रही है कि जिस पर्यावरण में हमारा जीवन पलता है, वही प्रदूषित होता जा रहा है. बड़े छोटे कारखानों से निकलने वाले अपशिष्ट, परमाणु संयंत्रों से बढ़ने वाली रेडियोधर्मिता, शहरों कस्बों से मल जल निकास तथा यातायात के यांत्रिक साधनों के कारण सारा वातावरण प्रदूषित होता जा रहा है.

गैस, धुआं, धुंध, कर्ण कटु ध्वनि आदि भी पर्यावरण प्रदूषण के कारण है. प्रदूषण बढ़ने का एक अन्य कारण जनसंख्या की असीमित वृद्धि भी है.

औद्योगिकीकरण, शहरीकरण एवं यातायात सुविधा आदि के लिए खेतों व वनों को उजाड़ा जा रहा है. इससें भी पर्यावरण का संतुलन बिगड़ा है.

पर्यावरण प्रदूषण का दुष्प्रभाव (Side effects of environmental pollution)

निरंतर जनसंख्या वृद्धि, औद्योगीकरण एवं शहरीकरण तथा प्राकृतिक संसाधनों का अतिशय दोहन होने से पर्यावरण में निरंतर प्रदूषण बढ़ रहा है. इससे मानव के साथ ही वन्य जीवों के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है. जैविक विकास की क्रिया बाधित हो रही है.

आनुवांशिक दुष्प्रभाव पड़ रहा है. तथा बाढ़ व भूस्खलन आदि की भी वृद्धि हो रही है. राजस्थान में इसी कारण रेगिस्तान बढ़ रहा है. बढ़ते हुए पर्यावरण प्रदूषण का सबसे अधिक कुप्रभाव मानव सभ्यता पर पड़ रहा है.

जो कि आगे चलकर इसके विनाश का कारण हो सकता है. धरती पर तापमान की वृद्धि तथा असमय ऋतु परिवर्तन होने से प्राकृतिक वातावरण नष्ट होता जा रहा है.

प्रदूषण निवारण के उपाय (Measures for pollution prevention)

विश्व स्वास्थ्य संगठन प्रदूषण रोकने के अनेक उपाय कर रहा है. भारत सरकार द्वारा प्रदूषण निवारण के लिए ये प्रयास किये जा रहे है.

  1. स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत पेयजल एवं ग्रामीण स्वच्छता कार्यक्रमों पर जोर दिया जा रहा है.
  2. शहरों में मल जल के निकास की उचित व्यवस्था की जा रही रही है.
  3. गंगा आदि नदियों को स्वच्छ रखने के प्रयास किये जा रहे है.
  4. पर्यावरण संरक्षण के लिए जन जागरण किया जा रहा है.
  5. पेड़ पौधों को रोपने तथा वनों की अवैध कटाई रोकने के उपाय किये जा रहे है.
  6. वन संरक्षण के लिए कठोर कानून बनाए गये है.

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध का निष्कर्ष

हमारे देश में पर्यावरण संरक्षण के लिए सरकार द्वारा अनेक कदम उठाए जा रहे है. देश में पर्यावरण संरक्षण से सम्बन्धित पाठ्यक्रम भी प्रारम्भ किया गया है.

बड़े उद्योगों के दूषित अपशिष्टों को जल मल की संशुद्धि के लिए ट्रीटमेंट प्लांट लागाए जा रहे है. साथ ही वृक्षारोपण कार्यक्रम भी चलाए जा रहे है. इन सब उपायों से पर्यावरण में संतुलन रखने का प्रयास किया जा रहा है.

Hope you find this post about ”Essay on environmental pollution in Hindi: meaning, reason, side effects, measures in Hindi” useful. if you like this article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update keep visit daily on hihindi.com.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article about Essay on environmental pollution and if you have more information पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध in Hindi then help for the improvements this article.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *