योग का महत्व पर निबंध | Importance Of Yoga For Students

Importance Of Yoga For Students  daily life Its benefits and advantages essay,योग का महत्व पर निबंध योग न सिर्फ हमारे शरीर को बीमारियों से मुक्त रखने में मदद करता है बल्कि यह जीवन को सही ढंग से जीने का तरीका तथा सकारात्मक एनर्जी भी प्रदान करता है. आज के वैज्ञानिक युग ने हमारे जीवन को भी यंत्रवत बना दिया है, एक मशीन की तरह काम करना और वैसा ही सोचना इसके साइडइफ्फेक्ट है, ऐसे हालातों में अपने मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखना एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आ रहा है. Importance Of Yoga में हम योग का महत्व के बारे में चर्चा करने जा रहे है.योग का महत्व

योग का महत्व | Importance Of Yoga For Students

भले ही विज्ञान की प्रगति के चलते हमारे सुख सुविधा के साधनों में बढ़ोतरी हो गई, मगर शारीरिक तथा मानसिक स्वास्थ्य की एक बड़ी समस्या आज भी उसी रूप में व्याप्त है, जिसका एक ही साधन हो सकता है वो है योग. पाश्चात्य देश भले ही अपने आधुनिक शोध तथा परीक्षणों से दुनियाँ की अधिकाँश बीमारियों का हल ढूढ़ पाए हो मगर मन की शान्ति तथा मानसिक स्वास्थ्य के लिए आज भी उन्हें हमारी पुरातन शिक्षा प्रणाली तथा योग की तरफ ही आना पड़ रहा है.

कई वैज्ञानिक अनुसन्धान यह साबित कर चुके है कि अच्छे मानसिक तथा शारीरिक स्वास्थ्य के लिए योग से बेहतरीन कोई विकल्प नही है. यही वजह है कि आज हमारे योग साधना को पूरी दुनियाँ ने अपनाया है, तथा कई योगगुरुओं के निर्देशन में इस पद्दति की शिक्षा ली जा रही है. 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाना इसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है.

योग का शाब्दिक अर्थ और इतिहास (The literal meaning and history of yoga)

योग शब्द संस्कृत की यज धातु से बना शब्द है, जिसका अर्थ होता है जोड़ना, सम्मलित करना तथा संचालित करना. यदि योग की परिभाषा दी जाए तो योग आत्मा और शरीर को जोड़ने  वाली पद्दति है. इन्हें भारत के प्राचीन छ दर्शनों में शामिल किया गया है. भारतीय गुरुकुल परम्परा के तहत योग शिक्षा गुरुओ द्वारा अपने शिष्यों को दी जाती थी जो इसी क्रम में आगे चलती रहती थी.

आज से तक़रीबन साढ़े पांच हजार पूर्व योग का इतिहास माना जाता है. आज के समय में योगगुरु बाबा रामदेव के इष्ट पतंजली को योग का जनक माना जाता है. हालाँकि पतंजली से पूर्व भी योग प्रचलन में था मगर इन्होने 200 ईसा पूर्व योग सूत्र नामक संस्कृत ग्रन्थ की रचना कर इसे लिखित रूप प्रदान किया.

योग के प्रकार (types of yoga in hindi)

प्राचीन योग शास्त्र के अनुसार योग के पांच प्रकार/रूप बताए गये है. जो निम्न प्रकार है.

  1. हठ योग (इसका सम्बन्ध मनुष्य के प्राण से होता है)
  2. ध्यान योग (इस योग के प्रकार का सम्बन्ध मनुष्य के मन से)
  3. कर्म योग (इसका सम्बन्ध मनुष्य द्वारा की गई सम्पूर्ण क्रियाओं द्वारा)
  4. भक्ति योग (ईश्वरीय प्रेम की भावना)
  5. ज्ञान योग (बुद्धि तथा शास्त्रीय ज्ञान से माना जाता है.)

मगर योग के प्रणेता पतंजली द्वारा योगसूत्र में आठ अंगो का वर्णन किया गया है. योग के अंग कहे जाने वाले आठ प्रकार ये है-

  • यम अहिंसा, सत्य, अपरिग्रह, अस्तेय तथा ब्रह्मचर्य आदि नैतिक नियमों का पालन यम के अंतर्गत आता है.
  • नियम- स्वाध्याय, संतोष, तप, पवित्रता, ईश्वर के प्रति चिन्तन आदि को नियम के अंदर शामिल किया गया है.
  • आसन- अपने मन को एकाग्र करने की विद्या को आसन कहा जाता है पतंजली ने आसनों की संख्या 84 बताई है, उनके द्वारा बताए गये कुछ आसनों के प्रकार इस प्रकार है. शवासन, हलासन, शीर्षासन, धनुराषन, ताड़ासन, सर्वागासन, पश्चिमोतासन, भुजंगासन, चतुष्कोणआसन, त्रिकोणासन, मत्स्यासन, गुरुडासन, भुजंगासन, कोणासन, पदमासन, मयूरासन, शलभासन, धनुरासन, गोमुखासन, सिंहासन, वज्रासन, स्वस्तिकासन, पर्वतासन आदि.
  • प्राणायाम-श्वास की गति को नियंत्रित करना. श्वास की क्रिया को अंदर भरना तथा बाहर निकलना जिनमे कुभन तथा रेचन की क्रियाएँ शामिल है.
  • धारणा-चित को बांधना
  • प्रत्याहार-इन्द्रियों को अपने नियन्त्रण में करना
  • ध्यान-संसार की भौतिक वस्तुओ से अपने मन को हटाकर तीसरी शक्ति के उपर ध्यान केन्द्रं करना.
  • समाधि- योग की सर्वोतम स्थति इसमे साधक पूर्ण एकाकार हो जाता है.

योग का महत्व (Importance of yoga)

अब तक के इस विवरण से स्पष्ट हो चूका है कि मानसिक तथा शारीरिक स्वास्थ्य के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए योग की युक्ति का जन्म हुआ. जो हमारे समस्त उद्देश्यों को प्राप्त करने में सहायक है सच्चे अर्थ में शरीर मन और आत्मा तीनों को जोड़ना ही योग है. इससे इंसान को संतुष्टि, चेतना और शान्ति की प्राप्ति होती है. तथा कई प्रकार के मनोविकारो से छुटकारा मिलता है. यह न सिर्फ मानसिक रूप से मनुष्य को मजबूत बनाता है बल्कि शरीर के विकास तथा मांसपेशियों की मजबूती तथा कार्यक्षमता बढ़ाने में योग की महत्वपूर्ण भूमिका है.

मानव के रक्त परिसंचरण, पाचनक्रिया तथा श्वसन तन्त्र को योग के द्वारा सुचारू रूप से चलाने में मदद करता है. यह हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है तथा विभिन्न प्रकार के रोगों से लड़ने में हमे मदद करता है.

योग के लाभ (Benefits of yoga)

  • योग विद्यार्थियों शिक्षकों तथा शोधकर्ताओं के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है, जो उनके मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ाने के साथ साथ उनकी एकाग्रता को बढ़ाने में भी मदद करता है.  जिससे उनके कार्य में सुगमता हो जाती है.
  • योग स्त्री पुरुष तथा सभी श्रेणी के लोगों के लिए लाभदायक है मगर गर्भवती स्त्री, रोगी तथा विशेष आवश्यकता वाले लोगों को योग ट्रेनर के प्रशिक्षण में इसका अभ्यास करना चाहिए.
  • दिल्ली जैसे शहरों में जहाँ वायु प्रदूषण अपनी चरम सीमा पर है, जिसके कारण बीमार होने की संभावना कई गुना तक बढ़ जाती है, ऐसी स्थति में योग हमारे लिए एक महत्वपूर्ण साधन है जिससे इस समस्या का सामना करने में मदद मिल सकती है.
  • भारतीय योग प्रशिक्षकों के लिए यह आज एक उत्तम रोजगार का साधन भी बनकर सामने आ रहा है. पश्चिम के देश यकायक योग विद्या की तरफ आकर्षित हो रहे है.
  • इस लिहाज से आज के सम्पूर्ण विश्व के परिद्रश्य में योग न सिर्फ किसी राष्ट्र के लिए बल्कि विश्व के सभी देशों के नागरिकों के लिए महत्वपूर्ण साधन बन चूका है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *