सीता पर कविता | poem on sita mata in hindi

सीता पर कविता | poem on sita mata in hindi

लंका में जिन दिनों मेरा निवास था
वहां विलोकी जो दाम्पत्य विडम्बना
उसका ही परिणाम राज्य विध्वस था
भयकर है संयम की अवमानना

होता है यह उचित कि जब दम्पति खिजे
सूत्रपात जब अनबन का होने लगे
उसी समय हो सावधान संयत बने
कलह बीज बिगड़ा मन बोने लगे

यदि चंचलता पत्नी दिखलाएं अधिक
पति तो कभी न त्यागे गंभीरता
उग्र हुए पति के पत्नी कोमल बने
हो अधीर कोई भी तजे न धीरता

तपे हुए की शीतलता है औषधि
सहनशीलता कुछ कलहों की है दवा
शांत चित्ता का अवलम्बन मिल गया
प्रकृति भी हो जाती है हवा

कोई प्राणी दोष रहित होता नही
कितनी दुर्बलताएं है उसमे भरी
किन्तु सुधारे सब बाते है सुधरती
भलाइयों ने सब बुराइयों है हरी

सभी उलझने है सुलझाते सुलझती
गाँठ डालने पर पड़ जाती गाँठ है
रस के भरने से ही रह सकता है
हरा भरा कब होता है उकठा काठ है.

शिवाजी महाराज कविता | भारत भूषण अग्रवाल रचनाएँ... शिवाजी महाराज कविता- महान हिंदी कवि...
माँ पर कविता | Short Poem On mother For Kids Short Poem On mother दुनिया का सबसे...
Happy New Year 2018 Motivational Poem In Hindi हर साल की तरह 2017 भी अपने आखिरी दि...
हम जंग न होने देंगे | Hum Jung Na Hone Denge | Hindi Kavita... Hindi Kavita पूर्व प्रधानमन्त्री और...
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *