निबंध, कविता और Slogen स्वच्छ भारत अभियान पर स्वच्छता का महत्व पर लेख हिन्दी में

निबंध, कविता और Slogen स्वच्छ भारत अभियान पर स्वच्छता का महत्व पर लेख हिन्दी में नमस्कार दोस्तों आज हम मोदीजी के स्वच्छ भारत मिशन पर आपके लिए स्वच्छ भारत अभियान पर नारे ,स्लोगन और स्वच्छ भारत के महत्व पर बात करने जा रहे हैं स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया राष्ट्रिय स्तर का अभियान हैं स्वच्छ भारत का मुख्य उद्देश्य भारत की गलियों ,सडको को स्वव्छ भारत का निर्माण करना हैं

निबंध,कविता और Slogen स्वच्छ भारत अभियान पर

स्वच्छता भारत मिशन – swachh bharat Mission,स्वच्छ भारत योजना का उद्देश्य – Swachh Bhart Plan Mission,स्वच्छ भारत पर सुंदर भारत मराठी निबंध,स्वच्छतेचं महत्त्व,स्वच्छ भारत स्वच्छ स्कूल मिशन,स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत पर भाषण – speech on clean india Healthy india,स्वच्छता पर hindi में निबंध – SVASTHTHA Per hindi me Nibndh,स्वच्छ भारत अभियान में शौचालय का निर्माण – Swachh Bhart Mission ghar-ghar Toilet,SLOGANS ON CLEANLINESS india,Swatchh Bhart per nare स्वच्छ भारत अभियान पर नारे और स्लोगन,स्वच्छ भारत अभियान कविता – poem on Swatchh Bhart Mission,शहरी क्षेत्रों में स्वच्छ भारत मिशन – urban area swachh bharat Mission,ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छ भारत अभियान –rural areas Clean India mission

स्वच्छता भारत मिशन – swachh bharat Mission

स्वच्छ भारत अभियान, भारत सरकार द्वारा किया गया है जिसका उद्देश्य देश की गलियों, सड़कों तथा नालियो को पूरी तरह साफ-सुथरा बनाना है। स्वच्छता भारत मिशन अभियान रास्ट्रपिता महात्मा गाँधी के जन्मदिवस 2 अक्टूबर 2014 को आरम्भ किया गया था ।

गांधी जी ने अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता रखने की शिक्षा प्रदान कर देश को एक उत्कृष्ट संदेश दिया था | इसी बात को मध्यनजर रखते हुए प्रधानमन्त्री श्री मोदी जी की सरकार ने स्वच्छ भारत अभियान चलाया | सरकार के इस अभियान का मुख्य उद्देश्य देश को स्वच्छ,साफ सुथरा,और सुंदर भारत की कल्पना को साकार करना हैं ..

हमारे देश के सभी नवयुवको और बहिनों से – हमारी तरफ से विनती हैं की हम अपने आस पास का माहोल साफ सुथरा रखे, गंदजी न फेलाए और न ही फेलाने दे |

इससे हम और हमारा परिवार और बच्चे और हमारा सम्पूर्ण देश स्वस्थ रहेगा और बीमारीयो से मुक्ति मिल सकती हैं | और हम सभी एक स्वस्थ जीवन जी सकेगे और अपनी पीढियों को एक स्वस्थ भारत दे पायेगे और यही हमारी सरकार का नारा (स्लोगन )हैं,और इस अभियान को हमे जारी रखना हैं और अपने देश को साफ सुथरा बनाना हैं

स्वच्छ भारत योजना का उद्देश्य – Swachh Bhart Plan Mission

  1. देहाती क्षेत्रों में सामान्य जीवन स्तर में सुधार करना।
  2.  भारत के सभी ग्राम पंचायतों द्वारा स्वच्छ स्थिति प्राप्त करने के साथ 2019 तक स्वच्छ भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए स्वच्छता के कार्य में तेजी लाना।
  3. लोंगो में जागरूकता बढ़ाना और स्वास्थ्य शिक्षा के माध्यम से स्थायी स्वच्छता सुविधाओं को बढ़ावा देने वाले समुदायों और पंचायती राज संस्थाओं को प्रेरित करना।
  4. व्यवाहरिक रूप से सुरक्षित और स्थायी स्वच्छता के लिएसस्ती तथा उपयुक्त प्रौद्योगिकियों को बढ़ावा देना।
  5.  ग्रामीण भागो में पूर्ण स्वच्छता के लिए ठोस और तरल अपशिष्ट प्रबंधन पर विशेष ध्यान देते हुए, समुदाय प्रबंधित पर्यावरणीय स्वच्छता पद्धति को अपनाना

स्वच्छ भारत पर सुंदर भारत मराठी निबंध

स्वच्छतेचं महत्त्व

आयुष्यात स्वच्छतेचे महत्त्व किती आहे हे तुम्हाला अनेक वेळा सांगितले जाते. तुम्हीही स्वतः या गोष्टींचा अनुभव घेतला असेल. देहाची स्वच्छता ठेवली की मन प्रसन्न होते, घर, परिसर स्वच्छ ठेवली की मन प्रसन्न होते. आपले घर, परिसर स्वच्छ ठेवणे हे प्रत्येक माणसाचे कर्तव्य आहे. त्यामुळे रोगराई पसरत नाही हे तुम्ही विज्ञानाच्या पुस्तकात अनेकदा वाचले असेल.

स्वच्छता एक चांगली सवय, आम्हाला सर्व फार महत्त्वाची आहे आणि आमच्या आरोग्य पेपर अतिशय उपयुक्त आहेत जे आहे |

आपले घर, पाळीव प्राणी, त्यांच्या सभोवतालच्या पर्यावरणावर, तलाव, नदी, शाळा स्वच्छता समावेश स्वत: ला शारीरिक आणि मानसिक स्वच्छ पाळणे एक सवय आहे. आम्हाला स्वतः सर्व वेळ: ला शुद्ध ठेऊ, स्वच्छ आणि चांगले कपडे असणे आवश्यक आहे. बनवून समाजात चांगले व्यक्तिमत्व आणि प्रभाव तो आपल्या चारित्र्य चांगले दाखवते कारण मदत करते. पृथ्वीवर जीवन शक्य करण्यास तो सदैव पर्यावरण आणि नैसर्गिक संसाधने राखण्यासाठी आपल्या शरीरात स्वच्छता तो म्हणाला.स्वच्छता, मानसिक वास्तविक, सामाजिक व बौद्धिक heals प्रत्येक मार्ग.

आम्ही नेहमीच नोंद उपासना घर आमच्या आजी आणि स्वच्छता खूप कडक आई आधी ते भिन्न बाब आहे, उद्भवते, ती फक्त स्वच्छता सवय करू इच्छिते. पण तो स्वच्छता फायदे नाही कारण चुकीचे दृष्टिकोण लागतो आणि अशा प्रकारे आम्ही आमचे ध्येय स्वच्छता खालील अडचणी.

प्रत्येक परवानगी पालक तार्किकदृष्ट्या स्वच्छता, फायदे आणि गरजा उद्देश बद्दल आणि त्यांच्या मुलांना बोलणे आवश्यक आहे. त्याला अवश्य सांगू आवश्यक आहेस्वच्छता, आपल्या जीवनात प्रथम प्राधान्य आहे अन्न आणि पाणी आहे.आपल्या भावी तेजस्वी आणि निरोगी करण्यासाठी, आम्ही नेहमी स्वतःला आणि त्यांच्या सभोवतालच्या पर्यावरणावर काळजी घेणे, तो म्हणाला. आम्ही साबण, नखे सुव्यवस्थित, स्वच्छ आणि ironed कपडे इ दररोज काम केले पाहिजे.

स्वच्छ आणि घर स्वच्छ राखण्यासाठी कसे आम्ही त्यांचे आई शिकले पाहिजे. आपण स्वच्छ आसपासच्या वातावरणात ठेवणे आवश्यक आहे, त्यामुळे कोणत्याही रोग पसरला नाही.काही धान्य आधी आणि खाल्ल्यानंतर साबणाने हात धूत पाहिजे. स्वच्छ आणि शुद्ध पाणी दिवस पाणी प्यायला पाहिजे, आम्ही मसालेदार आणि पेय टाळणे तितकी बाहेर खाणे टाळावे करावे.

स्वच्छ भारत स्वच्छ स्कूल मिशन (clean india School Mission)

आज स्वच्छ भारत-स्वच्छ विद्यालय अभियान सभी राजकीय विद्यालयों और केंद्रीय विद्यालयों और नवोदय विद्यालय संगठन में चलाया जा रहा है। इस अभियान में शामिल हैं ये गतिविधियों निम्न हैं –

1 कक्षाकक्ष एव प्रयोगशाला और पुस्तकालयों आदि की साफ सफाई करना।
2 . विद्यालय में लगाई जाने वाली किसी भी मूर्ति या स्कूल की स्थापना करने वाले व्यक्ति के योगदान के बारे में बात करना और इस मूर्तियों की साफ सफाई करना।
3 . स्कूल के शौचालयों और पीने के पानी वाले क्षेत्रों की साफ़ सफाई करना।
4 . रसोईघर और स्टोर रूम की सफाई करना।
5 . खेल के मैदान की साफ़ सफाई करना
6 . बगीचों का रखरखाव और सफाई करना।
7 . विद्यालय के सभी भवनों का वार्षिक रखरखाव रंगाई एवं पुताई के साथ।
8 . निबंध प्रतियोगिता ,वाद-विवाद, चित्रकला, सफाई और स्वच्छता पर प्रतियोगिताओं का आयोजन करना ।
9 . प्रारम्भिक शालाओ के दौरान प्रतिदिन बच्चों के साथ सफाई और स्वच्छता के विभिन्न पहलुओं पर SBAविशेष रूप से महात्मा गांधी की स्वच्छता और अच्छे स्वास्थ्य से जुड़ीं शिक्षाओं को समझाना और व्यवहार में उतरने के लिए प्रेरित करना

10. बाल मंत्रिमंडलों का चुनाव करवाना व निगरानी दल बनाना और सफाई अभियान की निगरानी करना।
इसके अलावा, किसी फिल्म शो, स्वच्छता पर निबंध / पेंटिंग और अन्य प्रतियोगिताएं, नाटकों आदि का आयोजन करवाके स्वच्छता एवं अच्छे स्वास्थ्य का massage देना ।

शिक्षा विभाग ने इसके अलावा स्कूल के छात्रों, शिक्षकों, अभिभावकों और समुदाय के सदस्यों को शामिल करते हुए 7 दिनों में कम से कम दो बार आधे घंटे तक साफ़ सफाई अभियान शुरू करने का प्रस्ताव रखा है

स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत पर भाषण – speech on clean india Healthy india

स्वच्छ भारत मिशन pm नरेंद्र मोदी द्वारा चलाया गया भारत सरकार का एक एक राष्ट्रव्यापी सफाई अभियान है। जिनका प्रारम्भ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महात्मा गांधी के 145 वें जन्मदिन के अवसर पर 2 अक्टूबर 2014 को की| यह मिशन सम्पूर्ण देश में साफ सफाई केलक्ष्य को पूरा करने के लिएप्रारम्भ किया गया था ।

मोदीजी ने देशवासियों से अपील की है की वो स्वच्छ भारत मिशन से जुड़े और अन्य लोगो को भी इससे जुड़ने की प्रेरित करे ताकि हमारा देश संसार का सबसे अच्छा और साफ़ राष्ट्र हो सके| इस मिशन की शुरुवात स्वयं नरेंद्र मोदी ने सड़क की सफाई कर के की थी|

स्वच्छ भारत अभियान देश का राष्ट्रव्यापी साफ़ सफाई अभियान है जिसके शुभारम्भ में तकरीबन 30 लाख स्कूलों और कॉलेजों के छात्रों और सरकारी कर्मचारियों ने हिस्सा लिया था ।

इस कार्यक्रम के शुभारंभ के दिन प्रधानमंत्री ने नौ हस्तियों के नामो की घोषणा की और उनसे अपने क्षेत्र में सफाई अभियान को बढाने और आम जनता को उससे जुड़ने के लिए प्रेरित करने को कहा| मोदीजी ने यह भी बताया कि इन सितारों को अगले 9 लोगो को इससे जुड़ने के लिए प्रेरित करना है और ये सीरिज तब तक चले जब तक कीसम्पूर्ण देश तक इसका सन्देश न पहुंच जाये|

मोदी जी कहा कि हर एक भारतीय इसे एक चुनौती के रूप में ले और इसे सफल अभियान बनाने के लिए अपना पूरा प्रयास करे। नौ लोगों की सीरिज उस पेड़ पेड़ की एक शाखाओं की तरह है।

मोदी ने देश की आम जनता को इससे जुड़ने के लिए निवेदन किया और कहा की वे सफाई की फोटो सोशल साईट जैसे की फेसबुक, ट्विटर व अन्य वेबसाइट पर भी डालें और अन्य लोगो को भी इस कार्यकर्म से जुड़ने के लिए प्रेरित करे। इस तरह हमारा भारत एक स्वच्छ देश हो सकता है।

स्वच्छता पर hindi में निबंध – SVASTHTHA Per hindi me Nibndh

हर इंसान के लिए स्वच्छता एक अच्छी आदत हैआज सभी के लिये ये जानना बहुत जरुरी है और हमारे स्वास्थ्य के लिय अत्यंत लाभकारी हैं | अपने घर के पालतू जानवर, और अपने आस-पास, वातावरण , तालाब, नदी, स्कूल आदि सहित स्वच्छता एक आदत है स्वय को शारीरिक और मानसिक तौर पर स्वच्छ रखने की। हर समय खुद शुद्ध, स्वच्छ और अच्छे से कपड़े पहन कर रहना चाहिये।हमारे समाज में अच्छे व्यक्तित्व और प्रभावी को बनाने में काफी हेल्प करता है

क्योंकि ये आपके अच्छे चरित्र को दिखाता है। धरती पर हमेशा के लिये जीवन को संभव बनाने के लिये अपने शरीर की सफाई के साथ पर्यावरण और प्राकृतिक संसाधनों को भी बनाए रखना भी बहुत जरुरी है ।स्वच्छता हमें मानसिक, शारीरिक, सामाजिक और बौद्धिक हर तरीके से स्वस्थ बनाता है। हमें अपने घर में ये ध्यान दिया है कि हमारी दादी और माँ पूजा से पहले सफाई को लेकर काफी सख्त होती है, ये कोई नई बात नहीं है,

वो साफ-सफाई को हमारी आदत बनाना चाहती है। फिर भी वो गलत तरीका अपनाती है क्योंकि वो स्वच्छता के उद्देश्य और फायदे को नहीं बताती है इसी वजह से हमें स्वच्छता को फॉलो करने में दिक्कत आती है।

हर एक माता पिता को तार्किक रुप से स्वच्छता के उद्देश्य, फायदे और आवश्यकता के बारे में अपने बच्चों से बात करनी चाहिये और उन्हें बताना चाहिये कि स्वच्छता हमारी जिन्दगी में खाने और पानी की तरह पहली जरुरत भी है।

अपने और हमारी आने वाली पीढियों को स्वस्थ बनाने के लिये हमें स्वय का और अपने आस-पास के वातावरण काध्यान रखना चाहिये। हमे नित्य साबुन से नहाना,हाथो और पेरो के नाखुनों को काटना, साफ औरप्रेस किये हुए कपड़े पहनना आदि कार्य जो हमे रोज करना चाहिये। अपने घर को कैसे स्वच्छ और शुद्ध बनाए ये हमें माता पिता से जरुर सीखना चाहिये।

हमें अपने आसपास के पर्यावरण को साफ-सुथरा रखना होगा जिससे किसी भी प्रकार की बीमारी न फैले। कुछ खाने से पहले और खाने के बाद साबुन से हाथ धोना चाहिये।

हमें पूरे दिन साफ और शुद्ध पानी पीना चाहिये, बाहर के खाने से बचना चाहिये साथ ही ज्यादा मसालेदार और तैयार पेय पदार्थों से परहेज करना चाहिये अच्छा और हाथो से बना पोष्टिक आहार लेना चाहिए जिससे बीमारियाँ नहीं होने की सम्भावना रहती हैं

स्वच्छ भारत अभियान में शौचालय का निर्माण – Swachh Bhart Mission ghar-ghar Toilet

नीट एन्ड क्लीन इंडिया मिशन ग्रामीण एवं लोहिया स्वच्छता योजना के तहत शौचालय निर्माण कराने वाले परिवार को सरकार द्वारा सहयोग राशि दी जाती हैं ।

शौचालय निर्माण योजना के तहत गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले सभी घर-परिवारों तथा गरीबी रेखा से उपर वाले अनुसूचित जाति-जनजाति, लघु एवं सीमात किसानों, भूमिहीन श्रमिकों, शारीरिक रूप से विकलाग और महिला प्रमुख परिवारों को पारिवारिक शौचालय, जिसमें सफाई एवं हाथ धोने के लिए पानी भंडारण की सुविधा हो, शौचालय के निर्माण केबाद 12000 रूपए की सहयोग राशि के रूप में दी जाती हैं

SLOGANS ON CLEANLINESS india , Swatchh Bhart per nare स्वच्छ भारत अभियान पर नारे और स्लोगन

1.हम सब का एक ही नारा, साफ सुथरा हो देश हमारा

2 . सफाई अपनाये, बीमारी हटाइये

3 . स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत

4 . करें हम ऐसा काम, बनी रहेगी देश की शान

5 . साफ सुथरा मेरा मन, देश मेरा सुन्दर हो, प्यार फैले सड़को पर, कचरा डिब्बे के अन्दर हो

6 . हम सब ने अब ये ठाना हैं, भारत स्वच्छ बनाना है

7 . स्वच्छता का दीप जलाएँगे, चारो ओर उजियाला फैलाएँगे

8 . सभी रोगों की एक दवाई घर मे रखो साफ सफाई

स्वच्छ भारत अभियान कविता – poem on Swatchh Bhart Mission

स्वच्छता संकल्प है इसको ग्रहण अब कीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

जिस धरा पर जन्म ले जिस अन्न जल से पल रहे,
उस धरा की स्वच्छता के हेतु हम क्या कर रहे?
यह करें चिंतन सदा और कर्म भी कुछ कीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

ग़ाँव गलियां स्वच्छ हों मानव स्वयं सब स्वच्छ हों,
स्वच्छ भोजन स्वच्छ पानी से सभी जन स्वस्थ हों।
लक्ष्य है जन जागरण यह प्रण प्रबल अब कीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

स्वच्छता सद्कर्म है इसको बनाना धर्म है,
है यही आराधना अपना यही अब कर्म है।
स्वर्ग सी हो यह धरा संकल्प ऐसा लीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

यह रहे अब लक्ष्य नदियाँ ना करें दूषित कभी,
हर तरफ हो स्वच्छता सरिता बनें निर्मल सभी.
भावना हो पूत पावन ज्ञान ऐसा दीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

स्वास्थ्य शिक्षा हो सभी को स्वच्छता का ज्ञान हो,
स्वच्छता के मूल्य की सबको यहाँ पहचान हो।
स्वच्छता अनमोल है स्वीकार इसको कीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

एक -एक मिलें यहाँ तो राष्ट्र बन जायेंगे हम,
खुद बनें यदि स्वच्छ तो यह राष्ट्र कर दें स्वच्छ हम
यह अनोखी योजना साकार इसको कीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

शहरी क्षेत्रों में स्वच्छ भारत मिशन – urban area swachh bharat Mission

स्वच्छ भारत अभियान का मुख्य उद्देश्य 1.04 करोड़ परिवारों को लक्ष्य बनाते हुए 2.5 लाख समुदायिक शौचालय, 2.6 लाख सार्वजनिक शौचालय, और हर शहर में एक ठोस अपशिष्ट प्रबंधन की सुविधा देना है। इस योजना के तहत रहवासी क्षेत्रों में जहाँ व्यक्तिगत और घरेलू शौचालयों का निर्माण करना कठिन है

वहाँ पर सामुदायिक शौचालयों को बनाना हैं । पर्यटन स्थलों, बाजारों, बस स्टेशन, रेलवे स्टेशनों जैसे व्यस्त स्थानों पर भी सार्वजनिक शौचालय का निर्माण करवाया जाएगा। यह कार्यक्रम के तहत पाँच वर्ष के समय में 4401 शहरों में लागू किया जाएगा। कार्यक्रम पर खर्च किये जाने वाले कुल 62,009 करोड़ रुपये में केंद्र की सरकार की तरफ से 14623 करोड़ रुपये उपलब्ध कराए जाएगें।

सरकार से प्राप्त होने वाले 14623 करोड़ रुपयों में से 7366 करोड़ रुपये ठोस अपशिष्ट प्रबंधन पर,4,165 करोड़ रुपये व्यक्तिगत और घरेलू शौचालयो पर,1828 करोड़ रुपये जागरूकता पर और समुदाय शौचालय बनवाये जाने पर 655 करोड़ खर्च किये जाएंगे।

इस मिशन में खुले में शौच, अस्वच्छ शौचालयों को आधुनिक शौचालय में बदलना ,और मैला ढ़ोने के रिवाज को खत्म करने, नगरपालिका ठोस अपशिष्ट प्रबंधन और स्वस्थ एवं स्वच्छता से जुड़ीं रीती रिवाजो के संबंध में लोगों के व्यवहार में बदलाव लाना ये सारे कार्यक्रम शामिल हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छ भारत अभियान –rural areas Clean India mission

सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता के निमित निर्मल भारत अभियान कार्यक्रम चलाया जा रहा हैं | जिसमें लोगों की स्वच्छता सम्बन्धी आदतों को बेहतर बनाना, खुद सुविधाओं की माँग तेयार करना और स्वच्छता सुविधाओं को उपलब्ध करना, जिससे ग्रामीण क्षेत्र के लोंगो का जीवन स्तर को उपर उठाया जा सके।

स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य आने वाले पांच सालो में भारत को खुला शौच से मुक्त राष्ट्र बनाना है। इस मिशन के तहत देश में लगभग 11 करोड़ 11 लाख शौचालयों के निर्माण के लिए एक लाख चौंतीस हज़ार करोड़ रुपए खर्च किये जाएंगे।

इतने बड़े पैमाने पर तकनीकी का प्रयोग कर ग्रामीण भारत में कचरे का प्रयोग उन्हें आजीविका का रुप देते हुए जैव उर्वरक और ऊर्जा के विभिन्न रूपों में परिवर्तित करने के लिए किया जाए

सरकार के स्वच्छ भारत अभियान को राष्ट्रिय स्तर पर प्रारंभ कर ग्रामीण आबादी और स्कूल शिक्षकों और छात्रों के बड़े वर्गों के अलावा सभी स्तर पर इस प्रयास में देश भर की सभी ग्रामीण पंचायत,पंचायत समिति और जिला परिषद को इस अभियान से जोड़ना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *