5 Lines On Water In Hindi | जल पर कुछ पक्तियां

5 Lines On Water In Hindi : यह नारा नही तथ्य है कि जल ही जीवन है. जल न होगा तो न तो पृथ्वी पर जीवन बचेगा और न ही पेड़ पौधे, पशु, पक्षी कुछ भी नही. हमें जब तक जल प्राप्त है हमारी साँसे चल रही है, जिस दिन यह समाप्त हो गया, हमारी सांसे भी थम जाएगी, जल का बड़ा महत्व है आज के Five sentences about uses of water in hindi के इस लेख में हम 10 lines on importance of water, 5 uses of water,important facts of Water में आपकों जल का महत्व बता रहे हैं.

5 Lines On Water In Hindi | जल पर कुछ पक्तियां5 Lines On Water In Hindi | जल पर कुछ पक्तियां

जल है तो ही जीवन है.


बिना जल हम कुछ भी नहीं कर सकते है.


यदि जल नही होगा तो हम चल, फिर, नहाना, धोना यहाँ तक जिन्दा भी नहीं रहेगे.


जल का कोई विकल्प नही है, जिसके सहारे इन्सान, जीव, जन्तु वृक्ष आदि जीवित रह सके.


पानी ही हमारी प्यास को शांत करता है तथा वृक्षों को हरा भरा बनाए रखता है.


Important facts of water in Hindi. “जल ही जीवन है”

  1. हर साल संयुक्तराष्ट्र के तत्वाधान में 22 मार्च को विश्व जल दिवस मनाया जाता हैं.
  2. पानी अर्थात तीनो अवस्थाओं में (जल, बर्फ, भाप) के रूप में पाया जाता हैं.
  3. जल का टुकड़ा बर्फ पर तैर सकता है इसका कारण बर्फ का घनत्व जल से कम होना हैं.
  4. धरातल पर कुछ जल का मात्र एक प्रतिशत ही पेय योग्य है. शेष समुद्री जल अथवा हिम ग्लेशियर के रूप में हैं.
  5. शरीर में ताकत बढ़ाने का एक तरीका सुबह जल का सेवन करने से है, यदि आप ऐसा करते है तो ताकतवर बन सकते है इस प्रथा की शुरुआत जापान से हुई थी,
  6. हमारे घरों में मटकी से ज्यादा जल का उपयोग बाथरुम में होता हैं.
  7. एक आदमी को दिन में पीने के पानी के बराबर जल टॉयलेट में तथा तीन गुना जल की आवश्यकता नहाने धोने की हैं.
  8. विश्व की बहुत सी भविष्यवाणी जल के सम्बन्ध है जिनमें तीसरे वल्ड वॉर का कारण भी जल बताया गया हैं. भारत पाकिस्तान के मध्य विवादों में एक कारण जल हैं देश के कई राज्यों के मध्य टकराव भी जल बंटवारे को लेकर हैं.
  9. मिनरल वाटर की बोतल पर लिखी वैधता का अर्थ पानी की वैधता से न होकर बोतल की वैधता से होता हैं.
  10. जल में अधिकतम साँस रोके जाने का विश्व कीर्तिमान 24 मिनट का हैं.
  11. हाथी की जल के प्रति संवेदनशीलता सर्वाधिक होती है वह 5 किमी दूरी से भी जल स्रोत का अनुमान लगा लेता हैं.

Article On Save Water In Hindi Language | जल पर अनुच्छेद

जीवन का मुख्य आधार जल हैं. मानव, जन्तु एवं वनस्पति जगत सभी जल पर निर्भर करते हैं. पृथ्वी पर जल की उपलब्धता के कारण ही जीवन संभव हैं. विश्व की प्रमुख सभ्यताओं का विकास जल स्रोतों के निकट हुआ हैं  नदियाँ, झीलें तालाब, सागर भूमि गत जल आदि हमारे प्रमुख जल स्रोत हैं. इन्हें जल वर्षा से प्राप्त होता हैं. विश्व के विभिन्न प्रदेशों के जल स्रोत वर्षा के वितरण से प्रभावित होते हैं.

पृथ्वी पर विद्यमान समस्त जल का लगभग 25 प्रतिशत से भी कम जल पीने योग्य है जिसे मीठा या स्वच्छ जल कहते हैं. अधिक जनसंख्या तथा कम वर्षा वाले क्षेत्रों में प्रति व्यक्ति स्वच्छ जल की उपलब्धी कम हैं. जैसे भारत, सहारा मरुस्थल. धुर्वीय क्षेत्रों में जनसंख्या की तुलना में जल अनुपात अधिक हैं.

वर्षा का जल जब भूमि के अंदर प्रवेश कर नीचे की कठोर चट्टानों के ऊपर एकत्रित हो जाता हैं तो उसे भूमिगत जल कहते हैं. विश्व के विभिन्न हिस्सों में भूमिगत जल की गहराई भिन्न भिन्न हैं. भूमिगत जल स्तर में ऋतुओं के अनुसार भी परिवर्तन आता हैं. वर्तमान में विश्व में भूमिगत जल का स्तर कम वर्षा, अधिक सिंचाई, उद्योगों में जल की बढती मांग तथा जनसंख्या वृद्धि आदि कारणों से तेजी से घटता जा रहा हैं.

प्राकृतिक शुद्ध जल में जब अवांच्छित तत्व मिल जाते हैं तो जल पीने योग्य या मानवीय उपयोग के लिए अनुपयुक्त हो जाता हैं इसे जल प्रदूषण कहते हैं. जल प्रदूषण को रोकने के प्रयास व्यक्तिगत व प्रशासनिक दोनों स्तरों पर किये जा सकते हैं. जल के दुरूपयोग को रोककर स्वच्छ जल को लम्बे समय तक बचाकर रखना जल संरक्षण कहलाता हैं. जल का संरक्षण परम्परागत तथा आधुनिक विधियों से किया जा सकता हैं.

यह भी पढ़े.

5 Lines On Water In Hindi का यह छोटा सा लेख आपकों पसंद आया होगा, आप भी यहाँ 5, 10 लाइन जल बचाओ, सेव वाटर के सम्बन्ध में कमेंट में लिखे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *