गाय का धार्मिक महत्व हिन्दू इसलिए मानते है माँ | About Cow In Hindi

About Cow In Hindi: गावो विश्वस्य मातर: अर्थात गाय विश्व की माता है, सूर्य, वरुण, वायु आदि देवताओं को यज्ञ होम में दी हुई आहुति से जो खुराक पुष्टि मिलती है, वह गाय के घी से ही मिलती है. होम में गाय के घी की ही आहुति दी जाती है, जिससे सूर्य की किरने पुष्ट होती है. किरणों के पुष्ट होने से वर्षा होती है और वर्षा से सभी प्रकार के अन्न, पौधे, घास आदि पैदा होते है, जिससे सम्पूर्ण स्थावर- जंगम, चर, अचर प्राणियों का भरण पोषण होता है.

गाय का धार्मिक महत्व हिन्दू इसलिए मानते है माँ | About Cow In Hindi

हिन्दुओं के गर्भाधान, जन्म, नामकरण आदि जितने भी संस्कार है, उन सब में गाय के दूध, घी, गोबर आदि की मुख्यता होती है. द्विजातियों को जो यज्ञोपवीत दिया जाता है उसमे गाय का पंचगव्य (दूध, दही, घी, गोबर और गौमूत्र) का सेवन कराया जाता है.

यज्ञोपवीत संस्कार होने पर वे वेद पढ़ने के अधिकारी होते है, जहाँ विवाह संस्कार होता है, वहाँ भी गाय के गोबर का लेप करके शुद्धि करते है. विवाह के समय गोदान का विशिष्ट महत्व है. पुराने जमाने में वाग्दान (सगाई) के बैल दिया जाता था. जननाशौच और मरणाशौच मिटाने के लिए गाय का गोबर और गोमूत्र ही काम में लिया जाता है, क्योकि गाय के गोबर में लक्ष्मी का गोमूत्र में गंगाजी का निवास है.

जब मनुष्य बीमार हो जाता है, तब उसको गाय का दूध पीने के लिए देते है, क्योकिं गाय का दूध तुरंत बल, शक्ति देता है. अगर बीमार मनुष्य को अन्न भी न पचे तो उसके पास गाय के घी और खाद्य पदार्थों की अग्नि में आहुति देने पर उसके धुंए से उसको खुराक मिलती है. जब मनुष्य मरने लगता है तब उसके मुह में गंगाजल या गाय का दही देते है.

इसका कारण यह है कि कोई मनुष्य यात्रा के लिए रवाना होता है तो उसे गाय का दही देना मांगलिक होता है, जो सदा के लिए यहाँ से रवाना हो रहा है उसको गाय का दही अवश्य देना चाहिए जिससे परलोक में उसका मंगल हो. अंत काल में मनुष्य को जैसे गंगाजल देने का महात्म्य है, वैसा ही महात्म्य गाय का दही देने का है.

वैतरणी से बचने के लिए गोदान किया जाता है. श्राद्ध कर्म में गाय के दूध की खीर बनाई जाती है, क्योकि पवित्र होने से इस खीर से पितरों को अधिक तृप्ति होती है. मनुष्य, देवता पितर आदि सभी को गाय के दूध घी आदि से पुष्टि मिलती है. अतः गाय विश्व की माता है.

गाय के अंगो में सम्पूर्ण देवताओं का निवास बताया जाता है. गाय की छाया भी बड़ी शुभ मानी गई है. यात्रा के समय गाय या सांड दाहिने आ जाए तो शुभ माना जाता है. और उसके दर्शन से यात्रा सफल हो जाती है.गाय के शरीर का स्पर्श करने वाली हवा भी पवित्र होती है. उसके गोबर गोमूत्र भी पवित्र होते है. जहाँ गाय बैठती है, वहां की भूमि पवित्र होती है, गाय के चरणों की रज (धूल) भी पवित्र होती है.

गाय से अर्थ, काम और मोक्ष इन चारो की सिद्धि होती है. गोपालन से, गाय के दूध, घी, गोबर आदि से धन की वृद्धि होती है. कोई भी धार्मिक कृत्य गाय के बिना नही होता है. सम्पूर्ण धार्मिक कार्यों में गाय का दूध, दही, घी, गोबर काम में आता है, कामनापूर्ति के लिए किये जाने वाले यज्ञों में भी गाय का घी काम आता है.

बाजीकरण आदि प्रयोगों में गाय के दूध और घी की मुख्यता रहती है. निष्काम भाव से गाय की सेवा करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है. गाय की सेवा करने मात्र से अंतकरण निर्मल होता है. भगवान श्रीकृष्ण ने भी नगे पाँव गायो को चराया था. जिससे उनका नाम गोपाल पड़ा.

प्राचीनकाल में ऋषिलोग वन में रहते हुए अपने पास गाये रखा करते थे. गाय के दूध घी का सेवन करने से उनकी बुद्धि बड़ी विलक्षण हुआ करती थी, जिससे वे बड़े बड़े ग्रंथो की रचना किया करते थे. आज कल तो उन ग्रंथो को तो ठीक ठाक समझने वाले भी कम है. गाय के दूध घी से दीर्घायु होते थे.

गाय के घी का एक नाम आयु भी है. बड़े बड़े राजा लोग उन ऋषियों के पास आते थे और उनकी सलाह से राज्य चलाते थे. गाय इतनी पवित्र है कि देवताओं ने भी अपना निवास स्थान बनाया है. जिसका गोबर और गोमूत्र इतना पवित्र है, फिर वह स्वयं कितनी पवित्र होगी.

एक बार गाय का पूजन करने से सब देवताओं का पूजन हो जाता हैं जिससे सब देवताओं को पुष्टि मिलती है. पुष्ट हुए देवताओं के द्वारा सम्पूर्ण सृष्टि का संचालन, पालन, रक्षण होता है.

गां च स्प्रश्ती यों नित्यं स्नातों भवति नित्यशः
अतो मर्त्यः प्रपुष्टस्तु सर्वपापै: प्रमुच्यते
गवां रज: खुरोभ्दूत शिरसा यस्तु धारयेत्
स च तीर्थजले स्नातः सर्वपापै: प्रमुच्यते
जो मनुष्य प्रतिदिन गौ का स्पर्श करता है, वह प्रतिदिन तीर्थ में स्नान करने का फल प्राप्त करता है. गौ के द्वारा मनुष्य सर्वविध घोर पापों से मुक्त हो जाता है. जो मनुष्य गौ के खुर से उड़ी धूलि को अपने मस्तक पर धारण करता है, वह समस्त तीर्थों के जल में स्नान करने का फल प्राप्त करता है और समस्त पापों से छुटकारा पा जाता है.

Hope you find this post about ”About Cow In Hindi” useful. if you like this article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update keep visit daily on hihindi.com.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article about a COW, GAAY and if you have more facts about Indian cow Wikipedia information definition then help for the improvements this article.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *