Adversity Quotes in Hindi | विपत्ति या दुर्भाग्य पर सुविचार

Adversity Quotes in Hindi – विपत्ति (Adversity) जीवन का वह कठिनाई भरा समय होता हैं, जिसमें साथ खड़े होने वालों की संख्या सबसे कम होती हैं, जब उस समय जरूरत की सबसे अधिक आवश्यकता होती हैं. दुर्भाग्य कहे या मुशिबत के समय पर यहाँ आपके लिए कुछ सुविचार अनमोल वचन कोट्स उद्धरण स्लोगन प्रस्तुत कर रहे हैं. Adversity Quotes में हम जानेगे कि विपत्ति का समय कैसा होता हैं कौन इसमें साथ देता है तथा इन्सान किस तरह इससे छुटकारा पाता हैं.

विपत्ति या दुर्भाग्य पर सुविचार

विपत्ति या दुर्भाग्य पर सुविचार

Difficulties Thoughts Adversity Quotes in Hindi

कष्ट के उपयोग मधुर होते हैं.


जिसने कष्ट नही भोगा, वह अपनी शक्ति से अनभिज्ञ रहता हैं.


सौभाग्य बुराई का उद्घाटन करता हैं, परन्तु दुर्भाग्य अच्छाई का सर्वोत्तम उद्घाटन करता हैं.


विपत्ति व्यक्ति को स्वयं से परिचित करवा देती हैं.


विपत्ति को सदा से वह दशा समझा गया हैं. जिसमें मनुष्य सरलतम रूप में स्वयं से परिचय प्राप्त करता हैं, विशेषकर इस कारण कि वह चाटुकारों से मुक्त हो जाता हैं.


याद रखों जीवन में कुछ भी स्थायी नही हैं, अतएवं सौभाग्य पर असामान्य रूप से प्रफुल्लित मत हो, तथा दुर्भाग्य पर अत्यधिक उदासीन मत बनो.


उस व्यक्ति से अधिक अभागा कोई नही हैं, जिसने दुर्भाग्य नही देखा. जीवन की सबसे बड़ी पीड़ा यह है कि कभी पीड़ा भुगतनी न पड़े.


विपत्तियाँ मस्तिष्क को को शक्तिशाली बनाती हैं, जिस प्रकार श्रम शरीर को.


ओ कटुतापूर्ण दुर्भाग्य मुझे अपना आलिंगन करने दे, ज्ञानीजन का कहना है कि यह सर्वाधिक ज्ञान का मार्ग हैं.


दुर्भाग्य के अनुभव के समान कोई शिक्षा नही होती हैं.


अनेक व्यक्ति दुर्भाग्य/ विपत्ति को झेल लेते हैं, परन्तु बहुत थोड़े लोग इससे घ्रणा करते हैं.


याद रखिये, जब वस्तु गंदी या मैली हो जाती हैं, तो रगड़ने के उपरांत उसकी चमक प्रकट हो जाती हैं.


पतंग हवा की दिशा में नही, उसकी विपरीत दिशा में उड़ती हैं. किसी मनुष्य ने श्मशान की शांति में अपने मार्ग का निर्माण नही किया हैं.


बिना घर्षण के हीरे पर चमक नही आती हैं, बिना संघर्ष के मनुष्य पर निखार नही आता हैं.


अत्यधिक उदारता, अत्यधिक तप तथा सत्य के प्रति अध निष्ठां दुर्भाग्य के हेतु बनते हैं.


प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *