प्राचीन भारत के विज्ञान आविष्कार | Ancient India Inventions

Ancient India Inventions In Hindi वेदों में ज्ञान की बहुत सारी बाते भरी पड़ी है. आज का विज्ञान जो खोज रहा है वह बहुत पहले ही खोजा जा चूका है. बस फर्क इतना है कि आज का विज्ञान जो खोज रहा है उसे वह अपना आविष्कार बता रहा है और उस पर पश्चिम देशों के वैज्ञानिकों के लेबल लगा रहा है. हालाँकि यह इतिहास सिद्ध है कि भारत का विज्ञान और धर्म अरब के रास्ते यूनान पहुचा और यूनानियों ने इस ज्ञान के दम पर जो आविष्कार किये और सिद्धांत बनाए उससे आधुनिक विज्ञान को मदद मिली. भारत के उन महान दस ऋषियों और उनके आविष्कार (famous indian scientists and their inventions) के बारे में सक्षिप्त जानकारी प्रस्तुत है.Ancient India Inventions

प्राचीन भारत के विज्ञान आविष्कार | Ancient India Inventions

परमाणु सिद्धांत के आविष्कारक महर्षि कणाद (inventor of atomic principle Maharishi Kanad)

परमाणु बम के बारे में आप सभी जानते है. यह कितना खतरनाक है यह भी सभी जानते है आधुनिक काल में परमाणु बम के आविष्कारक है जे रोबर्ट ओपनहाइमर. रोबर्ट के नेतृत्व में 1939 से 1945 कई वैज्ञानिकों ने काम किया और 16 जुलाई 1945 को इसका पहला परिक्षण किया गया.

हालाँकि परमाणु सिद्धांत और अस्त्र के जनक जॉन डॉल्टन को माना जाता है, लेकिन उनसे भी 2500 वर्ष पूर्व ऋषि कणाद ने वेदों में लिखे हुए सूत्र के आधार पर परमाणु सिद्धांत का प्रतिपादन किया था.

भारतीय इतिहास में ऋषि कणाद को परमाणुशास्त्र का जनक माना जाता है. आचार्य कणाद ने बताया कि द्रव्य के परमाणु होते है, कणाद प्रभास तीर्थ में रहते थे.

विख्यात इतिहासज्ञ टीएन कोलेरब्रुक ने लिखा है कि अणु शास्त्र में आचार्य कणाद तथा अन्य भारतीय शास्त्रज्ञ यूरोपीय वैज्ञानिकों की तुलना में विश्वविख्यात थे.

बौधायन (Ancient Indian scientist Buddhist in the field of mathematics)

बौधायन भारत के प्राचीन गणितज्ञ और शुल्ब सूत्र तथा श्रौतसूत्र के रचयिता है. पाइथागोरस के सिद्धांत से पूर्व ही बौधायन ने ज्यामिति के सूत्र रचे थे. लेकीन आज विश्व में यूनानी ज्यामितिशास्त्री पाइथागोरस और युक्लिड के सिद्धांत ही पढाये जाते है.

वास्तव में 2800 वर्ष पूर्व (८०० ईसा पूर्व) बौधायन ने रेखागणित, ज्यामिति के महत्वपूर्ण नियमों की खोज की थी. उस समय भारत में रेखागणित, ज्यामिति या त्रिकोणमिति को शुल्व शास्त्र कहा जाता था.

शुल्व शास्त्र के आधार पर विविध आकार प्रकार की यज्ञवेदियाँ बनाई जाती है. दो समकोण समभुज चौकोन के क्षेत्रफलों का योग करने पर जो संख्या आएगी उतने ही क्षेत्रफल का समकोण समभुज चौकोन बनाना और उस आकृति का उसके क्षेत्रफल के समान वृत में परिवर्तन करना और इस प्रकार के अनेक कठिन प्रश्नों को बौधायन ने सुलझाया था.

भास्कराचार्य (Bhaskaracharya’s contribution in the field of mathematics and astronomy)

भास्कराचार्य प्राचीन भारत के सुप्रसिद्ध गणितज्ञ एवं खगोलशास्त्री थे. इनके द्वारा लिखित ग्रंथो का अनुवाद अनेक विदेशी भाषाओं में किया जा चूका है. भास्कराचार्य द्वारा लिखित ग्रंथो ने अनेक विदेशी विद्वानों को भी शोध का रास्ता दिखाया है.

न्यूटन से 500 वर्ष पूर्व भास्कराचार्य ने गुरुत्वाकर्षण के नियम को जान लिया था और इन्होने अपने दूसरे ग्रंथ सिद्धान्तशिरोमणी में इसका उल्लेख भी किया है.

गुरुत्वाकर्षण के नियम के संबंध में उन्होंने लिखा है पृथ्वी अपने आकाश का पदार्थ स्वशक्ति से अपनी ओर खीच लेती है. इस कारण आकाश का पदार्थ पृथ्वी पर गिरता है, इससे यह सिद्ध होता है कि पृथ्वी पर गुरुत्वाकर्षण की शक्ति है.

भास्कराचार्य द्वारा ग्रंथ लीलावती में गणित और खगोल विज्ञान संबंधी विषयों पर प्रकाश डाला गया है. सन 1163 में उन्होंने करण कुतूहल नामक ग्रन्थ की रचना की. इस ग्रंथ में बताया गया है कि जब चन्द्रमा सूर्य को ढक लेता है तो सूर्यग्रहण तथा जब पृथ्वी की छाया चन्द्रमा को ढक लेती है तो चंद्रग्रहण होता है.

आयुर्वेद के जनक महर्षि पतंजलि का योगदान (Maharishi Patanjali, father of Ayurveda)

योगसूत्र के रचनाकार पतंजलि काशी में ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी में चर्चा में थे. पतंजलि के लिखे हुए 3 प्रमुख ग्रंथ मिलते है- योगसूत्र, पाणिनी के अष्टाध्यायी पर भाष्य और आयुर्वेद पर ग्रंथ. पतंजलि को भारत का मनोवैज्ञानिक और चिकित्सक कहा जाता है.

पतंजलि ने योगशास्त्र को पहली बार व्यवस्था दी और उसे चिकित्सा और मनोविज्ञान से जोड़ा. आज दुनियाभर में योग से लोग लाभ पा रहे है.

पतंजलि रसायन विद्या के विशिष्ट आचार्य थे- अभ्रक, विंदास, धातुयोग और लौह्शास्त्र इनकी देन है. पतंजलि संभवत पुष्यमित्र शुंगके शासनकाल में थे. राजाभोज ने इन्हें तन के साथ मन का भी चिकित्सक कहा है.

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्था (एम्स) ने 5 वर्षों के अपने शोध का निष्कर्ष निकाला कि योगसाधना से कर्क रोग (कैंसर) से मुक्ति पाई जा सकती है. उन्होंने कहा कि योगसाधना से कर्करोग प्रतिबंधित होता है.

चिकित्सा के क्षेत्र में आचार्य चरक (Acharya Charak in medical field)

अथर्ववेद में आयुर्वेद के कई सूत्र मिल जाएगे. धन्वन्तरि, रचक, च्यवन और सुश्रुत ने विश्व को पेड़ पौधों और वनस्पतियों पर आधारित एक चिकित्साशास्त्र दिया. आयुर्वेद के आचार्य महर्षि चरक की गणना भारतीय औषधि विज्ञान के मूल प्रवर्तकों में की जाती है.

ऋषि चरक ने 300-200 ईसा पूर्व आयुर्वेद का महत्वपूर्ण ग्रन्थ चरक संहिता लिखा था. उन्हें त्वचा चिकित्सक भी माना जाता है. आचार्य चरक ने शरीर शास्त्र, गर्भशास्त्र, रक्ताभिसरणशास्त्र, औषधिशास्त्र इत्यादि विषय में गंभीर शोध किया तथा मधुमेह, क्षयरोग, ह्रद्यविकार आदि रोगों के निदान एवं औषधोपचार विषयक अमूल्य ज्ञान को बताया है.

चरक एवं सुश्रुत ने अथर्ववेद से ज्ञान प्राप्त करके 3 खंडो में आयुर्वेद पर प्रबंध लिखे. उन्होंने दुनिया के सभी रोगों के निदान का उपाय और उससे बचाव का तरीका बताया, साथ ही उन्होंने अपने ग्रंथ में इस तरह की जीवन शैली का वर्णन किया जिससे कोई रोग व शोक नही हो.

आठवी शताब्दी में चरक संहिता का अरबी अनुवाद हुआ और यह शास्त्र पश्चिम देशों तक पंहुचा. चरक के ग्रन्थ की ख्याति विश्वव्यापी थी.

शल्यचिकित्सा में महर्षि सुश्रुत का योगदान (Maharishi Sushrut in Surgery)

महर्षि सुश्रुत शल्यचिकित्सा (सर्जरी) के आविष्कारक माने जाते है. 2600 साल पहले उन्होंने अपने समय के स्वास्थ्य वैज्ञानिकों के साथ प्रसव, मोतियाबिंद, कृत्रिम अंग लगाना, पथरी का ईलाज और प्लास्टिक सर्जरी जैसी कई तरह की जटिल शल्यचिकित्सा के सिद्धांत प्रतिपादित किये.

आधुनिक विज्ञान केवल 400 वर्ष पूर्व ही शल्य क्रिया करने लगा है लेकिन सुश्रुत ने 2600 वर्ष पहले यह कार्य करके दिखा दिया था. सुश्रुत के पास अपने बनाए उपकरण थे जिन्हें वे उबालकर प्रयोग करते थे.

महर्षि सुश्रुत द्वारा लिखित सुश्रुत संहिता ग्रंथ में शल्यचिकित्सा से सबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां मिलती है. इस ग्रंथ में चाक़ू, सुइयां, चिमटे इत्यादि सहित 125 से भी अधिक शल्यचिकित्सा चिकित्सा हेतु आवश्यक उपकरण के नाम मिलते है. और इस ग्रन्थ में लगभग 300 प्रकार की शल्य चिकित्साओं का उल्लेख मिलता है.

रसायनशास्त्र में नागार्जुन का योगदान (Nagarjuna’s contribution in chemistry)

नागार्जुन ने रसायन शास्त्र और धातु विज्ञान पर बहुत शोध कार्य किया, रसायन शास्त्र पर इन्होने कई पुस्तकों की रचना की जिनमे रस रत्नाकर और रसेन्द्र मंगल बहुत प्रसिद्ध है.

रसायनशास्त्री व धातुकर्मी होने के साथ साथ इन्होने अपनी चिकित्सकीय सुझबुझ से अनेक असाध्य रोगों की औषधियाँ तैयार की. चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में इनकी प्रसिद्ध पुस्तके कक्षपुटतंत्र, आरोग्य मंजरी योग सार और योगष्ट्क है.

नागार्जुन द्वारा विशेष रूप से सोना धातु एवं पारे पर किये गये उनके प्रयोग और शोध चर्चा में रहे है. उन्होंने पारे पर सम्पूर्ण अध्ययन कर सतत 12 वर्षों तक संशोधन किया, नागार्जुन पारे से सोना बनाने का फौर्मूला जानते थे. अपनी किताब में उन्होंने लिखा था कि पारे के कुल 18 संस्कार होते है.

पश्चिमी देशों में नागार्जुन के पश्चात जो भी प्रयोग हुए उनकी मूलभूत आधार नागार्जुन के सिद्धांत के आधार पर ही रखा है. नागार्जुन की जन्मतिथि एवं जन्म स्थान के विषय में अलग अलग मत है.

व्याकरण में पाणिनि का योगदान (Panini, the great grammarian)

दुनिया का पहला व्याकरण पाणिनि ने लिखा. 500 ईसा पूर्व पाणिनि ने भाषा के शुद्ध प्रयोग की सीमा का निर्धारण किया, उन्होंने भाषा को सबसे सुव्यवस्थित रूप दिया और संस्कृत भाषा को व्याकरणबद्ध किया. इनके व्याकरण का नाम अष्टाध्यायी जिनमे 8 अध्याय 4 हजार सूत्र है.

व्याकरण के इस ग्रंथ में पाणिनि ने विभक्ति प्रधान संस्कृत भाषा के 4000 सूत्र बहुत ही वैज्ञानिक और तर्कसिद्ध ढंग से संग्रहित किये है.

अष्टाध्यायी मात्र व्याकरण ग्रंथ नही है, इनमे तत्कालीन भारतीय समाज का पूरा चित्र मिलता है. उस समय के भूगोल, सामाजिक, आर्थिक, शिक्षा और राजनितिक जीवन, दार्शनिक चिंतन, खान-पान रहन सहन आदि प्रसंग के साथ साथ स्थान स्थान पर अंकित है.

19वीं सदी में यूरोप के एक भाषा विज्ञानी फ्रेंज बॉप ने पाणिनि के कार्यों पर शोध किया, उन्हें पाणिनि के लिखे हुए ग्रंथो तथा संस्कृत व्याकरण में आधुनिक भाषा प्रणाली को और परिपक्व करने के सूत्र मिले है. आधुनिक भाषा विज्ञान को पाणिनि के लिखे ग्रंथ से बहुत मदद मिली, दुनिया की सभी भाषाओं के विकास में पाणिनि के ग्रन्थ का योगदान है.

महर्षि अगस्त्य (Maharishi Agastya)

महर्षि अगस्त्य एक वैदिक ऋषि थे, निश्चित ही बिजली का आविष्कार थोमस एडिसन ने किया लेकिन एडिसन अपनी किताब में लिखते है कि एक रत में संस्कृत का वाक्य पढ़ते पढ़ते सो गया. उस रात मुझे स्वप्न में संस्कृत के उस वचन का अर्थ और रहस्य समझ में आया जिससे मुझे मदद मिली.

महर्षि अगस्त्य राजा दशरथ के राजगुरु थे. इनकी गणना सप्तऋषियों में की जाती है. ऋषि अगस्त्य ने अगस्त्य संहिता नामक ग्रंथ की रचना की. आश्चर्यजनक रूप से इस ग्रंथ में विद्युत उत्पादन से सबंधित सूत्र मिलते है.

Hope you find this post about ”Ancient India Inventions In Hindi” useful. if you like this article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update keep visit daily on hihindi.com.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article about Indian scientists in Hindi Wikipedia and if you have more information History of Bharatiya vaigyanik Hindi then help for the improvements this article.

Leave a Reply