Anil Kumble Biography in hindi | अनिल कुंबले का जीवन परिचय

Anil Kumble Biography in hindi | अनिल कुंबले का जीवन परिचय

जब भारतीय क्रिकेट खिलाडियों (india cricket ) में स्पिनर्स की बात आती हैं तो सबसे पहले जो नाम जेहन में आता हैं वो हैं  अनिल कुंबले | जी हाँ खेल में प्रतिभा और अनुशासन का पर्याय Anil Kumble उन लीजेंड में हैं, जिन्होंने भारतीय क्रिकेट को इस मुकाम तक पहुचाया हैं| 46 वर्षीय अनिल कुंबले खेले तो क्या खेले प्रतिद्वन्दियो की गिल्लियाँ गुल थी| जब अंतराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास लिया तो ऐशो आराम की जिन्दगी बिताने की बजाय भारतीय क्रिकेट की सेवा में लग गए और टीम के मुख्य कोच(coach of indian cricket team ) के रूप में जून 2017 तक काम भी किया| कप्तान और कुंबले के साथ वैचारिक मतभेद के चलते इन्होने अपने पद से इस्तीफा भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड BCCI को सौप दिया. Anil Kumble Biography में जानते हैं उनके जीवन के बारे में

अनिल कुंबले का जीवन परिचय (Anil Kumble Biography)Anil Kumble Biography in hindi

क्रमांक जीवन परिचय बिंदु  अनिल कुंबले जीवन परिचय
1. पूरा नाम  अनिल कुंबले (Anil Kumble)
2. उपनाम जम्बो
3. जन्म 17 अक्टूबर 1970
4. जन्म स्थान बेंगलोर, पश्चिम बंगाल
5. माता-पिता कृष्णा स्वामी और सरोजा
6. विवाह चेतना रामतीर्था (1999)
7. बच्चे
  • स्वस्ती कुंबले
  • मयास कुंबले
  • आरुणि कुंबले
8. पेशा  भूतपूर्व क्रिकेटर

46 वर्षीय कुंबले का जन्म कर्नाटक राज्य की राजधानी बैगलोर में 17 अक्टूबर 1970 को हुआ था| इनके पिता का नाम कृष्णा स्वामी और माँ का नाम सरोजा हैं| इन्हें कुंबले उपनाम से ही बुलाया जाता हैं| यह नाम उनके गाँव के नाम पर रखा गया था|

भारतीय क्रिकेट टीम में इनकी ऊचाई सबसे अधिक होने की वजह से जम्बो उपनाम से बुलाया जाता हैं नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग से अनिल कुंबले ने मैकेनिकल इंजिनियर की पढ़ाई पूरी की|

kumble ग्रेजुएशन तक शिक्षा प्राप्त कर चुके हैं, इनके परिवार में माता-पिता के अतिरिक्त एक भाई हैं, जिनका नाम दिनेश कुंबले हैं| anil की शादी क्रिकेट में पर्दापण के 9 वर्ष बाद 1999 में चेतना के साथ हुई थी|

कुंबले के दो बेटे एक बेटी हैं बेटी का नाम आरुनी कुंबले हैं| बचपन से इन्हें क्रिकेट के प्रति गहरी रूचि थी| जो आज तक कायम हैं| दाए हाथ के लेग स्पिनर के रूप में इन्होने क्रिकेट में शुरुआत की|

कर्नाटक राज्य की ओर से अनिल कुंबले हैदराबाद के खिलाफ मैच खेले जिसमे इन्होने चार विकेट चटके थे| उनकी इस परफॉर्म को देखते हुए चयनकर्ताओ ने भारतीय अंडर 19 की टीम में इन्हें शामिल किया गया|

करियर

अनिल कुंबले ने क्रिकेट जीवन की शुरुआत कर्नाटका क्रिकेट संघ के साथ शुरू की| वे राज्य की टीम के कप्तान बनाए गये थे| 1990 में इंग्लैंड दौरे के लिए इनका चयन भारतीय टीम में किया गया| इसके बाद इन्हें भारतीय क्रिकेट टीम का कप्तान बनाया गया| 100 से अधिक अंतराष्ट्रीय टेस्ट मुकाबलों में कुंबले ने भारत का नेतृत्व किया|

अनिल कुंबले के क्रिकेट करियर का पहला पड़ाव 90 से लेकर अगले छ वर्षो तक बेहद यादगार रहा| इसके बाद उनके विश्व कप के लिए भारतीय एकादश में शामिल किया| सिमित ओवर के इस फोर्मेट में अनिल कुंबले टेस्ट से अधिक प्रभावकारी नजर आए| इन्होने खेले गये 7 मैच में कुल 15 विकेट चटके थे|

लेग स्पिनर होने के साथ ही उनकी तेज बॉल और गुगली बेहद खतरनाक बल्लेबाजो के भी स्टाम्प उखाड़ जाती थी| 25 अप्रिल 1990 को इन्होने श्रीलंका के खिलाफ अपना पहला एकदिवसीय अंतराष्ट्रीय मैच खेला था| जबकि उनका पहला टेस्ट मैच 9 अगस्त 1990 को इंग्लैंड के खिलाफ था|

इन्होने अंतिम टेस्ट मैच 2008 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था| अनिल कुंबले ने अपने अंतराष्ट्रीय करियर का अंतिम एकदिवसीय मैच बरमुंडा के खिलाफ खेला था| anil kumble क्रिकेट के सभी फोमेट्स में अंतराष्ट्रीय मैचों में 619 विकेट का आकड़ा छू चुके हैं|

इतिहास

  • anil kumble से अधिक विकेट लेने वालों में श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन और ऑस्ट्रेलिया के शेन वार्न ही आगे थे|
  • ऐसा करने वाले ये पहले भारतीय गेदबाज हैं|
  • anil kumble 10 wickets यह उनका सबसे बड़ा रिकॉर्ड हैं
  • जो इन्होने चिरप्रतिद्वंदी पाकिस्तान के खिलाफ बनाया था|
  • एक पारी में सभी खिलाडियों को अनिल कुंबले अकेले ने पवैलियन की राह दिखाई थी|
  • वर्ष 2007 से 2008 में इन्होने भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी भी की|
  • अंतराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद इन्हें वर्ष 2016 में भारतीय क्रिकेट टीम के कोच बनाए गये|
  • स्वेच्छा से इन्होने 20 जून 2017 को इस पद से इस्तीफा दे दिया|

सम्मान

  • वर्ष 1993 में इन्डियन क्रिकेटर ऑफ़ ईयर चुने गये|
  • वर्ष 1996 में विस्डन क्रिकेटर ऑफ द ईयर का खिताब प्राप्त किया|
  • 2005 में पद्मश्री पुरूस्कार से नवाजे गये|
  • वर्ष 2012 में अनिल कुंबले कुंबले अंतराष्ट्रीय क्रिकेट कांउसिल के सदस्य चुने गये|
  • 2016 में भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच बने|
  • वर्ष 2015 में आईसीसी के हॉल ऑफ फेम में नामित
  • 2015 में मुंबई इंडियंस के चीफ मेंटोर
  • 2012 में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के चीफ मेंटोर
  • बैगलोर के चौराहे का नाम अनिल कुंबले चौराहा किया गया|

Read more:-

Leave a Reply