HIHINDI.COM में आपका स्वागत है. मेरा नाम राम चौधरी है. हमारे इस हिंदी ब्लॉग में आपकों हिंदी में अनेकों विषयों पर रोचक जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध करवाने का प्रयास रहता हैं. आप हमारे ब्लॉग पर आए आपका हम हार्दिक स्वागत करते हैं.

नारायण का अर्थ और संधि | Meaning and Treaty of Narayan

Meaning and Treaty of Narayan – हिन्दु धर्म में भगवान को नारायण भी कहते हैं। नार का अर्थ है ‘जल’ और ‘अयम’ का अर्थ है ‘निवास ‘ अर्थात् जल में जिसका निवास है। जल में सृष्टि

Read more

बेलपत्र क्या है इसका उपयोग महत्व एवं इसकी सम्पूर्ण जानकारी | Bel Patra In Hindi

Bel Patra In Hindi/बेलपत्र क्या है-तीन दल तीन प्रमुख देवताओं-ब्रह्मा, विष्णु, महेश का द्योतक हैं। तीन दल तीन लोकों को बताते हैं। बेल पत्र के तीन दल तीन प्रमुख महादेवियों-महालक्ष्मी, महासरस्वती और महाकाली के भी

Read more

जमीन पर सोना फायदेमंद है या बेड पर ?? | Difference Between Sleeping Bed Or Lands

बेड या तख्त पर सोने से वया लाभ है और चारपाई पर सोने से क्या हानि है? (Difference Between Sleeping Bed Or Lands) प्राचीन समय से ही ऋषि-महर्षि यह बताते आ  रहे हैं कि लकड़ी

Read more

Hindi Bhakti Song | प्रार्थना

Hindi Bhakti Song | प्रार्थना भक्ति सांग हिंदी ऑडियो, भक्ति सांग्स हिंदी, total bhakti songs mp3 download, भक्ति सांग डाउनलोड, भक्ति सांग विडियो, भक्ति सांग mp3, भक्ति सांग फ्री डाउनलोड, bhakti song video अब सौप

Read more

मंगलाचरण इन संस्कृत | Mangalacharan In Sanskrit

मंगलाचरण इन संस्कृत | Mangalacharan In Sanskrit वक्रतुंड महाकाय, सूर्यकोटि समप्रभा निर्विध्न करू मै देव, सर्वकार्येषु समप्रभा. गजानंद भूतगणादिसेवितम, कपितथजम्बूफलचारूभक्षणं उमासुत शोकविनाश्कारकम नमामि विध्नेश्वर पाद पंकजम. कर्पूरगौंर करुणावतार संसारसार भुजगेन्द्रहारम. सदा वसंत हर्दियारविन्द, भव भवानीसहित

Read more

नौजवानों आज का युगधर्म शक्ति उपासना है | Naujavano Ajj Ka Yugdharma shakti Upasana Hai | Hindi Kavita

Naujavano Ajj Ka Yugdharma shakti Upasana Hai | Hindi Kavita नौजवानों आज का युगधर्म शक्ति उपासना है। चीर कर तम सूर्य का प्रकटी करण हो, कामना है। बस बहुत अब हो चुकी है, शांति की

Read more

आँसू ये भाग्य पसीजा | Aasu Se Bhagaya Pasija | Hindi Kavita

Aasu Se Bhagaya Pasija | Hindi Kavita आँसू ये भाग्य पसीजा, हे मित्र, कहाँ इस जग में। नित यहाँ शक्ति के आगे, दीपक जलते मग-मग में। कुछ तनिक ध्यान से सोचो, धरती किसकी हो पाई?

Read more