Bal Shram Gk Notes In Hindi बाल श्रम About Child labour In India Meaning Types Causes Essay Stop Effects Laws

Bal Shram Gk Notes In Hindi : हेलों प्रिय विद्यार्थियों आज हम बालश्रम के बारें में हिंदी में जानेगे. Child labour  Gk Notes In Hindi सामान्य ज्ञान नोट्स के रूप में मुख्य बिन्दुओं के रूप में बाल श्रम क्या है अर्थ परिभाषा निबंध भारत में प्रभाव दुष्परिणाम कानून के बारे में आज हम यहाँ आपकों बताने जा रहे हैं. भारत में चाइल्ड लेबर अथवा बाल मजदूरी का अर्थ 14 वर्ष से कम आयु के बालक बालिकाओं को जोखिम भरे कामों में लगाने से हैं चलिए जानते है Bal Shram Gk Notes In Hindi बाल श्रम About Child labour In India Meaning Types Causes Essay Stop Effects Laws क्या है

Bal Shram Gk Notes In Hindi About Child labour In India

Bal Shram Gk Notes In Hindi बाल श्रम About Child labour In India Meaning Types Causes Essay Stop Effects Laws

बाल श्रम Gk In Hindi how to stop child labour primary causes effects of child labour child labour in India articles child labour introduction conclusion of child labour solutions of child labour project on child labour ppt child labour in Delhi.

Bal Shram Gk Notes In Hindi

भारत में 14 वर्ष से कम उम्रः का बच्चा यदि अपने दिन का अधिकांश हिस्सा कार्य करने में/श्रम / मजदूरी में लगाता हैं तो यह बाल श्रम कहलाता हैं.

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के अनुसार 15 वर्ष से कम उम्रः का श्रमिक बाल श्रमिक बाल श्रमिक कहलाएगा. भारत में सर्वाधिक 79 प्रतिशत बाल श्रमिक कृषि में संलग्न हैं.

भारत में बाल श्रम उन्मूलन हेतु संवैधानिक प्रावधान

  • भारतीय संविधान के भाग 3 अर्थात मूल अधिकारों के तहत अनुच्छेद 24 के अनुसार 14 वर्ष से कम उम्रः के बालक का किसी कारखाने/ खान/ अन्य खतरनाक उद्यम में श्रम निषेध हैं.
  • भारतीय संविधान के भाग 4 अर्थात नीति निर्देशक तत्व के तहत अनुच्छेद 39 ड /39 E के अनुसार राज्य का यह दायित्व हैं कि बालकों की सुकुमार अवस्था का दुरूपयोग न हो, किसी भी पुरुष / महिला कर्मिक के स्वास्थ्य व शक्ति का दुरूपयोग न हो व बच्चों की आयु व शक्ति के प्रतिकूल व्यवसाय न करने पर राज्य ध्यान दे.
  • अनुच्छेद 39 F के अनुसार बालकों को स्वतंत्र व गरिमामय वातावरण में स्वस्थ विकास के अवसर व सुविधाएं दी जाए तथा शैशव व किशोरावस्था से शोषण से नैतिक व आर्थिक परित्याग से संरक्षण करे.
  • कैलाश सत्यार्थी भारत के प्रमुख बाल अधिकार कार्यकर्ता हैं जिन्होंने बाल श्रम के विरोध में अभियान छेड़ते हुए 1980 में बचपन बचाओं आंदोलन आरम्भ किया, 80,000 से अधिक बच्चों को बाल श्रम से निजात दिलाई. वे ग्लोबल मार्च अगेंस्ट चाइल्ड लेबर के अध्यक्ष हैं.
  • उन्हें 2014 में शांति नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

बाल श्रम रोकने के कानून

कारखाना अधिनियम 1948

  • 15वर्ष से कम उम्रः – बाल श्रम
  • बालक व महिलाओं के 7 PM से अगले दिन 6 AM के बीच कार्य के प्रतिषेध
  • कार्य में सप्ताह घंटे- 48
  • वर्ष में 18 दिन का संवैधानिक अवकाश
  • फैक्ट्री में 30+ महिलाएं होने पर एक शिशु सदन

खान अधिनियम 1952

  • खानों में बाल श्रम निषेध

प्रशिक्षु कानून 1961

  • 14 वर्ष से कम उम्रः के बालक प्रशिक्षु के रूप में नियोजन प्रतिषेध

बीड़ी एवं सिंगार कर्मकार कानून 1966

  • बीड़ी व सिंगार उद्योग में बाल श्रम प्रतिषेध

बाल श्रम (प्रतिषेध एवं विनियमन) कानून 1986

  • वर्तमान में प्रचलित बाल श्रम विरोधी व्यापक कानून हैं
  • 1979 में भारत सरकार ने गुरुपद स्वामी कमेटी का गठन किया गया, जिसकी सिफारिश पर बाल श्रम कानून, 1986 बना तथा इसे स्पष्ट व सारगर्भित बनाने हेतु 14 अगस्त 1987 में राष्ट्रीय बाल श्रम नीति जारी की गई. साथ ही 1988 में बाल श्रम नियमों को प्रारूपित किया गया.

1986 के अधिनियम के अनुसार

  • 14 वर्ष से कम उम्रः के बच्चों का 13 व्यवसाय व 57 प्रक्रियाओं में निषेध
  • कानून के उल्लंघन पर 3 माह से 1 वर्ष का कारावास अथवा दस हजार से 20 हजार तक जुर्माना या दोनों
  • घरेलू इकाईयों को छोड़कर अन्य प्रतिष्ठान/ निश्चित एवं विनिर्दिष्ट जोखिम भरे कार्य व प्रक्रियाओं में बाल नियोजन का निषेध
  • वर्ष 2006 में आतिथ्य उद्योग भी इस कानून के दायरे में लाया गया.
  • गुरुपद स्वामी समिति की सिफारिश पर जारी राष्ट्रीय बाल श्रम नीति 1987 के तहत राष्ट्रीय बाल श्रम परियोजना 1988 प्रारम्भ कर बाल श्रमिकों के पुनर्वास व भोजन की व्यवस्था के प्रयास
  • 13 मई 2015 को भारतीय कैबिनेट ने बाल श्रम कानून में संशोधन को मंजूरी दी जिसके अनुसार-
  1. बच्चे को पारिवारिक कारोबार की छूट बशर्ते खतरनाक कार्य/ प्रक्रिया न हो तथा स्कूली समय के अतिरिक्त करें.
  2. बच्चा विज्ञापन, फिल्म, एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री सर्कस आदि में भाग ले सकता हैं.
  3. खतरनाक कार्य व प्रक्रियाओं में 14-18 वर्ष के बालक का भी कार्य निषेध
  4. पहली बार अपराध पर सजा न्यूनतम 6 माह अधिकतम 2 साल तथा जुर्माना 20 हजार से 50 हजार होगा.
  5. दूसरी बार अपराध पर न्यूनतम 1 वर्ष से अधिकतम 3 वर्ष कैद.

बाल श्रम के तथ्य

  • 26 सितम्बर 1994 को राष्ट्रीय बाल श्रम उन्मूलन प्राधिकरण का गठन
  • राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण अधिनियम 2005 के तहत 2007 में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग गठित किया गया, जिसके प्रथम चेयरमैन शांता सिन्हा थी.
  • राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की वर्तमान अध्यक्षा स्तुति नारायण कक्कड़ हैं.
  • विश्व बालश्रम निरोध दिवस – 12 जून
  • राष्ट्रीय बाल दिवस – 14 नवम्बर
  • राष्ट्रीय बालिका दिवस – 24 जनवरी

यह भी पढ़े-

आशा करते हैं बाल श्रम के दुष्परिणाम, बाल श्रम स्कूल, बाल श्रम अधिनियम 1986 pdf, बाल श्रम के आंकड़े, बाल श्रम पर स्लोगन, बाल श्रम पर कविता, बाल श्रम को कैसे रोका जाए, राष्ट्रीय बाल श्रम परियोजना Bal Shram Gk Notes In Hindi बाल श्रम About Child labour In India Meaning Types Causes Essay Stop Effects Laws Child Labor, Child Labor Act, Child Labor Act 1986 pdf, Child Labor Statistics, Slogan on Child Labor, Poetry on Child Labor, How to prevent child labor, National Child Labor Project अच्छा लगा हो तो जरुर शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *