Bhai Dooj Poems Hindi भाई दूज पर कविता 2018 भाई बहिन के लिए कविता शायरी

Bhai Dooj Poems Hindi भाई दूज पर कविता 2018 भाई बहिन के लिए कविता शायरीहमारे सभी प्यारे भाइयों एवं प्यारी बहिनों को भाई दूज / भैया दूज/ यम द्वितीया की हार्दिक शुभकामनाए. इस अवसर पर हमने भाई दूज की कविता शायरी आपके लिए संकलित की हैं. भाई बहिन के रिश्ते पर कविता को आप इस अवसर पर अपने प्यार ब्रदर या सिस्टर को भेज सकते हैं. bhai Dooj Funny Joke,Bhaeya Dooj Wallpaper के द्वारा भी आप भाई दूज की बधाई प्रेषित कर सकते हैं. अपने भावों को सशक्त माध्यम में प्रस्तुत करने वाली कुछ भाई दूज कविता- Bhai Dooj Poems पढ़ते हैं.

भाई दूज कविता 2018 – Bhai Dooj Poems Hindi भाई दूज कविता 2018 - Bhai Dooj Poems Hindi

भाई की कविता, बहिन पर कविता, भाई दूज भाई बहिन के लिए कविता, भाई दूज की कविता, भाई दूज हिंदी कविता:

भाई दूज का पर्व है आया
धनतेरस के बाद
पांचवे दिन बहना ने भाई
को तिलक लगाया

रोली धुप दीप से पूजा करके
बहना ने भाई को मनाया
भाई दूज पर बहना ने
भाई की लम्बी उम्रः के लिए
भगवान को श्रद्दापूर्वक मनाया

भाई ने बहिन का प्यार देखकर
सर उसके चरणों में नवाया
बहना ने भाई को लम्बी उम्रः का
आशीर्वाद देकर
भाई दूज का पर्व मनाया

दोनों ने मिलकर इस पर्व को खूब सजाया
बना रहे बहिन भाई का प्यार
भाई दूज का पर्व, हजारों खुशियाँ लेकर आया
बना रहे भाई बहिन का प्यार
भाई दूज का पर्व हजारो खुशिया लेकर आया

Bhai Dooj Kavita In Hindi 

Bhai Dooj / Bhau-Beej / Bhai Tika / Bhai Phonta Bhai Dooj Shayari | भाई दूज स्पेशल शायरी:

भाई बहिन के प्यार का यह प्यारा त्योहार
सारी दुनिया में इनकी गूंज
मुबारक हो आपकों भाई दूज 


भाई दूज शायरी 2018

बहिन चाहे भाई का प्यार
नही चाहे महंगा उपहार
रिश्ता अटूट रहे सदियों तक
मिले भाई को खुशिया अपार
हैप्पी भाई दूज शायरी


प्रेम और विश्वास के बंधन को मनाओ
जो दुआ तुम मांगो वो तुम पाओ
भाई दूज का त्योहार है भैया जल्दी आओ
अपनी प्यारी बहिना से तिलक लगवाओ
हैप्पी भाई दूज शायरी

Bhai Dooj Poems Hindi (भाई दूज कविता 2018)Bhai Dooj Poems Hindi भाई दूज पर कविता 2018

लाल गुलाबी रंग ही झूम रहा संसार
सूरज की किरने खुशियाँ की बहार
चाँद की चांदनी अपनों का प्यार
मुबारक हो आपकों भाई दूज का त्योहार
भाई दूज की शुभकामनाएं


दिल की यह कामना हैं कि
आपकी जिन्दगी
खुशियों से भरी हो
सफलता आपके कदम चूमे
और हमारा ये बंधन
सदा ही प्यार से भरा रहे


भाई दूज कविता 2018 इन हिंदी (Bhai Dooj Poems Hindi)

भाई दूज पर भालू ने,
हथनी को बहन बनाया।
उसके हाथों से माथे पर,
लाल तिलक लगवाया।
फिर बोला वह प्यारी बहना,
मीठा तो खिलवाओ।
हथनी बोली भैया पहले,
सौ का नोट दिखाओ।


रूठकर तू क्यों बैठा है भाई, अब मुझसे बात कर
हो गई गलती मुझसे, अब अपनी बहन को माफ कर
बिन तुझसे बात किए कैसे कटेगा वक्त मेरा
देख फलक की ओर चांद की तन्हाई एहसास कर
आज मैं तेरे संग हूँ, कल तुझसे रुखसत हो जाऊंगी
फिर पछताना मत, क्यूंकि मैं लौटकर न फिर आऊंगी
वो रक्षाबंधन और भाई दूज की मस्तियाँ याद कर

और बचपन की शरारतों का फिर से आगाज कर
अब भी गर न बोला तू, तो तुमसे मैं भी रूठ जाऊंगी
एक बार तू मुस्कुरा दे, वरना मैं रोने लग जाऊंगी
नासमझ है तेरी गुड़िया, गुस्ताखी उसकी माफ कर
पड़ गई जो धूल स्नेह पर चल उसको अब साफ कर


डोली चाहे अमीर घर से उठे
चाहे गरीब के घर से
चौखट एक बाप की ही सुनी
होती हैं.
..
ये दुनियां ना चलती अगर ये
पांच लक्ष्मी ना होती
माँ, बहन, बहु, बेटी, पत्नी यही
संसार का सार है
सभी बहिनों को हैप्पी भाई दूज

Bhai Dooj Kavita Poems Hindi

भाई दूज पर भालू ने,
हथनी को बहन बनाया।
उसके हाथों से माथे पर,
लाल तिलक लगवाया।
फिर बोला वह प्यारी बहना,
मीठा तो खिलवाओ।
हथनी बोली भैया पहले,
सौ का नोट दिखाओ।

शिवाजी महाराज कविता | भारत भूषण अग्रवाल रचनाएँ... शिवाजी महाराज कविता- महान हिंदी कवि...
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *