भामाशाह योजना की जानकारी | Bhamashah Card Yojna In Hindi

Bhamashah Card Yojna In Hindi 1947 में स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात देश में कल्याणकारी राज्य की स्थापना की अवाधारणा को अपनाया गया जहां समानता, सबको रोजगार, सबको शिक्षा सबको स्वास्थ्य तथा साधनों एवं वस्तुओ का न्यायसंगत वितरण इत्यादि का सपना देखा गया| लेकिन सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, प्राकृतिक,भौगोलिक एवं अंतराष्ट्रीय अपरिहार्य परिस्थितियों के कारण देश में कल्याणकारी राज्य के सपने को आज तक पूर्ण रूप से साकार नहीं किया जा सका है| समाज में महिलाओं, बच्चो, दलित एवं पिछड़े वर्ग के परिवारों, किसानो, श्रमिको इत्यादि की आर्थिक स्थिति में अभी तक कोई स्थायी सुधारनही हो सका है|

भामाशाह योजना की जानकारी (Bhamashah Card Yojna In Hindi )

देश में पिछले छह दशको में इन सबके लिए गरीबी उन्मूलन तथा बेरोजगारी निवारण, ग्रामीण विकास के लिए अनेक जन कल्याणकारी योजनाओं को क्रियान्वित किया गया लेकिन योजनाओं के निर्माण एवं क्रियान्वयन में पारदर्शिता का अभाव तथा आम आदमी की किसी बहिन प्रकार की सहभागिता इन योजनाओं में नहीं होने के कारण आम आदमी इन योजानाओ के लाभ से वंचित रह गया या उसे अल्प लाभ ही प्राप्त हुआ|

सरकार के द्धारा विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से आम आदमी जनता को वितीय सुविधाए {पेंशन,छात्रवृति, अकालराहत, बाढ़राहत, प्राकृतिक आपदा अनुदान आदि } तथा गैर वितीय सुविधाए {राशन, केरोसीन, रियायती गैस सिलेण्डर, डीजल, खाद, बीज, कृषि उपकरण आदि} प्रदान की जाती रही हैं| बावजूद इनमे समाज में महिलाओं बुजुर्गो, विधवाओं, परित्यक्ताओ, सामाजिक एवं आर्थिक रूप से पिछड़े हुए वर्गों की सामाजिक एवं आर्थिक स्थति अभी भी विचारणीय हैं और देश के आर्थिक विकास स्थति अभी भी विचारणीय हैं देश का आर्थिक विकास की गति भी वान्छिंत दर से आगे नही बढ़ पा रही हैं.

भामाशाह योजना की शुरुआत राजस्थान (Bhamashah Yojna start Rajasthan)

महिला सशक्तिकरण के द्वारा सुराज को साकार करने के लिए वर्ष 2008 में भामाशाह योजना को लागू किया गया. यह योजना महिला सशक्तिकरण के साथ वित्तीय सशक्तिकरण की योजना थी. यह देश और राज्य की प्रथम प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण योजना (DBT) थी, परन्तु अपरिहार्य कारणों से यह योजना 2009 से आगे क्रियान्वित नही हो पाई.

देश के 68 वें स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 2014 को राजस्थान सरकार के द्वारा उदयपुर से भामाशाह योजना को पुन: प्रारम्भ किये जाने की घोषणा की. वर्ष 2008 में घोषित भामाशाह योजना में आवश्यक सुधार कर विस्तृत रूप से नवीन उर्जा के साथ राजस्थान सरकार ने इसे 15 अगस्त 2014 को पुन: राज्य में लागू किया. भामाशाह वीर सेनापति था, जिन्होंने महाराणा प्रताप को मेवाड़ की रक्षा के लिए युद्ध जारी रखने के लिए अपनी सम्पूर्ण सम्पति महाराणा प्रताप को दे दी थी.

भामाशाह का इतिहास (Bhamashah History In Hindi)

दानवीर भामाशाह का जन्म राजस्थान के मेवाड़ राज्य में 29 अप्रैल 1547 को वैश्य कुल में हुआ था. इनका निष्ठापूर्ण सहयोग महाराणा प्रताप के जीवन में महत्वपूर्ण और निर्णायक साबित हुआ. मेवाड़ की अस्मिता की रक्षा के लिए दिल्ली की गद्दी का प्रलोभन भामाशाह ने ठुकरा दिया था. भामाशाह अपनी दानवीरता के कारण राजस्थान के इतिहास में अमर हो गये.

आत्मसम्मान और त्याग की भावना ने भामाशाह को धर्म स्वदेश और संस्कृति की रक्षा करने वाले देशभक्त के रूप में इतिहास में स्थापित किया गया हैं. उदयपुर राजस्थान में राजाओ की समाधिस्थल के मध्य भामाशाह की समाधि बनी हुई हैं. जैन महाविभूति भामाशाह के सम्मान में 31 दिसम्बर 2000 को भारत सरकार द्वारा डाक टिकट भी जारी किया गया हैं. भामाशाह के सहयोग ने ही महाराणा प्रताप को जहाँ संघर्ष की दिशा दी थी. वही मेवाड़ को आत्मसम्मान दिया.

भामाशाह योजना के उद्देश्य(Objectives of Bhamashah Yojana)

समाज एवं परिवार में महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त एवं स्वावलम्बी बनाने के लिए तथा योजनाओं के लाभार्थियों को प्रत्यक्ष रूप से लाभान्वित करने के लिए भामाशाह योजना के निम्न उदेश्य रखे गये.

  • समाज में महिलाओं के सशक्तिकरण एवं स्वावलंबन को बढ़ावा देना.
  • सभी वर्गों को समावेशी करना यानि यह सुनिश्चित करना कि प्रदेश के प्रत्येक परिवार का बैंक खाता हो.
  • योजना के नकद लाभ वास्तविक लाभार्थी के बैंक खाते में सीधा हस्तांतरित हो.
  • पूर्ण पारदर्शिता के साथ, बिना किसी विलम्ब के योजनाओं के नकद और गैर नकद सेवाएं वास्तविक लाभार्थी को घर बैठे उपलब्ध करवाना.
  • अन्य कई जनकल्याणकारी योजनाओं ( पैशन, छात्रवृति, अनुदान, स्वास्थ्य बीमा) को भामाशाह योजना से जोड़ना.
  • स्वास्थ्य सेवा और कौशल विकास योजना को भामाशाह योजना से जोड़ना.
  • परिवार और व्यक्ति की पहचान सत्यापित करने के लिए बायोमेट्रिक सत्यापन के द्वारा बहुदेशीय कार्ड योजना के लाभार्थी को पहुचना.
  • शासन व्यवस्था एवं सुविधा प्रदान करने की व्यवस्था में सुधार करना.
  • राज्य में एक स्थायी भामाशाह डाटा हब का सर्जन करना, जिससे किसी भी योजना में पात्रता के निर्धारण हेतु राज्य के सभी निवासियों की सम्पूर्ण सूचना का एकमात्र विश्वसनीय डेटा स्त्रोत उपलब्ध हो सके.
  • भामाशाह योजना के तहत प्रत्येक नामांकित परिवार को भामाशाह पहचान व बहुउद्देशीय कार्ड जारी करना.

भामाशाह योजना 2008 के लक्ष्य

  • 50 लाख परिवारों का नामांकन करना.
  • प्रत्येक परिवार को भामाशाह बहुउद्देशीय कार्ड उपलब्ध करवाना.
  • परिवार में 21 वर्ष की या इससे अधिक आयु की महिला मुखिया के नाम बैंक खाता खौलना जो बायोमेट्रिक पद्दति पर आधारित होगा.
  • बैंक में खाता खुलवाने पर बैंक खाते में प्रोत्साहन राशि के रूप में सरकार द्वारा रूपये 1500/- दिया जाना.
  • 3 से 5 किमी के दायरे में बैंक सुविधा उपलब्ध करवाना.
  • प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण योजना (DBT) के साथ स्वास्थ्य बीमा प्रदान करना.
  • भविष्य में सार्वजनिक वितरण प्रणाली सहित अन्य कल्याणकारी योजनाओं को भी नकद हस्तानरण उद्देश्य से भामाशाह योजना से जोड़ना

भामाशाह योजना 2014

भामाशाह योजना 2008 में आवश्यक सुधार कर इस योजना को विस्तृत एवं अधिक प्रभावी बनाया गया. भामाशाह योजना 2008 में निम्न आवश्यक सुधार किये गये.

  1. प्रत्येक योजना के वास्तविक लाभार्थी के त्रुटी रहित समंक बनाने की नितांत आवश्यकता थी. इस हेतु राज्य में विद्यमान तकनिकी एवं इलेक्ट्रानिक ढांचे ( भामाशाह प्लेटफोर्म) का विस्तार एवं सुद्रढीकरण किया जाए.
  2. भामाशाह योजना से राज्य में चल रही विभिन्न योजनाओं से लाभ प्राप्त करने हेतु प्रत्येक लाभार्थी का कोर बैंकिंग सुविधायुक्त किसी भी बैंक में आधार पहचान पत्र संख्या से जुड़ा बचत खाता खोला जाए, पारिवारिक लाभ को आवश्यक रूप से परिवार की महिला मुखिया के बैंक बचत खाते में ही हस्तांतरित किया जाएं ताकि वे अपने विवेकानुसार उस राशि को परिवार के हित में खर्च किया जा सके.
  3. भामाशाह योजना के नामांकन के समय परिवार या व्यक्ति की तथा इन पर आधारित सूचना का सत्यापन बायोमेट्रिक विधि से किया जाएगा. इस गुणवत्ता सर्वेक्षण के बाद पृथक-पृथक सर्वे करवाने की आवश्यकता समाप्त हो जाएगी. राशन कार्ड, खाद्ध्य सुरक्षा, स्वास्थ्य बीमा,BPL इत्यादि के लाभ भामाशाह योजना द्वारा प्रदान किये जाएगे.
  4. खाद्य सुरक्षा योजना, BPL तथा सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाओं में व्यक्ति एवं परिवार से सम्बन्धित आंकड़ो को भामाशाह योजना डाटाबेस के साथ सुधारना आवश्यक होगा.
  5. आधार कार्ड के आधार पर भामाशाह नामांकन के माध्यम से सभी परिवारों एवं समस्त सदस्यों का समग्र डाटाबेस तैयार करना. परिवार के सभी सदस्यों को विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत पात्रता निर्धारित करने हेतु सूचना यथा वैवाहिक स्थति, परिवार की श्रेणी, व्यवसाय, आय, पहचान सत्यापन दस्तावेज आदि का संग्रहन किया जाएगा.

भामाशाह योजना के लाभार्थी (bhamashah card yojna in hindi )

शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में निवास करने करने वाले सभी परिवारों में महिला मुखिया भामाशाह योजना की मुख्य लाभार्थी होगी. जिसकी आयु 21 वर्ष या इससे अधिक होगी. महिला मुखिया का निर्धारण परिवार द्वारा किया जाएगा. अगर किसी परिवार में महिला मुखिया की आयु 21 वर्ष से कम की हैं. तो उस स्थति में पुरुष सदस्य परिवार का मुखिया उस महिला के 21 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक रहेगा.

परिवार के सभी सदस्य भामाशाह योजना के लाभार्थी होंगे. क्युकि परिवार को राशन, विद्यार्थियों को छात्रवृति, केरोसीन एवं रसोई गैस अनुदान, स्वास्थ्य बीमा, निशुल्क जाँच, निशुल्क दवाई इत्यादि का लाभ भामाशाह बहुउदेशीय कार्ड द्वारा प्राप्त होंगे. भामाशाह योजना 2014 का उद्देश्य सभी राजकीय योजनाओं नगद और गैर नकद लाभ को प्रत्येक लाभार्थी को सीधा पारदर्शिता के साथ पहुचाना हैं. भामाशाह योजना परिवार को आधार मानकर उनके वित्तीय समावेश के लक्ष्य को पूरा करती हैं. सभी जनसंखयिकी एवं सामाजिक मापदंड़ो को विभिन्न विभागों द्वारा उनकी योजनाओं में पात्रता निर्धारण के लिए इसमे सम्मलित किया जाएगा.

भामाशाह योजना के लाभ प्राप्ति का माध्यम (bhamashah card benefits )

इस योजना में लाभार्थी का कोर बैंकिंग समाहित किसी भी बैंक में बचत खाता होना चाहिए. जिसमे सभी नकद लाभ इस खाते में सीधे सरकार द्वारा हस्तांतरित किए जाएगे. इसके अलावा राज्य सरकार द्वारा ग्राम स्तर पर ई-मित्र केंद्र, भारत निर्माण सेवा केंद्र, एटीएम, शहरी क्षेत्र में बैंक शाखा तथा इमित्र केंद्र द्वारा एकीकृत सेवाएँ लाभार्थी तक पहुचाई जाएगी. भामाशाह कार्ड परिवार के सभी सदस्यों की पहचान को स्थापित करेगा. इसलिए सभी राजकीय लाभ इस कार्ड के माध्यम से लाभार्थी के बैंक खाते में सीधे हस्तांतरित होंगे.

इस खाते से राशि निकासी की सुविधा भी लाभार्थी को प्राप्त भामाशाह प्लेटफोर्म के माध्यम से पेंशनधारको को पेंशन, विद्यार्थियों को छात्रवृति, राशनकार्ड धारकों को गैर नकदी वस्तुओ का वितरण, जनजाति क्षेत्रीय विकास छात्रवृति, नरेगा श्रमिको को मजदूरी, इंदिरा आवास लाभार्थी तथा ग्रामीण विकास की अन्य कल्याणकारी योजना के लाभार्थियों को लाभ उनके खाते में हस्तांतरित होंगे.

भामाशाह कार्ड और आधार कार्ड  में अन्तर (bhamashah yojana card vs Aadhaar Card)

  • भामाशाह कार्ड लाभार्थी को सीधे लाभ पहुचाने के साथ-साथ उनकी पहचान, लाभ हस्तांरण, लाभ वितरण एवं अधिकारिता को शामिल करता हैं. जबकि आधार कार्ड केवल विशिष्ट पहचान देता हैं.वितीय समावेश के लिए बैंक खाते से भामाशाह व्यक्ति अनिवार्य रूप से जोड़ता हैं, अब आधार कार्ड को भी बैंक खाते के साथ जोड़ना अनिवार्य कर दिया हैं.
  • महिला सशक्तिकरण के लिए परिवार की महिला मुखिया के नाम बैंक में खाता खोलना अनिवार्य हैं. जबकि आधार कार्ड में ऐसा कोई उद्देश्य नही हैं.भामाशाह कार्ड में पंचायत स्तर पर तथा शहरी क्षेत्रो में वार्ड स्तरों पर यह सेवा उपलब्ध हैं, जबकि आधार कार्ड में ऐसा कोई प्रावधान नही हैं.

भामाशाह योजना के लाभ (bhamashah yojana details )

चुकि इस योजना में नामांकन बायोमैट्रिक पद्धति पर आधारित है तथा नामांकन से पूर्व लाभार्थी का कोर बैकिग समर्थित किसी भी बैक में बचत खाता होना आवश्यक है इसलिए नामांकन के समय परिवार एवं सदस्यों के द्धारा दी जाने वाली समस्त सूचना का सत्यापन प्रथम स्तर पर पटवारी, ग्राम सेवक या नाम,नामांकित अधिकार द्धारा किया जाता है उसके पश्चात द्धितीय स्तर पर उपखण्ड अधिकार या जिला अधिकारी द्धारा किया जाता है|

इसके वास्तविक लाभार्थी की पहचान एवं अधिकारिता सुनिश्चित हो जाती है तथा किसी अन्य के द्धारा छदम नाम से लाभ उठाने की संभावना समाप्त हो जती है और त्रुटि रहित डाटाबेस तैयार हो जाएगा| देश एवं राज्य में परिवार की वास्तविक आर्थिक स्थिति,पारिवारिक शिक्षा, वैवाहिक स्थिति, परिवार आकार इत्यादि संबंधी सम्बन्धी आकड़ो के संकलन के लिए राज्य सरकार को अतिरिक्त श्रम शक्ति, समय, संसाधन इत्यादि पर व्यय नही करने पड़ेगे. भामाशाह प्लेटफोर्म के द्वारा सरकार का प्रत्येक वर्ग सीधा सम्पर्क रहेगा.

ताकि श्रम शक्ति नियोजन, रोजगार योजनाओं , गरीबी उन्मूलन कार्यक्रम, गैर नकदी लाभ वितरण योजनाओं को अधिक प्रभावी ढंग से किर्यान्वित किया जा सकेगा. इससे समाज में समानता के साथ विकास होगा तथा प्रत्येक परिवार एवं वर्ग का विकास में योगदान सुनिश्चित होगा. वीतीय समावेश समाज एवं परिवार में बचतों को प्रोत्साहन देगा जो देश एवं राज्य की आर्थिक तरक्की में प्रोत्साहन के साथ देश एवं राज्य की तीव्र आर्थिक तरक्की में सहयोग करेगा. पारदर्शी योजनाए समय, संसाधन, श्रमशक्ति और धन में बचत करती हैं. जिससे अन्य विकास योजनाओं के किर्यान्वित करने में प्रोत्साहन मिलता हैं. जिससे अर्थव्यवस्था में उत्पादन एवं उत्पादकता में वृद्धि के साथ-साथ रोजगार के स्तर रहन सहन स्तर, जीवन स्तर में सुधार होता हैं.

महिला सशक्तिकरण परिवार, समाज एवं देश में नए विचार,नई उर्जा विकास के नए आयाम तथा विकास के लिए नए वातावरण को उत्पन्न करती हैं. भामाशाह योजना कई सामाजिक बुराइयों,कुरूतियो, अंधविश्वासों, हठधर्मिता को तोड़कर जो देश, समाज और परिवार को आगे बढ़ने से रोकती हैं. जिससे समाज और देश आगे बढ़ता हैं इसलिए राजस्थान की पश्चिमी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर महिला सीमा सुरक्षा बल तैनात हैं. महिलाएं सेना में लडाकू विमान उड़ा रही हैं. अन्तरिक्ष अभियान में बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रही हैं. गाँवों में शराब बंदी के लिए घरो से निकलकर एकजुट हो रही हैं.

भामाशाह योजना के लिए पात्रता

राजस्थान राज्य का प्रत्येक नागरिक भामाशाह नामांकन करवा सकता हैं.

परिवार का मुखिया

इस भामाशाह योजना में नामाकंन हेतु परिवार को 21 वर्ष से अधिक की आयु की महिला को मुखिया के रूप में नामांकित करवाना होगा. यदि परिवार में कोई महिला नही हैं तो पुरुष मुखिया हो सकता हैं. यदि परिवार में कोई भी व्यक्ति 21 वर्ष से अधिक की आयु का नही है तो सर्वाधिक आयु का व्यक्ति परिवार के मुखिया के रूप में नामांकित किया जाता हैं.

भामाशाह कार्ड कैसे बनाये (bhamashah card online registration form )

भामाशाह योजना कार्ड इन दो तरीको से बनाया जा सकता हैं.

  1. ऑफलाइन भामाशाह बनाना
  2. ऑनलाइन भामाशाह बनाना

ऑफलाइन भामाशाह कार्ड बनवाना- राज्य सरकार द्वारा राज्य की सभी ग्राम पंचायतो तथा शहरी वार्डो में 2 से 5 दिवस के भामाशाह योजना कार्ड नामांकन शिविर का आयोजन किया जाता था. इन शिविरों के उपरांत ऐसे क्षेत्र जहाँ नामाकंन कम हुआ हैं. वहां स्थानीय प्रशासन द्वारा फॉलोअप शिविरों का आयोजन किया गया था. इन शिविरों में भामाशाह योजना नामाकंन व बैंक खाता खोलने का कार्य किया गया था.अब शिविरों का आयोजन ना किया जाकर केवल ऑनलाइन भामाशाह नामांकन किया जा रहा हैं.इसके लिए राज्य के सभी ई-मित्र केन्द्रों पर भामाशाह नामाकंन हेतु स्थायी नामांकन केंद्र घोषित किया जा चूका हैं. अत: आम नागरिक घर के नजदीक ई-मित्र पर कभी भी नामांकन करवा सकते हैं.

ऑनलाइन भामाशाह योजना कार्ड बनवाना (bhamashah card online apply )

  1. कोई भी नागरिक भामाशाह योजना की वेबसाइट www.bhamashah.rajasthan.gov.in पर स्वय भामाशाह नामांकन कर सकता हैं.
  2. राजस्थान के सभी ईमित्र केन्द्रों/अटल सेवा केन्द्रों पर भी ऑनलाइन भामाशाह नामांकन सुविधा उपलब्ध हैं.
  3. चूँकि भामाशाह नामांकन एक सतत प्रक्रिया हैं. अत: ऑनलाइन नामांकन की सुविधा सतत उपलब्ध हैं.

भामाशाह योजना नामांकन हेतु आवश्यक दस्तावेज (bhamashah card check )

  • परिवार के सभी सदस्यों के अलग-अलग फोटो
  • उस परिवार के मुखिया के कोर बैंक समर्थ खाते की प्रति
  • परिवार के मुखिया व एक अन्य सदस्य का आधार प्रपत्र में उल्लेखित जानकारी से सम्बन्धित जैसे-
  1. बिजली, पानी, गैस, टेलीफ़ोन बिल की प्रति
  2. मतदाता पहचान, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट की प्रति.
  3. मूल निवास, जन्म प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र की प्रति.
  4. परिवार के सदस्यों की बैंक पास बुक, bpl कार्ड, नरेगा जॉब कार्ड इत्यादि के दस्तावेज की प्रति.
  5. किसी भी राजकीय योजना जिससे परिवार लाभान्वित हो रहा हैं/होगा जैसे सामाजिक सुरक्षा पेंशन, राशनकार्ड, बीपीएल कार्ड, नरेगा जॉब कार्ड इत्यादि के दस्तावेज की प्रति.

भामाशाह नामांकन/कार्ड में संशोधन/अद्यतन हेतु शुल्क (bhamashah card online check/editing/charges)

राज्य सरकार द्वारा सभी नागरिको को एक बार निशुल्क भामाशाह योजना के तहत रजिस्ट्रेशन करवाया जाता हैं. भामाशाह कार्ड बनवाने के उपरांत किसी भी प्रकार का संशोधन/अद्यतन करवाने पर राज्य सरकार द्वारा निर्धारित शुल्क देना होता हैं.चूंकि भामाशाह रजिस्ट्रेशन एक सतत प्रक्रिया हैं. अत: राज्य के समस्त ईमित्र केन्द्रों को स्थायी रजिस्ट्रेशन केंद्र घोषित किया गया हैं. यदि किसी नामांकित परिवार को भामाशाह नामांकन में दर्ज सूचना में किसी प्रकार का संशोधन /अद्ध्य्तन करवाना हो तो नजदीकी ईमित्र पर संशोधन करवाया जा सकता हैं.

भामाशाह नामांकन में दर्ज की जाने वाली सूचना (bhamashah yojana card )

सभी सरकारी लाभ सीधे, शीघ्र व पारदर्शी रूप से लाभार्थी को प्राप्त हो तथा किसी भी लाभ को प्रदान करने के लिए बार-बार लाभार्थी से दस्तावेज नही लेने पड़े, इसके लिए लाभार्थी के परिवार की सामाजिक एवं आर्थिक स्थति से सम्बन्धित विभिन्न दस्तावेजों की प्रति ली जाती हैं.

  • आधार कार्ड सम्बन्धी सूचना-नाम,जन्म, लिंग, पता, बायोमेट्रिक, निशान की तिथि, पहचान पत्र, पते का प्रमाण.
  • बुनियादी जन्सखियिकी सम्बन्धी सूचनाएँ- वैवाहिक स्थति, आय, अल्पसंख्यकता, वर्ग, व्यवसाय, शैक्षिक योग्यता, परिवार पहचान, सामाजिक-आर्थिक स्थति, बैंक खाता इत्यादि.

भामाशाह कार्ड (bhamashah card )

  • प्रत्येक परिवार को 7 अक्षरों की यूनिक आईडी सहित भामाशाह कार्ड जारी किया जाता हैं.
  • राज्य सरकार द्वारा भामाशाह कार्ड को परिवार उनके पते की पहचान घोषित किया जा चूका हैं.
  • भामाशाह कार्ड निशुल्क प्रदान किया जाता हैं.
  • परिवार का कोई व्यक्ति व्यक्तिगत रूप से भामाशाह कार्ड चाहता हैं तो उसे अतिरिक्त भर वहन करना होगा.
  • प्रारम्भ में प्रत्येक नामांकित परिवार को निशुल्क भामाशाह कार्ड सम्बन्धित ग्राम पंचायत/शहरी निकाय के माध्यम से वितरित किये जा रहे थे, नागरिको को स्थायी वितरण केंद्र घोषित किया गया हैं. नागरिक अपने नजदीकी ईमित्र पर अपना भामाशाह कार्ड प्राप्त कर सकते हैं.नामांकित परिवार भामाशाह पोर्टल से भामाशाह कार्ड जारी होने की स्थति का पता कर सकता हैं तथा ई-भामाशाह परिवार/ व्यक्तिगत कार्ड का भी प्रिंट ले सकता हैं.

भामाशाह कार्ड के प्रकार व नमूना (bhamashah card online form )

परिवार का कार्ड– प्रत्येक परिवार को एक कार्ड निशुल्क दिया जाता हैं, जिसमे एक ओर महिला मुखिया का फोटो, जन्म दिनांक,उसका बैंक खाता, आधार संख्या, घर का पता, दूसरी ओर परिवार के सभी सदस्यों के फोटो, जन्म दिनांक, आधार संख्या इत्यादि सूचनाएँ होती हैं.

व्यक्तिगत कार्ड – नामांकित परिवार के किसी भी सदस्य द्वारा निर्धारित शुल्क जमा करवाकर व्यक्तिगत कार्ड प्राप्त किया जा सकता है. इस कार्ड में सम्बन्धित व्यक्ति की जानकारी यथा फोटो, जन्म तिथि, उसका बैंक खाता, आधार संख्या, घर का पता, किसी योजना का लाभार्थी हो तो उससे सम्बन्धित सूचना अंकित होती हैं.

ई-भामाशाह कार्ड-नामांकित परिवार ई-भामाशाह कार्ड भी भामाशाह वेबसाइट से निशुल्क डाउनलोड कर सकता हैं. उसमे भी भामाशाह कार्ड की समस्त सूचनाएँ अंकित होती हैं.

भामाशाह योजना हेल्पलाइन (bhamashah helpline number )

भामाशाह योजना राजस्थान से जुड़ी किसी भी जानकारी अथवा पूछताछ के लिए आप ऑफिस के समय इन हेल्पलाइन नंबर ईमेल और सहायता केंद्र के पते पर अपनी समस्या को बताकर समाधान पा सकते हैं. कार्यालय पता इस प्रकार हैं- आईटी बिल्डिंग, योजना भवन प्रेमिसेस तिलक मार्ग, सी स्कीम, जयपुर, राजस्थान.
टेलीफ़ोन से सम्पर्क करने के लिए 0141-5166227,223,224 इन लैंडलाइन पर कॉल कर सकते हैं. इसके अतिरिक्त आप bhamashah@rajasthan.gov.in पते पर ईमेल भी कर सकते हैं. भामाशाह योजना की आधिकारिक वेबसाइट http://bhamashah.rajasthan.gov.in पर लॉग इन किया जा सकता हैं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *