राजनीति का अपराधीकरण पर निबंध – Bhartiya Rajniti Me Apradhikaran Essay In Hindi

In this article, we are providing information about Bhartiya Rajniti Me Apradhikaran Essay In Hindi  . राजनीति का अपराधीकरण पर निबंध – Bhartiya Rajniti Me Apradhikaran Essay In Hindi, Criminalization of Politics Par nibandh class 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10,11,12 Students.

Bhartiya Rajniti Me Apradhikaran Essay In Hindi

राजनीति का अपराधीकरण पर निबंध - Bhartiya Rajniti Me Apradhikaran Essay In Hindi

प्रस्तावना– आदिम मानव समाज प्राकृतिक नियमों से शासित होता था. सभ्यता के विकास के साथ साथ उसे सर्वस्वीकृत शासन तंत्र की आवश्यकता हुई. अतः राज्य संस्था अस्तित्व में आई. अपराध बढ़े तो अपराधियों को दंडित करने को कानून बने. आज तो राजनीति राज अर्थात सत्ता हथियाने की कूट नीति बन गई हैं.

राजनीति क्या है– नीति शब्द के यों तो अनेक अर्थ हैं किन्तु सामान्यतया आचरण के श्रेष्ठ तथा सुसम्मत ढंग को ही नीति माना गया हैं. धर्मनीति, युद्ध नीति व्यवहार नीति आदि शब्दों से नीति विधि विधान निपुणता और कौशल का भी बोध कराती हैं राज्य करने की नीति ही राजनीति हैं.

राजनीति पूर्णतया धर्मनीति पर होनी चाहिए, किन्तु आज तो राजनीति का अर्थ ही उल्ट गया हैं. राजनीति की पाश्चात्य अव धारणा के अनुसार छल, कपट, कुटिलता और क्रूरता से राजनीतिक विरोधियों को परास्त करना और सत्ता हथियाना ही राज नीति माना जाता हैं.

अपराध क्या हैं– अपराध व्यक्ति और समाज के प्रति किया गया ऐसा आचरण है जिसे परम्परा से या विधि से दंडनीय माना गया हैं. भारत में अपराधियों को दंड देना और सज्जनों की सुरक्षा करना सबसे प्रधान राजधर्म माना गया हैं.

संवर्धन च साधुनाम दुष्टानां च विमर्दनम
राजधर्म बुधा प्राहु दंड नीति विचक्षणाः

अपराधों का राजनीतिकरण– राजनीती में अपराधी प्रवृति के लोगों का प्रवेश ही राजनीति का अपराधीकरण हैं अथवा अपराधों का राजनीतिकरण कहा जा सकता हैं अर्थात् अनैतिक आचरण करने वालों का राजनीति के शिखरों पर  बैठना  अपराधों  का राजनीतिकरण बन गया हैं.

आज राजनीति का व्यापक और बहुमुखी अपराधीकरण हो चुका हैं. सुसंस्कृत और पेशेवर दोनों प्रकार के अपराधी राजनीति के मुखौटे लगाए देश के भाग्यविधाता बने हुए हैं. मतदाताओं को आतंकित करके मतपेटियों को लूटकर और इससे काम न चले तो राजनीतिक विरोधियों को ठिकाने लगाकर राज पर अधिकार कर लेना ही आज की राजनीति हैं.

निवारण के उपाय– राजनीति का अपराधीकरण कैसे रुके. इसका अंतिम और सुनिश्चित उपाय तो जनता के हाथों में हैं.   वह अपराधी प्रवृति और अपराधिक इतिहास के व्यक्तियों को चुनकर न भेजे. चरित्रवान न्यायपालिका आगे आए और अपराधियों को राजनीति से बाहर करे. आज न्यायपालिका की जो प्रखर भूमिका परिलक्षित हो रही हैं उसे जन समर्थन मिलना चाहिए.

अनेक राजनीतिक अपराधियों का दंडित होना, धन लेकर संसद में प्रश्न पूछने वाले सांसदों की सदस्यता समाप्त होना तथा कुछ राजनीतिक बाहुबलियों का न्यायपालिका की वक्र दृष्टि में पड़ना इस दिशा में आशा की किरण दिखाता हैं.

उपसंहार– राजनीति के अपराधीकरण ने लोकतंत्र को मजाक बना दिया हैं. इस संकट से मुक्ति पाना सरल कार्य नहीं हैं. आज का जन सेवक पांच वर्षों में करोड़पति और अरबपति बन जाता हैं. अतः  अपराधियों  का  राजनीति में छल बल  से प्रवेश करना स्वा भाविक हैं. कानूनों के अधिक कठोर होने और शीघ्र न्याय की व्यवस्था होने पर ही अपराधों का राजनीतिकरण रोका  जा  सकता हैं.

#Bhartiya Rajniti Me Apradhikaran In Hindi # Hindi Essay On Bhartiya Rajniti Me Apradhikaran

राजनीति का अपराधीकरण पर निबंध | ESSAY ON CRIMINALIZATION OF POLITICS IN HINDI

आशा करता हूँ दोस्तों Bhartiya Rajniti Me Apradhikaran Essay In Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *