Biography Of Swami Keshwanand In Hindi | स्वामी केशवानंद की जीवनी

Biography Of Swami Keshwanand In Hindi | स्वामी केशवानंद की जीवनी: निर्धन ढाका परिवार में जन्में केशवानंद स्वतंत्रता सेनानी व महान समाज सुधारक थे. इनके बचपन का नाम बीरमा था पूर्व में इनका परिवार मगलूणा से रतनगढ़ में आ बसा था. इनके माता पिता का बचपन में ही देहांत हो गया था, इस वजह से इनका लालन पोषण ठाकरसी दारा किया गया. जो अपने ऊट के जरिये माल ढोकर परिवार का गुजर बसर करती थी.

Biography Of Swami Keshwanand In HindiBiography Of Swami Keshwanand In Hindi

शिक्षा संत के रूप में प्रसिद्ध स्वामी केशवानंद का जन्म सीकर जिले के मंगलूणा गाँव में 1883 ई में चौधरी ठाकरसी के घर हुआ. इनके बचपन का नाम बीरमा था. 1904 में फाजिल्का में उदासी साधु कुशलदास के सम्पर्क में आये, यहाँ इन्होने संस्कृत सीखी. प्रयाग में कुम्भ मेला देखने के दौरान इनके संस्कृत के शुद्ध वाचन से प्रभावित होकर अवधूत हीरानन्द ने इनका नाम केशवानंद रख दिया.

गांधीजी से प्रभावित होकर केशवानंद ने 1921 से 1931 ई तक स्वाधीनता आन्दोलन में भाग लिया और जेल गये. इसी दौरान इन्होने 1925 ई में अबोहर में साहित्य सदन की स्थापना की. और यहीं से हिंदी मासिक पत्रिका दीपक का प्रकाशन किया.

इन्होने चल पुस्तकालय के माध्यम से पंजाब और जम्मू कश्मीर में राष्ट्र भाषा हिंदी का प्रचार प्रचार किया. केशवानंद ने 1932 ई में संगरिया में जाट विद्यालय का संचालन संभाला और उसे मिडिल स्तर से महाविद्यालय स्तर तक पहुचाया. जिसमें कला, कृषि, विज्ञान तथा महाविद्यालय के अतिरिक्त शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय संग्रहालय एवं ग्रामौत्थान विद्यापीठ बना दिया.

इन्होने 1944 से 1956 ई तक बीकानेर में रेगिस्तानी गाँवों में लगभग 300 पाठशालाएं खुलवाई तथा अनेक स्थानों पर चलते फिरते वाचनालय एवं पुस्तकालय स्थापित किये. स्वामी केशवानंद ने रूढ़ियों, अंधविश्वासों, नशा सेवन, दहेज प्रथा, मौसर, छुआछूत आदि के विरुद्ध आंदोलन चलाया.

इन्होने राष्ट्र सेवा, दलितोंउद्धार एवं शिक्षा प्रसार में अपना जीवन लगा दिया, उन्हें 1952 से 1964 ई तक राज्यसभा का सदस्य मनोनीत किया गया. 13 सितम्बर 1972 को दिल्ली में इनकी मृत्यु हुई.

यह भी जाने-

आशा करता हूँ दोस्तों Biography Of Swami Keshwanand In Hindi का यह लेख आपकों अच्छा लगा होगा. यदि आपके पास स्वामी केशवानंद से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी हो तो हमारे साथ भी साझा करे ताकि इस लेख को अधिक ज्ञानपूर्ण व उपयोगी बनाया जा सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *