Chetan Saini Murder Mystery चेतन सैनी की मौत हत्या या आत्महत्या?

Chetan Saini Murder Mystery: नाहरगढ़ के बुर्ज पर चेतन सैनी का शव चार दिन पहले लटका मिला था, मगर पुलिस अब तक कोई भी केस ही दर्ज नहीं कर पाई है. घरवाले कह रहे है की चेतन की हत्या हुई है और पुलिस भी इस आशंका को ख़ारिज नहीं कर रही है. फिर भी जांच इस मामले को आत्महत्या साबित करने की दिशा में आगे बढ़ती दिख रही है.

सोमवार को पुलिस ने चेतन के घर पर उसका कमरा सुसाइड नोट की तलाश में खंगाल डाला. सुसाइड नोट तो मिला नहीं, पुलिस ने चेतन के हैण्डराइटिंग के नमूने लेकर FSL को भेजे है. चेतन के भाई का दावा है की पत्थरों पर मिली लिखावट चेतन की नहीं है. आईये जानते है इस घटनाकर्म के बारे में.

Chetan Saini Murder Mystery चेतन सैनी की मौत हत्या या आत्महत्या?

क्या कहा चेतन के भाई ने?

चेतन के भाई का कहना है की नाहरगढ़ के पत्थरों पर मिली लिखावट मेरे भाई चेतन की नहीं है. उन्होंने दावा किया है की उन्हें किसी की जांच की जरूरत नहीं है वे चेतन की हैण्डराइटिंग अच्छी तरह से पहचानते है.

पुलिस और पत्नी का बयान

पुलिस का कहना है की चेतन पर डेढ़ लाख के कर्ज का दबाव था जिसकी किश्त नहीं दे पाने के कारण वो तनाव में था, लेकिन चेतन की पत्नी नीतू का कहना है की चेतन ने इससे ज्यादा पैसे तो लोगों को उधार दे रखे थे. 20 नवम्बर को चेतन खाटूश्याम जी के मंदिर गया था. वहां एक व्यक्ति से चेतन 5.85 लाख रूपये मांगता था. मुंबई में जिन लोगों के लिए काम करता था उन्होंने भी पैसे नहीं दिए.

पुलिस मान रही है फांसी लगाईं…लेकिन रस्सी कहाँ से आई

पुलिस का कहना है की चेतन ने बुर्ज की दीवार से फांसी लगाई है लेकिन अब तक मिले CCTV फुटेज में कहीं भी चेतन के हाथ में रस्सी नहीं दिखाई दे रही है. अभी तक यह भी पता नहीं चल रहा है की रस्सी आखिर आई कहां से. यह भी स्पष्ट नहीं है की किले की करीब 4 फीट चौड़ी दीवार पर चेतन ने अकेले रस्सी कैसे बांधी और फंदा कैसे लगाया.

चेतन का किसी से संघर्ष नहीं…तो चोट के निशान क्यों?

पुलिस का कहना है की मौके से कोई ऐसे सुराग नहीं मिले है जिससे यह पता चले की चेतन का किसी के साथ संघर्ष हुआ था. हालाँकि चेतन के गाल, हाथ और पैर पर चोट और रगड़ के निशान कैसे आये, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के दौरान ये कहा गया है की चोट के निशान फंदे से झूलने के दौरानआ सकते है, मगर इसे अंतिम रूप से पुष्ट नहीं किया गया है.

चेतन अकेला था…तो जूते में चाय के 4 कप किसने रखे?

पुलिस का कहना है की हत्या के वक्त चेतन वहां अकेला था, उसके साथ कोई नहीं था. हालाँकि जिस वक्त चेतन का शव किले की दीवार से उतरा जा रहा था, घटनास्थल पर मिले उसके दायें पाँव के जूते में 4 चाय के गिलास रखे हुए थे. अब तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है की यह गिलास किसने रखे.

ऐसे में यह मामला फिल्म की तरह किसी मर्डर मिस्ट्री से कम नहीं लग रहा है. अब देखते है आगे पुलिस इसकी कैसे जांच कर पाती है और कैसे सच्चाई तक पहुँच पाती है या जांच CBI के हवाले कर दी जायेगी. यह तो आगे की जांच में ही पता चलेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *