स्वच्छता का महत्व एवं घर की साफ सफाई | Cleanliness Health And Hygiene In Hindi

Cleanliness Health And Hygiene In Hindi:- स्वस्थ रहने के लिए स्वच्छता आवश्यक है. घर वह स्थान होता है, जहाँ हमारा परिवार निवास करता है. परिवार के सभी सदस्यों को प्रसन्न चित व स्वस्थ रखने के लिए हमे अपने आवास और आसपास के स्थान को स्वच्छ रखना चाहिए. स्वच्छता का महत्व और अपने घर की साफ सफाई के लिए हमे निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए.

स्वच्छता का महत्व एवं घर की साफ सफाई (Health And Hygiene In Hindi)Cleanliness Health And Hygiene In Hindi

  • मकान की नालियाँ साफ सुथरी व ढकी हुई हो.
  • शौचालय व स्नानघर प्रतिदिन अच्छी तरह से साफ़ किये जाने चाहिए. क्योंकि यहाँ कीटाणु पनपने की सम्भावना सर्वाधिक होती है.
  • घर की नालियों में कीटनाशकों का नियमित छिड़काव किया जाना चाहिए.
  • कमरों में से दूषित हवा निकलने के लिए रोशनदान की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए.
  • समस्त कूड़ा करकट प्रतिदिन एक कूड़ेदान में एकत्र करने चाहिए. यह कूड़ादान ढक्कन वाला होना चाहिए.
  • रसोईघर में धुंए के निकास के लिए चिमनी की व्यवस्था होनी चाहिए.
  • घर में प्रतिदिन फिनायल आदि डालकर पोछा लगाया जाना चाहिए ताकि मक्खी मच्छर न फ़ैल सके.
  • घर का समस्त कूड़ा करकट बाहर नही फेकना चाहिए, इसे नगर परिषद् के सफाई कर्मचारी के सुपुर्द किया जाना चाहिए.
  • गली मुहल्ले की नालियाँ भी साफ करवानी चाहिए.
  • नगर परिषद से सम्पर्क कर समय समय पर कीटनाशकों फिनाइल, बीएचसी पाउडर आदि का छिडकाव करवाना चाहिए.
  • सामुदायिक स्वास्थ्य के लिए आवासीय बस्तियाँ योजनाबद्ध रूप से बसी होनी चाहिए, जिससे सभी आवासों के लिए समुचित हवा, पानी, रोशनी, जल निकास व शौचालय आदि की व्यवस्था हो.
  • गंदे जल के निकास की नालियाँ व गटर ढके हुए हो.
  • आवासीय बस्तियों में जल के गड्डे नही होने चाहिए, क्योंकि इन स्थानों पर मच्छर पनपने की संभावना अधिक रहती है.
  • जल स्रोत साफ स्वच्छ होने चाहिए, कुएँ ढकें हो, जिनमें समय समय पर जीवाणुनाशक दवाइयाँ डाली जाती रहे.
  • हैण्डपंप, कुएँ व बावडियों आदि के आस-पास का स्थान स्वच्छ रखना चाहिए. इन स्रोतों में कपड़े व बर्तन धोना, स्वयं नहाना, जानवरों को नहलाना आदि कार्य नही करने चाहिए.
  • पानी की टंकियो की नियमित सफाई की जानी चाहिए.
  • बस्ती में वृक्षारोपण करना चाहिए.
  • मरे हुए जानवरों को जलस्रोत या बस्तियों से दूर उचित स्थान पर डालना चाहिए.
  • हर घर के बाहर या कुछ घरों के बिच कचरा पात्र रखे जाए.
  • समुदाय के लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता पैदा करनी चाहिए.
  • लोगों को गंदगी से होने वाली बीमारियों व संक्रामक रोगों के बारे में जानकारी होनी चाहिए, ताकि वे अपने आस-पास के क्षेत्र को साफ सुथरा रख सके.
  • भारत सरकार ने 15 अगस्त 2014 को स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम शुरू किया है, जिसके तहत 2 अक्टूबर 2019 तक Swachh Bharat Abhiyan चलेगा.

READ MORE:-

Hope you find this post about ”Cleanliness Health And Hygiene In Hindi” useful. if you like this article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update keep visit daily on hihindi.com.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article about Health And Hygiene In Hindi and if you have more information History of Health And Hygiene then help for the improvements this article.

Leave a Reply