Desh Bhakti Shayari in Hindi | देशभक्ति शायरी संग्रह

Desh Bhakti Shayari in Hindi: जब बात वतन ही हो, सब अपना-पराया, तेरा मेरा छोड़कर एक धागे में बंध जाते है. यही देशभक्ति है, हर भारतीय अपने वतन के सम्मान की खातिर सर्वस्व नौछावर कर देता है. यहाँ आपके लिए कुछ बेहतरीन patriotic shayari, Desh Bhakti Shayari, rashtriya shayari का संग्रह किया है. उम्मीद करते है, यह आपकों पसंद आएगा. चलिए पढ़ना आरम्भ करते है.

Desh Bhakti Shayari | देशभक्ति शायरीDesh Bhakti Shayari

aao jhuak ke kare salam unko
jinke hisse mai yah mukam aata hai
kitne kismat vaale hai vo log
jinka lahu desh ke kaam aata hai

आवों झुक के सलाम करे उनकों
जिनके हिस्से में यह मुकाम आता है
कितने किस्मत वाले है वे लोग
जिनका लहू वतन के काम आता है.
(Desh Bhakti Shayari)

इंडियन आर्मी शायरी इन हिंदी

सो गया अपनी भारत माँ के लिए ,माँ मुझे अपने आंचल में तुम भी छुपा लो !
हाथ अपना फेर कर मेरे बालों में , फिर से बचपन की लोरिया सुना दो !! 😥😥
I love my Indian Army..!!

So gya apni bharat maa ke liye
maa mujhe tum apne aanchal me chhipa do,
haath apna fer kar mere baalon me
fir se bachpan ki loriya suna do
Indian Army shayari

देशभक्त शायरी हिंदी, उर्दू

लोट आई वो साहिल पे वो खोई हुई कस्ती
अभी इस नदी की मौजो में रवानगी बाकी है

lout aai vo sahil pe khoi hui kasti
abhi es nadi ki moujon me ravangi baki hai

मै भारतीय हु, हिंदी शायरी देशभक्ति पर

samay aa chuka hai ab
sabko saaf saaf kahna hoga
deshbhakti ki prbal dhara me
sabka man bahna hoga,
jise paraya lage tirnga
mera vatan chhod jaye
yaha to bhartiy bankar rahna hoga..

समय आ चूका है अब
सभी को साफ़ साफ़ कहना होगा
देशभक्ति की प्रबल धारा में
हर मन को अब बहना होगा
जिसे लगे ये पराया तिरंगा
मेरा वतन छोड़ जाए
यहाँ तो भारतीय बनकर रहना
होगा ||

Patriotic Shayari Hindi (देशभक्ति शायरी संग्रह)

सर-फरोशी ki तमन्ना अब हमारें दिल मे हे
देखना है जोर कितना बाजूए कातिल मे है,
वक्त आनें दें बता देगे तुझें ए आसमा,
हम अभी सें क्या बताए क्या हमारें दिल मे है.

जमानें भर में मिलतें हैं आंशिक कई
मगर वतन से सुनदर कोईं सनम नही होतां

पैसों में भी लिपटकर
सोंने में सिमटकर मरें हैं कई
,
मगर तिरंगें से सुनदर कोईं कफन नहीं होता !!

नसीब वाले है वो लोग जो वतन पर मिट जाते है
मरके भी वो लोग अमर हो जाते है
करता हु, उन्हें सलाम ऐ वतन पर मिटने वालों
तुम्हारी हर सास में तिरंगे का नसीब बसता है !!

अब तक जिसका खून न खौला
वह खून नही पानी है
जो वतन के काम न आए
वो बेकार जवानी है !!

__

मेरा यही अंदाज जमाने को खलता है
कि चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है
मै अमन पसंद हू
मेरे शहर में दंगा रहने दो
लाल व हरे में न बाटों
मेरी छत पे तिरंगा रहने दो
(Desh Bhakti Shayari)

__

मुझे न तन चाहिए न मन चाहिए
अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिन्दा रहू इस मातृभूमि के लिए
और मरु तो तिरंगा कफन चाहियें !!

__

तैरना हे तों समुदर में तेरों
नालो मे कया रखा हे
पयार करना हे तो देश सें करों
औंरों मे क्या रखा हे !!

__

हमे नशा तिरंगें कीं आंन का हे,
कुछ नशाँ मातृभूमि कीं शांन का हे
लहरायेगें यें तिरंगां,
नशा ये भारत माँ के शांन का हे !! 

Desh Bhakti Shayari Bhagat Singh

देशभक्ति शायरी डाउनलोड देशभक्ति शायरी कविता राष्ट्रीय शायरी वतन शायरी देशभक्ति sms शहीदों की शायरी वतन परस्ती शायरी देशभक्ति शायरी download

जों वतन के कुर्बान के हुए
उन्हें मेरा सलाम हे
इस धरती को जिसने अपने लहू से सींचा
उन् शूरवीरों को मेरा सलाम है !!

__

जिन्हें पयार है मातृभूमि से, वो अपना खून बहाते हे
माँ की चरणों में अपना प्राण न्यौछावर करते हे
देश के लिए हसते हसते अपनी जान दे देते है
वहीँ सपूत अंत में अमर शहीद कहलाते है !!

__

जिन्दगीं तो अपनें दम पर जी जाती हे
दुसरों के कन्धो पर तों सिर्फं जनाजे निकालें जाते है
(bhagat singh quotes)

__

पल वो यहाँ के इतिहास के
इस वतन के सीने में स्थापित हो गयें,
जो लड़े, जो भिड़े वो शहीद हो गयें,
जो डरे, जो झुकें वो वजीर हो गयें.

__

Desh bhakti Shayari Collection | देशभक्ति शायरी संग्रह

हर रोज नया दिन
हर दिन नया पर्व है
विविधताओं से भरे
इस देश पर मुझे गर्व है !!

__

गददार थें जिन्होनें वों सीमा
पर सरहदी रेखा बनाइं
यूं हीं नहीं स्वतंत्र हुए हे
इसें शहीदों के खून से सींचा हे !!

__
ऐसा नहीं हैं वतन कोई
जिसनें ये रित हैं अपनाई
देश को कहते हैं माँ
और देशवासियों को भाई

__

लिख रहा हू मे अजाम
जिनका कल आगाज़
आएगां
..
मेरें खून का एक-एक कतरा
इन्कलाब लाएगा…
..
मे रहु ना रहु पर मेरा वादा है तुमसे
मेरें जानें कें बाद देश पर मरनें वालों का
सैलाबं आएगा !!
(भगतसिंह शायरी | देशभक्ति शायरी )

__

मिटा दिया है वजूद उनका
जिसनें भी हमारी तरफ है देखा
वतन की रक्षा का वायदा
किये जवान खड़ा है सरहद पर !!

__

यहाँ आरती हे अजां हे
मुसलमान हे हिन्दू हे
फक्र हे मुझे इस वतन पर
कयोंकि ये मेरा हिन्दुस्थान है !!

मित्रों उम्मीद करता हु आपकों Desh Bhakti Shayari का संग्रह पसंद आया होगा. आप अपनी इस वेबसाइट पर स्वतंत्रता दिवस पर शायरी, गणतंत्र दिवस पर शायरी, शहीदों पर शायरी, देशभक्ति शायरी संग्रह इत्यादि पढ़ सकते है.

READ MORE:-

KEYWORDS
desh bhakti status in hindi for whatsapp, bhakti sms hindi, desh bhakti shayari download, desh bhakti shayari bhagat singh,
desh bhakti chutkule, desh bhakti shayari image, kumar vishwas desh bhakti shayari in hindi, bhakti status for whatsapp, kumar vishwas desh bhakti shayari in hindi, desh bhakti shayari download, desh bhakti shayari bhagat singh, patriotic shayari hindi, desh bhakti shayari in english, desh bhakti shayari image, desh bhakti shayari, desh bhakti shayari
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *