धनतेरस 2017 कब है टोटके और क्या खरीदें | Dhanteras 2017 When Is Totke And What To Buy

Dhanteras 2017 When Is Totke And What To Buy धनतेरस दीपावली के ठीक दो दिन पूर्व मनाई जाने वाली तिथि और उपपर्व है. जिन्हें धनत्रयोदशी भी कहा जाता है. इस दिन भारतीय चिकित्सा पद्दति के जन्मदाता भगवान धन्वन्तरी का जन्म दिन भी है. भारत सरकार ने भी इन्हें राष्ट्रिय आयुर्वेद दिवस के रूप में मनाने का निर्णय किया है. धनतेरस के अवसर पर कीमती वस्तुओं और आभूषणों का खरीदा जाना शुभ मानते है. कहते है इस दिन जो भी खरीदा जाता है वो तेरह गुना बढ़ जाता है. इसी परम्परा का निर्वहन करते हुए गहने व् आभूषणों के साथ साथ धनियाँ और लक्ष्मी गणेश की मूर्तियों की खरीददारी भी बड़े पैमाने पर की जाती है.

धनतेरस 2017 कब है टोटके और क्या खरीदें

(Dhanteras 2017 When Is Totke And What To Buy)

धनतेरस 2017 कब है-दिवाली का पर्व पांच दिन तक चलता है जिसकी शुरुआत धनतेरस से होती है. इस वर्ष धनतेरस 2017 का दिन मंगलवार 17 अक्टूबर को है. इस दिन भगवान् धन्वन्तरी, यमदेवता और कुबेर की पूजा का प्रावधान है. काल की दिशा कही जाने वाली दक्षिण दिशा में इस दिन दीपक का मुह कर जलाया जाता है.

लगभग सम्पूर्ण भारत में एक ही दिन कार्तिक महिने के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन यह मनाया जाता है.

धनतेरस पूजा मुहूर्त और समय (Dhanteras Puja Muhurt and Time)

Dhanteras Puja मुहूर्त लिए प्रदोष काल का समय सबसे अच्छा माना जाता है. जो तक़रीबन ढाई घंटे की अवधि का रहता है. जो 7 बजकर 13 मिनट से आरम्भ होकर रात 9 बजकर 8 मिनट तक चलेगा. इस समयावधि के दौरान पूजा पाठ और दीप जलाना श्रेयस्कर है.

विभिन्न ज्योतिषीयों और काल कैलेंडर के अनुसार समय में स्थान के अनुसार कुछ बदलाव भी हो सकता है. इस दिन कुबेर की पूजा अच्छे मुहूर्त के अनुसार ही की जानी चाहिए. चौघड़िया मुहूर्त अकसर सभी समान नही हुआ करते है. मगर कहा जाता हैं यदि धनतेरस के दिन यदि प्रदोष काल के स्थिर लग्न में पूजा की जाती है तो लक्ष्मी उसके घर ठहर जाती है.

धनतेरस पर क्या खरीदें (What to Buy on Dhanteras)

Kuber को धन का देवता माना जाता है. Dhanteras का पर्व भी इन्ही को समर्पित है आपने कई जगहों पर पढ़ा होगा कि Dhanteras के दिन यदि इन चीजो की खरीददारी की तो जिन्दगी में कभी पैसे धन की कमी नही रहेगी, दूसरी तरफ कुछ चीजे ऐसी भी बताई जाती है जिसकी खरीददारी कम से कम इस दिन तो करने से बचना चाहिए. चलिए आपकों एक एक कर बताते है कि त्रयोदशी के दिन क्या क्या खरीदें और क्या नही.

  • सोना चांदी और पीतल धातु की बनी किसी वस्तु बर्तन या सिक्के खरीद्ना धनतेरस के दिन शुभ माना जाता है. ऐसा माना जाता है कि इस दिन जो कीमती वस्तु खरीदी जाती है वो जीवन में आपकों तेरह गुणा फायदा देती है. इसलिए आप कोई भी इन धातु से निर्मित उपकरण, सिक्का, आभूषण खरीद सकते है.
  • बहुत से लोग इस दिन माँ लक्ष्मी और प्रथम पूज्य गणेश जी की प्रतिमा या मूर्ति की खरीददारी भी करते है. मिटटी या किसी धातु की बनी मूर्ति खरीदने से परिवार में वर्ष भर लक्ष्मी जी का आशीर्वाद बना रहता है. लोग इस दिन झाड़ू की खरीददारी करना भी शुभ मानते है. नया झाड़ू लाने से साल भर आपस के रिश्तो व परिवार के सदस्यों के बिच फैली नकारात्मक भावना का नाश होकर नई उर्जा का संचार होता है.
  • धातु की चीजों में पानी पीने या रखने का बर्तन, किसी धातु का बना दीपक, कटोरी, घंटी या खाना बनाने का कोई बर्तन जिसका हम दैनिक जीवन में अधिकतर उपयोग करते है खरीदा जाना अच्छा माना जाता है. इसके अतिरिक्त कुबेर की तस्वीर और धनिया खरीद्ना भी शुभ माना जाता है.

धनतेरस पर टोटके (Dhanteras Ke Totke)

मुख्यतः व्यापारी वर्ग धनतेरस के दिन कुबेर और लक्ष्मी की पूजा के साथ साथ कुछ टोटके और चमत्कारी उपाय भी करते है. जो उनके कारोबार को बढ़ाने में मददगार साबित होते है आप भी धन प्राप्ति के टोटके देख रहे है तो हम आपकों कुछ Dhanteras ke Chamatkari Tone Totke or Upaay बता रहे है जिनका प्रयोग जरुर करे.

  • कुछ लोग सुबह उठने के बाद किसी का मुह देखने से पूर्व अपना हाथ देखतें है. ऐसा माना जाता कि अपना हाथ रोजाना देखने से सकारात्मक उर्जा मिलती है.
  • चमगादड़ के रहने वाले पेड़ के कुछ पत्ते या टहनी अपने घर जरुर रखे.
  • धन तेरस के दिन उपवास रखना चाहिए तथा भोजन करने से पूर्व पहला निवाला गाय के लिए निकाले.
  • इस दिन वृक्षारोपण अवश्य करे संभव हो तो केले का एक पौधा जरुर लगाए.
  • पीड़ित दीन दुखी की धनतेरस के दिन दिल खोलकर आर्थिक मदद करे ऐसा करने से कई गुना सम्पति आपकों प्राप्त हो सकती है.
  • इस दिन सफेद रंग की वस्तुए या बर्तन दान करने चाहिए.
  • धनतेरस के दिन कुबेर यंत्र लाए और इन्हे मंत्रोच्चार के साथ सन्दुक या अलमारी में सहेज कर रखे.

धनतेरस का महत्व

दीपावली हिंदुओ का मुख्य त्यौहार है जो पांच दिन तक चलता है जिनमे धनतेरस, रूप चौदश, (छोटी दीपावली) दीपावली, भाई दूज और गौवर्धन पूजा मुख्य है. धनतेरस के दिन ही लोग अधिकतर खरीददारी करते है. इस दिन गहने और आभूषण के साथ साथ लक्ष्मी व् गणेश जी की मूर्तियों की खरीददारी भी होती है. इस दिन लोग विभिन्न धार्मिक क्रिया कर्म भी करते है.

Leave a Reply