माता पिता के प्रति हमारा कर्तव्य पर निबंध | DUTY OF CHILDREN TO PARENTS

माता पिता के प्रति हमारा कर्तव्य पर निबंध | DUTY OF CHILDREN TO PARENTS: बाल अधिकारों के साथ कर्तव्य भी जुड़े हुए है. बच्चों को अपने अधिकारों के लिए जागृति के साथ साथ अपने समाज, परिवार, माता पिता, देश एवं धर्म के प्रति कर्तव्यों का पालन भी करने की अपेक्षा की जाती है. The Duties of Children and Parents के इस निबंध में हम बच्चों के माता पिता के प्रति कर्तव्य एवं माता पिता के साथ ही बच्चों को भी अपनी सुरक्षा की जिम्मेदारी स्वयं उठाने के लिए क्या किया जाना चाहिए.

माता पिता के प्रति हमारा कर्तव्य पर निबंध | DUTIES OF CHILDREN TO PARENTSDUTYES OF CHILDREN

  1. बच्चों को अभिभावकों, शिक्षकों, कर्मचारियों और बाहरी लोगों का सम्मान करना चाहिए.
  2. बच्चों को अपने से सम्बन्धित आवश्यक जानकारियाँ अभिभावकों एवं शिक्षकों को देनी चाहिए.
  3. दूसरे साथियो के साथ अपने ज्ञान को बाटना चाहिए.
  4. कभी भी दूसरे बच्चे के साथ दुर्व्यवहार या शारीरिक चोट पहुचाने का काम न करे, तनाव न दे., धमकाएं नही और छोटे नामों से न पुकारे, अपमानित करने वाली भाषा का प्रयोग न करे.
  5. अपनी निजी वस्तुएं हमे देने के लिए दूसरे बच्चों को बाध्य न करे.

बच्चों के कर्तव्य और जिम्मेदारियां (Children’s Duties and Responsibilities)

अपनी सुरक्षा अपने हाथ में है, बच्चों को चाहिए कि वे अपने आस-पास की स्थतियों के प्रति सजग रहे, ताकि कोई परेशानी हो तो पहले ही पता लग जाए, इसके लिए बच्चों को इन बातो का ध्यान रखना चाहिए.

  1. ऐसी जगह मत जाओ जहाँ आपकों असुरक्षा महसूस होती है, जैसे ही कोई खतरा महसूस हो, वहां से निकल जाओं.
  2. किसी अजनबी के घर अकेले न जाए, जब भी कही जाओं, तो वहां से सम्पर्क का माध्यम क्या है और किसके साथ जा रहे हो, ये जानकारियां अपने अभिभावक या अपने संरक्षक को देकर जरुर जाए.
  3. अजनबियों से बात करते समय कुछ लेते समय सतर्क रहो. कोई तुम्हे उपहार, खिलौने, पैसे, गाड़ी में लिफ्ट देने या घुमाने का लालच दे तो इसके बारे में अपने अभिभावकों, संरक्षकों या प्रशासन व कर्मचारियों को जरुर बताओं.
  4. ज्यादा लोगों के बिच रहना अधिक सुरक्षित होता है, अतः समूह में खेलों और घूमों.
  5. अचानक कोई चेतावनी या धमकी मिलती है तो जोर से आवाज लगाओं और अपने साथियो को बुलाओं.
  6. यदि किसी के व्यवहार से आपकों परेशानी महसूस हो रही हो तो इसके बारे में अपने अभिभावकों या विश्वसनीय लोगों को बताओं . यदि आप अकेले है और खतरा महसूस कर रहे है तो 1098 या 100 (toll free number for children’s place) पर फोन करों.
  7. सूने स्थानों पर अकेले में शौचालयों के लिए नही जाए.
  8. इंटरनेट पर या अजनबी व्यक्तियों को अपना नाम, पता,उम्र,फोटो आदि उजागर न करे.
  9. कोई आपके परिवार के बारे में आपात स्थति बताए तो स्कूल द्वारा इसकी पुष्टि किये बिना स्कूल न छोड़े.

Leave a Reply