विज्ञापन पर निबंध | Essay on Advertisement in Hindi

Essay on Advertisement in Hindi प्रिय विद्यार्थियों आपका स्वागत है आज हम विज्ञापन पर निबंध इसका आमजन पर प्रभाव विज्ञापन की दुनिया लाभ हानि पर छोटा बड़ा हिंदी निबंध कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 के विद्यार्थियों के लिए परीक्षा के लिहाज से Essay on Advertisement in Hindi Language को 5, 10, लाइन, 100, 200, 250, 300, 400 और 500 शब्दों में आपके साथ साझा कर रहे हैं. तो चलिए आरम्भ करते है.

विज्ञापन पर निबंध | Essay on Advertisement in Hindiविज्ञापन पर निबंध | Essay on Advertisement in Hindi

Get Here Essay on Advertisement in Hindi Language Short And Long Length Essay For School Students And Kids, So Let’s Bigaine This Vigyapan Essay in Hindi.

Essay on Advertisement in Hindi in 500 words limit

इस विज्ञापन निबंध को पांच भागों में विभाजित किया गया हैं. जो इस प्रकार हैं. इसे 500 शब्दों में लिखने का प्रयत्न किया गया हैं.

  • विज्ञापन का अर्थ
  • विज्ञापन का उद्देश्य
  • विज्ञापनों का वर्तमान स्वरूप
  • विज्ञापनों से लाभ हानि
  • उपसंहार

विज्ञापन का अर्थ- विज्ञापन का अर्थ है किसी वस्तु या व्यक्ति का परिचय युक्त प्रचार करना. आज विज्ञापन हमारे दैनिक जीवन का अंग बन गये हैं. इसके रंग रूप और तकनीक बहुत बदल चुके हैं. भोजन, वस्त्र, शिक्षा, व्यवसाय कोई ऐसा क्षेत्र नहीं है, जहाँ विज्ञापन का जादू न चल रहा हो.

विज्ञापन का उद्देश्य- विज्ञापन का उद्देश्य किसी वस्तु को लोकप्रिय बनाना और अपने व्यवसाय को बढ़ाना है. इसके लिए तरह तरह के उपाय और तकनीक अपनाई जाती हैं. वस्तु के गुणों को बढ़ा चढ़ा कर प्रस्तुत किया जाता हैं. विज्ञापन द्वारा लोगों को नई नई सुविधाओं और लाभों से परिचित करवाया जाता हैं. मनोवैज्ञानिक प्रभाव का उपयोग करके लोगों को वस्तुएं खरीदने के लिए प्रेरित किया जाता हैं. आज विज्ञापन का प्रयोग गलत तरीके से भी किया जा रहा हैं. विज्ञापन लोगों को भ्रमित कर रहे हैं.

विज्ञापनों का वर्तमान स्वरूप- आज विज्ञापन स्वयं में एक उद्योग बन गया हैं. उचित अनुचित हर उपाय से लोगों की जेबे खाली करना ही विज्ञापन का मूल मन्त्र बन गया हैं. टीवी, समाचार पत्रों, रेडियो यहाँ तक की हमारा मोबाइल फोन भी विज्ञापन के माया जाल को फैलाने के साधन बन गये हैं.

बड़ी चतुराई से हमें समझाया जाता है कि एक ख़ास बिस्कुट के खाने से हमारे शरीर में दुगुनी ताकत आ जाती है. एक विशेष क्रीम या साबुन का उपयोग करने से हम सात दिन में काले से गोरे हो सकते हैं. एक ख़ास उत्पाद के सेवन से हमारी लम्बाई दुगुनी गति से बढ़ सकती हैं. एक ख़ास शैम्पू या तेल के प्रयोग से हमारे केश घुटनों तक लम्बे और कोमल बन जाते हैं.

विज्ञापनों ने शिक्षा के क्षेत्र में भी धूम मचा रखी हैं. कुछ विद्यालय दसवीं कक्षा पास को सीधे ग्रेजुएट बनाने का दावा करते हैं, तो कुछ शिक्षा संस्थाएं 100 प्रतिशत नौकरी की गारंटी देती हैं. वाहन और भवन खरीदने को आपकों ऋण की सुविधाएं दिलाई जा रही हैं.

विज्ञापनों से लाभ हानि विज्ञापनों के अनेक लाभ भी हैं. नौकरी से सम्बन्धित, विवाह से सम्बन्धित, विद्यालय में प्रवेश से सम्बन्धित, विभिन्न विषयों से सम्बन्धित, आवश्यक सूचनाओं से सम्बन्धित, विभिन्न विषयों की शिक्षा से सम्बन्धित विज्ञापनों से हमें बहुत लाभ तथा सुविधा प्राप्त होती हैं.

इसके साथ ही बहुत से विज्ञापन भ्रामक और धोखाधड़ी वाले भी होते हैं. किसी वस्तु या उत्पाद की झूठी झूठी जानकारियाँ बताई जाती हैं. ऐसे विज्ञापनों से लोगों का धन व समय बर्बाद होता हैं.

उपसंहार- विज्ञापनों के प्रति हमें पूर्ण सावधानी बरतनी चाहिए. अपनी बुद्धि तथा औरों के अनुभव का उपयोग करते हुए विज्ञापन की वास्तविकता जाननी चाहिए. लम्बे चौड़े दावों और चमत्कार पूर्ण प्रभावों में फंसकर अपना धन बर्बाद नहीं करना चाहिए.

यह भी पढ़े-

उम्मीद करता हूँ दोस्तों Essay on Advertisement in Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. यदि आपकों विज्ञापनों पर निबंध पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे. आपकों यह लेख कैसा लगा अपनी राय व सुझाव कमेंट कर बताए,

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *