मगरमच्छ पर निबंध Short Essay On Crocodile In Hindi Language

मगरमच्छ पर निबंध Short Essay On Crocodile In Hindi Language: नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत करता हूँ आज हम मगरमच्छ के विषय में निबंध Crocodile Essay पढ़ेगे, इस लेख में हम जानेगे कि यह प्राणी किस वर्ग का हैं शारीरिक विशेषताएं तथा इसके जीवन यापन व आवास स्थल के बारे में यहाँ जानकारी निबंध के रूप में दी गई हैं.

Essay On Crocodile In Hindi

मगरमच्छ पर निबंध Short Essay On Crocodile In Hindi Language

दुनिया में कई भयानक जानवर रहते हैं जिनके विषय में जानकर भी मन में भय बैठ जाता हैं, ऐसा ही एक जलीय जीव हैं मगर जिन्हें आप तौर पर मगरमच्छ के नाम से जाना जाता हैं. यह भयावह, क्रूर, हिंसक एवं जीव भक्षी जानवर हैं जो नदी तालाबो व नहरों में अधिकतर पाया जाता हैं, कई खारे समुद्रों में भी मगरमच्छ पाए जाते हैं.

इतना समझ लीजिए कि कोई मानव या जीव यदि इसके जबड़ों की पकड़ में आ जाए, तो स्वयं काल भी उससे बचा नहीं सकता. इतने भयंकर इस जीव को उभयचर भी माना गया हैं क्योंकि यह जल में रहने के साथ ही कई बार जमीन पर भी रेंगता हैं. सांप आदि जानवरों की तरह चलने वाले मगर को सरीस्रप श्रेणी का जानवर भी माना जाता हैं.

इनके सम्बन्ध में कहा जाता हैं कि यह जल में रहने वाला जलीय जीव हैं मगर श्वास लेने के लिए जल स्रोत के बाहर जमीन अथवा जल की सतह पर आता हैं. अब तक मगरमच्छ की 23 प्रजातियाँ ज्ञात हो चुकी हैं, वैज्ञानिक शोध बताते हैं कि मगर पिछले 55 मिलियन वर्षों से इस ग्रह पर रह रहे हैं. यह बेहद चतुराई के साथ अपने शिकार को पकड़ता हैं, तथा अपने तीखें दांतों व जबड़े की मदद से उसे काटकर निगल लेता हैं.

पानी में रहने वाले लगभग सभी छोटे बड़े जीव जंतु इसके शिकार बन जाते हैं. कई ख़ास बाते इनके जीवन व शिकार करने में मददगार साबित होती हैं. मगरमच्छ के सन्दर्भ में कहा जाता हैं कि यह रात के अँधेरे में भी जल में देखने की क्षमता रखता हैं साथ ही इसकी निद्रा की अवधि बेहद कम व कमजोर होती हैं. मांसाहारी श्रेणी का यह जीव छोटी सी आहट से नींद से जग जाता हैं.

मगरमच्छ में तैरने की भी उत्कृष्ट क्षमता होती हैं इसकी साधारण गति से तैरने की चाल 20 मील प्रति घंटा होती हैं. यदि आप भी समुद्र किनारे रहते है अथवा घूमने के लिए जाते है तो चेतावनी मिलने पर कभी भी पानी में नहीं उतरें. क्योंकि मगरमच्छ जैसे जीव से मुकाबला कर जान बचाना सम्भव नहीं हैं. यदि हम मगर के जीवनकाल की बात करे तो इसकी आयु 70 से 100 वर्ष तक मानी जाती हैं.

एशिया, अमेरिका, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और यूरोप समेत लगभग सभी महाद्वीपों में मगरमच्छ पाया जाता हैं. यह अपने पेट की ज्वाला को शांत करने के लिए न केवल जलीय जीवों का भक्षण करता हैं बल्कि यह स्थलीय जीवों का भी भक्षण कर जाता है यहाँ तक कि मानव का भी.

एक मगरमच्छ के जबड़े में 24 बेहद पैनें एवं धारीदार दांत होते हैं. जिसके चलते यह भैंसे, गेंडा, चीता आदि जीवों को भी जबड़े में पीसकर निगलने की क्षमता रखती हैं. मगर के आसू या घड़ियाली आसू एक प्रसिद्ध मुहावरा हैं जो मगर के जीवनचर्या से प्रत्यक्ष तौर पर जुड़ा हुआ हैं. ऐसा माना जाता हैं कि जब तक मगर भोजन करता हैं तब तक उसकी आँखों में आंसू बहते रहते हैं.

इसके शरीर में पसीने को स्रावित करने वाली ग्रंथी न होने के कारण मगर को कभी पसीना नहीं आता हैं. एक मगरमच्छ की लम्बाई 7 से 10 फीट तथा इसका कुल वजन एक किव्टल से अधिक होता हैं. मीठे पानी के जल में मगर अपेक्षाकृत बेहद छोटे होते हैं. जिसकी लम्बाई 5 फुट तथा वजन 35 किलों तक ही होता हैं. मगरमच्छ कई दिनों तक बिना भोजन के भी रह सकता हैं.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों Essay On Crocodile In Hindi का यह निबंध एस्से आपकों पसंद आया होगा, यदि आपकों मगर मच्छ निबंध में दी गई इन्फोर्मेशन डिटेल्स पसंद आई हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों  के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *