भारत में लोकतंत्र पर निबंध | Essay on Democracy in India in Hindi

Essay on Democracy in India in Hindi प्रिय विद्यार्थियों आज हम भारत में लोकतंत्र पर निबंध आपके साथ साझा कर रहे हैं. लोकतंत्र क्या है, भारत में लोकतंत्र का भविष्य सम्भावनाएं व चुनौतियों पर आज का यह निबंध कक्षा 1,2,3,4,5,6, 7,8,9, 10 के बच्चों के लिए 100, 200, 250, 300,400, 500 शब्दों में यहाँ डेमोक्रेसी इन इंडिया इन हिंदी का छोटा बड़ा निबंध दिया गया हैं.

भारत में लोकतंत्र पर निबंध | Essay on Democracy in India in Hindiभारत में लोकतंत्र पर निबंध | Essay on Democracy in India in Hindi

Get Here Free Short Essay on Democracy in India in Hindi Language For School Students & Kids.

Short Essay on Democracy in India in Hindi In 500 Words

प्रस्तावना- अब्राहम लिंकन के अनुसार जनतंत्र जनता का, जनता के लिए और जनता के द्वारा शासन हैं. जनतंत्र का अर्थ है जनता का शासन. इसका तात्पर्य ऐसी शासन प्रणाली से हैं जिसमें शासन चलाने वाले प्रतिनिधि जनता द्वारा ही चुने जाते है. साथ ही इसमें आम जनता का सर्वागीण हित प्रमुख होता हैं. भारत में इस तरह की ही जनतंत्रात्मक शासन प्रणाली प्रचलित हैं. आज भारत विश्व का सबसे बड़ा जनतंत्रात्मक देश है, लेकिन जनतंत्र की स्थिति यहाँ सबसे बदतर दिखाई देती हैं.

भारत की वर्तमान दशा- वर्तमान समय में हमारे देश की दशा अत्यंत शोचनीय हैं. हमारे देश की राजनीतिक, आर्थिक और आर्थिक दशा लडखडा रही हैं. राजनीतिक उथल पुथल और चुनौतियां आए दिन बढ़ती रहती हैं. पंचवर्षीय योजनाओं का सही संयोजन न होने से यहाँ का अर्थतंत्र बिखरा हुआ हैं. मंदी, महंगाई और आर्थिक शोषण से आज लोग परेशान हैं.

सर्वत्र स्वार्थपरता एवं भ्रष्टाचार का बोलबाला हैं. मानवीय मूल्य लुप्त हो रहे हैं. आतंकवादी हिंसा से भय का वातावरण बन रहा हैं. इस तरह कुल मिलाकर देश में युग विपर्यय की स्थिति हैं.

जनतंत्र के रूप में कमियां- हमारे देश में लोकतंत्र सम्रद्धि नहीं कर पा रहा हैं. मेरी दृष्टि में इसके कई कारण हैं.

  • आर्थिक असंतुलन इस दिशा में सबसे बड़ी बाधा हैं आम जनता की आर्थिक स्थिति एक शोचनीय हैं.
  • ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी अशिक्षा फैली हुई हैं. उनमें राष्ट्रीय चेतना उत्पन्न करने के लिए शिक्षा का प्रचार जरुरी हैं.
  • असीमित जनसंख्या वृद्धि एवं रोजगार की कमी भी हमारे लोकतंत्र को डगमगा रही हैं. शिक्षा प्रणाली दूषित हैं इससे बेरोजगारी बढ़ रही हैं.
  • राजनेताओं का स्वार्थ, देशव्यापी भ्रष्टाचार व सरकारी कार्यालयों में लालफीताशाही आदि से शासनतंत्र को कमजोर कर रहे हैं.
  • आर्थिक कार्यक्रमों को सही ढंग से व्यवहारिक रूप नहीं दिया जा रहा हैं. अधिकांश प्रगतिशील काम केवल कोरे नारे बन जाते हैं.

सुधार की आवश्यकता- ऐसी दशा में यह जरुरी है कि हमारे लोकतंत्र के सर्वमान्य स्वरूप को सुधारा जाए. इसके लिए हमें पूर्वोक्त सभी कमियों को दूर करना होगा. आर्थिक सुधार कार्यक्रमों को द्रढ़ता से लागू कर बेरोजगारी दूर करना प्रथम लक्ष्य होना चाहिए, तभी देश में आर्थिक स्थिति सुधरेगी और यहाँ मानव शक्ति का पूरा उपयोग हो सकेगा. इसके अतिरिक्त ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा का प्रसार भी जरुरी हैं, इनमें भी अधिक महत्व की बात हैं चारित्रिक द्रढ़ता. जब तक देशवासियों में ईमानदारी और सच्चाई नहीं आती, तब तक किसी भी तरह का सुधार कामयाब नहीं सकता

उपसंहार –अतः वह स्पष्ट है कि हमारे देश में जनतंत्र का भविष्य कुछ धूमिल हैं. जिन परिस्थतियों में आज हमारा देश जकड़ा हुआ हैं. यदि उनको नियंत्रित नहीं किया गया तो यहाँ जनतंत्र की सफलता असम्भव हैं. अतः हम पहले देश की आर्थिक विषमता तथा अशिक्षा को दूर करने का प्रयास करे, जनतंत्र अपने आप पनपता जाएगा.

यह भी पढ़े-

मैं उम्मीद करता हूँ दोस्तों यहाँ दिए गये Essay on Democracy in India in Hindi आपकों पसंद आए होंगे यदि आपकों यहाँ दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे. Essay on Democracy in India in Hindi का लेख आपकों कैसा लगा यदि आपके पास भी इस तरह के स्लोगन हो तो कमेंट कर हमें अवश्य बताए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *