परिवार नियोजन पर निबंध | Essay on Family Planning in Hindi

Essay on Family Planning in Hindi प्रिय विद्यार्थियों आज हम आपके साथ परिवार नियोजन पर निबंध बता रहे हैं. हिंदी निबंध लेखन के महत्वपूर्ण विषय परिवार नियोजन Family Planning पर बच्चों को निबंध लिखने के लिए कहा जाता हैं. Essay on Family Planning in Hindi को कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 के बच्चों के लिए 100, 200, 250, 300, 400 और 500 शब्दों में भारत में परिवार नियोजन पर अनुच्छेद निबंध भाषण लिख सकते हैं.

परिवार नियोजन पर निबंध | Essay on Family Planning in Hindiपरिवार नियोजन पर निबंध | Essay on Family Planning in Hindi

Hello Guys Today We Share With You Short Essay on Family Planning in Hindi Language For School Students & Kids.

Essay on Family Planning in Hindi In 500 Words

प्रस्तावना- स्वाधीनता प्राप्ति के पश्चात भारत विकास के पथ पर तेजी से दौड़ रहा हैं. कृषि, उद्योग, शिक्षा, स्वास्थ्य, यातायात, संचार, सुरक्षा आदि क्षेत्रों में नित्य नई प्रगति हो रही हैं. इन सबके साथ देश की जनसंख्या भी द्रुत गति से बढ़ रही हैं. अब हम एक अरब पच्चीस करोड़ से अधिक मानव शक्ति वाला राष्ट्र बन चुके हैं.

बढ़ती हुई जनसंख्या का संकट– देश की तेजी से बढ़ती हुई जनसंख्या हमारे लिए संकट का कारण बन चुकी हैं. जनसंख्या की वृद्धि दो गुणा दो के गुणात्मक सिद्धांत पर होती हैं. जबकि उत्पादन के साधनों की वृद्धि एक धन एक के योग के सिद्धांत से होती हैं. अर्थात जब आवश्यकता की वस्तुएं एक से दो होती हैं.

तब तक उपभोक्ताजनों की संख्या दो से चार हो जाती हैं. इस तरह के सभी उपाय तेजी से बढ़ती हुई जनसंख्या के सामने छोटे पड़ जाते हैं और समाज के वस्तुओं का अभाव बना रहता हैं. भोजन, वस्त्र और आवास की कमी बढ़ती ही जाती हैं. यही बढ़ती हुई जनसंख्या का संकट हैं.

जनसंख्या का दवाब– भारत के हर क्षेत्र में विकास हुआ हौं परन्तु उस पर जनसंख्या वृद्धि का भीषण दवाब हैं. हरित क्रांति हुई हैं. खाद्य पदार्थों की उपलब्धता बढ़ी हैं. किन्तु फिर भी भूख की समस्या का हल नहीं हो रही हैं. एक बहुत बड़ी संख्या में लोगों को आधे पेट या खाली पेट रहना पड़ता हैं.

इतने विशाल देश में जगह का अभाव हैं. स्कूल में प्रवेश नहीं मिलता, बीमार होने पर स्कूल में बैड नहीं मिलता, रेलों और बसों में सीट नहीं मिलती. प्रत्येक क्षेत्र में अभाव हैं. मांग बढ़ती ही जा रही हैं किन्तु आपूर्ति नहीं बढ़ रही हैं. लम्बी चौड़ी दुनियां हैं. फिर भी इसमें जगह नहीं हैं. रहने को घर नहीं है, सारा जहाँ हमारा.

जनसंख्या वृद्धि पर नियंत्रण– जनसंख्या वृद्धि पर नियंत्रण हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए. अन्य देशों ने इस कार्य में सफलता पाई हैं. जापान के प्रयास अनुकरणीय हैं. चीन ने भी अपनी जनसंख्या वृद्धि को कठोरता से नियंत्रित किया हैं. किन्तु इस दिशा में कोई ठोस नीति ही निर्धारित नीं कर सके हैं. हम लोगों को कुछ लालच देकर बढती हुई जनसंख्या को रोकने का भ्रम पाले बैठे हैं.

कारण- भारत में जनसंख्या पर नियंत्रण न होने के अनेक कारण हैं. यहाँ परिवार नियोजन पर बातें करना उचित नहीं माना जाता. बालक के जन्म को ईश्वर की देन माना जाता हैं. पुत्र का जन्म परिवार के लिए आवश्यक और गौरवपूर्ण माना जाता हैं. बेटा पैदा होने की आशा में बेटियों को बार बार जन्म दिया जाता हैं. गरीब परिवार में बच्चों को किसी भी काम में लगाकर कुछ न कुछ कमाई कराई जाती हैं. भारत में अनेक धर्म और जातियों के लोग रहते हैं. कुछ समझदार लोगों को छोड़कर हर जाति धर्म के लोग अपनी संख्या बढ़ाने के विचार से परिवार नियोजन का विरोध करते हैं. सरकार केवल पुरस्कार देकर परिवार नियोजन कराना चाहती हैं. इसके लिए किसी कठोर दंड की व्यवस्था नहीं करती.

निवारण– परिवार नियोजन पर खुलकर विचार होना आवश्यक हैं. कवि, लेखकों, धार्मिक पुरुषों, राजनीतिक नेताओं तथा मिडिया के लोगों को इस पर खुलकर आंदोलन चलाना चाहिए. धर्म जाति का भेदभाव छोड़कर जनसंख्या वृद्धि पर रोक के लिए एक समान कानून बनाना चाहिए. इसके साथ ही सब्सिडी आदि के रूप में मिलने वाली सरकारी सहायता भी उन्ही लोगों को मिलनी चाहिए, जो परिवार नियोजन को अपनाएं.

उपसंहार– परिवार नियोजन की उपेक्षा खतरनाक होगी. देश में भूखे नंगों की बढ़ती हुई संख्या विकास को ध्वस्त कर देगी, भयंकर अशांति और हिंसा भी होगी. महामारी और युद्ध से भीषण संकट भी आएगा. सब कुछ उल्ट पुलट हो जाएगा. सरकारी योजनाएं धरी कि धरी रह जाएगी, अतः उस विषय पर कहना तो पड़ेगा ही, कुछ करना भी पड़ेगा.

यह भी पढ़े-

आशा करता हूँ दोस्तों आपकों Essay on Family Planning in Hindi का यह लेख अच्छा लगा होगा. यदि आपकों यहाँ दिया गया परिवार नियोजन का निबंध अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे तथा इस लेख से जुड़ा आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट कर जरुर बताएं.

इस लेख से सम्बन्धित अन्य पोस्ट
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *