मुझे अपने परिवार से प्रेम है पर निबंध । Essay on I Love My Family in Hindi

नमस्कार दोस्तों, आज हम मुझे अपने परिवार से प्रेम है पर निबंध । Essay on I Love My Family in Hindi लेकर आए हैं। मेरा परिवार सुखी परिवार विषय पर छोटा बड़ा निबंध, भाषण अनुच्छेद पैराग्राफ सरल भाषा में दिया गया हैं। परिवार क्या है, महत्व आवश्यकता तथा प्रिय होने के कारण पर निबंध एस्से दिया गया हैं।

मुझे अपने परिवार से प्रेम है पर निबंध । Essay on I Love My Family in Hindi

Essay on I Love My Family in Hindi

हमारे परिवार को प्रेम का दूसरा नाम ही कहा जाता है। इंसान हो या पशु पक्षी सभी को अपने स्वजनों तथा परिवार से प्रेम होता है। हमारे जीवन का आधार भी तो परिवार ही है। जिससे हमारे अस्तित्व का जुड़ाव भी होता है। हमारे जन्म से लेकर पालन पोषण एवं समस्त जैविक क्रियाएं परिवार के साथ ही सम्पन्न होती है।

परिवार हमें एक नया जीवन देता है। जीवन के रंगों एवं सपनों को नई जान व उड़ान देता है। हरेक व्यक्ति अपने परिवार से स्नेह रखता है मुझे भी अपना परिवार बेहद प्रिय है। व्यक्ति अपने परिवार कुटुम्ब के लोगों से प्रेंम, स्नेह, सहयोग तथा सुरक्षा की अपेक्षाएं रखता है। सुखी परिवार को धरती पर स्वर्ग के समान माना जाता है।

लगभग समस्त मानव एवं कुछ जानवरों की प्रजातियां भी एक समूह के रूप में रहना पसंद करते हैं। परिवार का अर्थ मात्र एक समूह के रूप में इकट्ठा रहना नहीं है बल्कि परिवार स्वजनों के उस समूह से मिलकर बनता है जिसके साथ व्यक्ति अपने सुख दुख आदि भावनाओं को अबाध रूप से व्यक्त कर सके।

मेरे परिवार में कुल सात सदस्य है जिनमें माता पिता एक बहिन तीन भाई तथा मैं स्वयं हूँ। हम छोटे से एक गांव के पास एक ही घर मे मिलजुलकर रहते है। मेरी नजर में मेरा परिवार एक सुखी एवं सम्पूर्ण परिवार है। जहां एक दूसरे की आवश्यकताओं का पूरा पूरा ध्यान रखा जाता है। तथा सभी की भावनाओं को पूर्ण सम्मान मिलता है। जीवन मे सभी तरह की परिस्थितियों में साथ साथ मिलजुलकर रहते है।

हर बालक के कुछ सपने होते है परिवार के सहयोग के बिना उन्हें पूरा नही किया जा सकता है। इस मामले में स्वय को भाग्यशाली मानता हूं, मेरे परिवार का प्रत्येक सदस्य मेरे सपनों को पूरा करने में सदैव मेरे साथ खड़े नजर आते है। बड़े भाई और बहिन मुझे जीवन सफलता तथा अपने लक्ष्यों को पाने के टिप्स हमेशा मेरे साथ शेयर करते हैं।

हमारे परिवार में भाइयों में सबसे बड़ा अंशुल है। जो सभी के साथ अच्छा व्यवहार करता है। हमारा रिश्ता भाई से बढ़कर अधिक याराना है। वे मुझसे बेहद निकट है। मेरे प्रत्येक निर्णय में उनकी राय बेहद महत्वपूर्ण होती है। कई बार माता पिता की डांट से भी बचाते है तथा सही सलाह भी देते हैं।

मेरे परिवार की रीढ़ की हड्डी माँ है, जो सभी को एक सूत्र में बांधकर रखती है। वह हम सभी की केयर करती है। साथ ही घर का कामकाज, खाना सफाई स्वयं सम्भालती है। एक आदर्श माँ की तरह वह हम सभी से बेहद स्नेह रखती है। हमारी जरूरतों को भी पूरा करती है तथा हमारी गलतियों पर सबक भी सिखाती हैं।

हम सभी को परिवार का महत्व समझना चाहिए।  तथा परिवार की मान्यताओं एवं परम्पराओं जैसे बड़ो का सम्मान करना आदि का पालन करना चाहिए। एक समय भारतीय समाज मे परिवार का मतलब सँयुक्त परिवार हुआ करता था। कालांतर में यह परिवार का स्वरूप बदलकर न्यूक्लियर फैमिली का स्वरूप चलन में है वाकई में छोटा परिवार सुखी परिवार होता है।

परिवार हमारी परम्पराओं एवं सांस्कृतिक मूल्यों का वाहक होता है जो इन्हें एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक पहुचाता है। यदि आज हम इन संस्कारों को लेकर चले तो मुमकिन है आपकी सन्ताने भी आपका यथेष्ठ सम्मान करेगी।

परिवार का प्रत्येक सदस्य दादा दादी माता पिता व भाई बहिन हमारे रक्त सम्बन्धी होते है। जब हम साझा जीवन व्यतीत कर रहे हो, तब व्यक्तिगत स्वार्थ तथा आवश्यकताओं का त्याग कर सभी के विषय मे सोचना चाहिए ऐसा करना से ही एक परिवार लम्बे समय तक एक बना रहता है। मेरे परिवार के हरेक सदस्य में इसी तरह के सर्वोच्च गुण है इसलिए मुझे अपने परिवार से बेहद लगाव है।

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तो मुझे अपने परिवार से प्रेम है पर निबंध । Essay on I Love My Family in Hindi का यह निबंध आपको पसन्द आया होगा, यदि आपको इस निबंध में परिवार के बारे में दी गई जानकारी पसन्द आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *