निरक्षरता एक अभिशाप पर निबंध | Essay On Illiteracy In Hindi

Essay On Illiteracy In Hindi भारतीय दार्शनिकों ने अक्षर को साक्षात् ब्रह्मा कहा है और इसे शब्द रूप में समस्त सृष्टि में व्यास बतलाया है. सामान्य रूप से यह अक्षर ज्ञान का वाची और बौद्धिक विकास का सूचक है. मानव समाज में जो व्यक्ति ज्ञानवान तथा बौद्धिक विकास से वंचित रहता है उसे निरक्षर कहते है.

निरक्षरता एक अभिशाप पर निबंध | Essay On Illiteracy In Hindi

निरक्षर का आशय है कि वह पढ़ा लिखा नही होता है, उसे अक्षर ज्ञान नही रहता है और उसके लिए ”काला अक्षर भैस बराबर” कहावत चरितार्थ होती है. निरक्षर या अनपढ़ व्यक्ति में सामान्य लौकिक बुद्धि भले ही रहती हो, परन्तु पुस्तकीय राशि ज्ञान से वंचित रहता है.

इस कारण वह ज्ञान भंडार से अपरिचित, अनजान तथा अविगज्ञ रहता है. ऐसें लोग अपने व्यक्तित्व का उचित विकास नही कर पाते है. साथ ही वे सामाजिक एवं राष्ट्रीय विकास में भी उचित सहयोग नही दे पाते है. इसलिए निरक्षरता को व्यक्ति और समाज दोनों के लिए अभिशाप कहा गया है.

  • निरक्षरता के दुष्परिणाम (what are the bad effects of illiteracy)

    हमारे देश में पराधीनता के काल में शिक्षण सुविधाओं का नितांत अभाव था. निरक्षरता के कारण उस समय बंधुआ मजदूर, जमीदारी प्रथा , शोषण उत्पीड़न, आर्थिक विषमता, अंधविश्वास एवं रूढ़ियों की अधिकता थी. देश का गुलामी में जकड़े रहना भी एक निरक्षरता का अहम कारण था. भारत के सामाजिक जीवन का समग्र विकास नही हो रहा था. फलस्वरूप आजादी मिलने पर साक्षरता के अनेक कार्यक्रम चलाए गये.

    हमारे देश में निरक्षरता ग्रामीण क्षेत्र में अधिक है. स्त्रियों, अनुसूचित जातियों, जनजातियों तथा गिरिजनों में निरक्षरता का प्रतिशत सबसे ज्यादा है. शहरी क्षेत्रों में निरक्षरता का प्रतिशत कम है. राजस्थान में लगभग 65 प्रतिशत लोग ही साक्षर है. शेष सभी निरक्षर है. देखा जाए तो निरक्षरता की अधिकता के कारण ही हमारा राजस्थान अन्य राज्यों की अपेक्षा अधिक पिछड़ा हुआ है और यहाँ बेरोजगारी तथा विषमता इसी कारण अधिक है. यह निरक्षरता का एक दुष्परिणाम ही है.

  • निरक्षरता दूर करने के उपाय (how reduce illiteracy rates india)

    स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद सन 1951 में जो जनगणना हुई, उनमे लगभग 18 प्रतिशत जनता ही साक्षर थी. इस तरह उस समय भारत में साक्षरता बहुत ही कम थी. इस कारण सरकारी स्तर पर निरक्षरता को दूर करने के प्रयास किये जाते रहे. इस दृष्टि से शिक्षण संस्थाओं का विस्तार किया गया तथा राष्ट्रीय स्तर पर प्रौढ़ शिक्षा निति घोषित की गई.

    इस निति के अनुसार अनेक स्तरों पर साक्षरता कार्यक्रम चलाए गये. ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक विद्यालय खोले गये तथा प्राथमिक शिक्षा का खूब प्रचार किया गया. गाँवों में बेरोजगार शिक्षित युवकों को पंचायत स्तर पर साक्षरता अभियान में लगाया गया और समाज कल्याण विभाग के सहयोग से साक्षरता अभियान को आगे बढ़ाया गया.

    इस अभियान में महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों के छात्रों एवं सेवानिवृत कर्मचारियों का भी सहयोग लिया गया. अब उच्च माद्यमिक शिक्षा के अंतर्गत सामाजिक सेवा के रूप में इस अभियान का समावेश किया गया है. अब राजस्थान में राजीव गांधी पाठशाला योजना, लोक जुम्बिश परिषद् और संधान संस्थान के द्वारा पिछड़े ग्रामीण क्षेत्रों में विद्यालय खोले जा रहे है.

    आठ से पन्द्रह वर्ष के बालक बालिकाओं को साक्षर बनाने का लक्ष्य रखा गया है. वर्तमान में प्रचलित सर्वशिक्षा अभियान के द्वारा साक्षरता के लक्ष्य के प्रति काफी आशाएं है.

  • निरक्षरता निवारण के लिए सुझाव (Suggestions for illiteracy prevention)

    हमारे देश से निरक्षरता का कलंक तभी मिट सकता है. जब सारे देश में प्राथमिक शिक्षा अनिवार्य कर दी जाए और बालकों को अशिक्षित रखना कानूनी अपराध माना जाए. इसके लिए जगह जगह पर विद्यालय खोले जाए और गरीब जनता के बालकों को हर तरह की सुविधा उपलब्ध करवाई जाए.

    वयस्कों के लिए प्रौढ़ शिक्षा के कार्यक्रम को प्रभावी बनाया जावे. सरकार भी इस दिशा में अधिक से अधिक धन खर्च करने का प्रावधान रखे. सरकारी कर्मचारियों के लिए प्रोत्साहन का प्रावधान रखा जाए ताकि वे साक्षरता अभियान में अपना अधिकाधिक सहयोग दे सके.

    वर्तमान में राष्ट्रीय स्तर पर प्रचलित सर्वशिक्षा अभियान को अधिक प्रभावशाली बनाया जावे तथा प्रचार साधनों एवं दूरदर्शन का इसके लिए पूरा उपयोग किया जावे.

  • निरक्षरता की समस्या और समाधान (Hindi Essay on Niraksharta ek Abhishap)

    निरक्षरता समाज में अज्ञान और अन्धकार का प्रतीक है. जो समाज और राष्ट्र निरक्षर नागरिकों से रहित है, जिनमे निरक्षरता नही है. और सर्वत्र ज्ञान का प्रकाश फैला हुआ है, वह समाज तथा राष्ट्र सभी प्रकार से उन्नत माना जाता है. सुशिक्षित नागरिकों से ही सभ्य तथा सम्पन्न राष्ट्र का निर्माण होता है.

    परन्तु अशिक्षित नागरिकों वाला देश असभ्य माना जाता है. निरक्षरता मानव समाज का एक कलंक है. यह मानवता के लिए एक अभिशाप है. इस कारण अभिशाप से मुक्ति आवश्यक है और यह कार्य साक्षरता के आलोक से ही हो सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *