Essay On Importance Of Sanskrit Language In Sanskrit संस्कृत भाषाया महत्त्वम् निबंध

Essay On Importance Of Sanskrit Language In Sanskrit संस्कृत भाषाया महत्त्वम् निबंध: Hello Friends Here IS Short Essay On Importance Of Sanskrit Language. Few Lines Like 5,10 Short Essay For School Kids On Importance Of Tongue Of Sanskrit That’ Also Mother Tounge Of Indian Modern Languages.

Essay On Importance Of Sanskrit Language In Sanskrit

Essay On Importance Of Sanskrit Language In Sanskrit

संस्कृतभाषा अस्माकं देशस्य प्राचीनतमा भाषा अस्ति. प्राचीनकाले सर्वे भारतीयाः संस्कृतभाषायाः व्यवहारं कुर्वन्ति स्म. कालान्तरे विविधा: प्रांतीया: भाषा: प्रचलिता: अभवन.

किन्तु संस्कृतस्य महत्वम अद्यापि अक्षुण्ण वर्तते. सर्वे प्राचीनग्रन्था: चत्वारो वेदाश्च संस्कृतभाषायामेव सन्ति. संस्कृतभाषा भारतराष्ट्रस्य एकताया आधार: अस्ति. संस्कृतं सर्वत्र देशे समानरूपेण आद्रियते.

संस्कृतभाषाया: यत स्वरूपं अद्य प्राप्यते तदेव अद्यत: सहस्त्रवर्षपूर्वमेव आसीत्. संस्कृतभाषाया: स्वरूपं पूर्णरूपेण वैज्ञानिकम अस्ति. अस्य व्याकरण पुर्णतः तर्कसम्मतं च. आचार्य दण्डीना सम्यगेवोक्तं

“भाषासु मुख्या मधुरा दिव्या गीर्वाणभारती”

Essay On Importance Of Sanskrit Language In Hindi

संस्कृत भाषा हमारे देश की सबसे प्राचीन भाषा हैं. आदिकाल में सभी भारतीय संस्कृत भाषा में ही समस्त क्रियाकलाप करते थे. धीरे धीरे विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं का जन्म होता गया.

मगर संस्कृत भाषा का महत्व आज भी उतना ही हैं. हमारे प्राचीन ग्रंथ जिनमें चारों वेद संस्कृत भाषा में ही लिखे गये हैं. संस्कृत भारत को एकता के सूत्र में बांधती हैं. सम्पूर्ण देश भर में संस्कृत भाषा का आदर सम्मान किया जाता हैं.

आज हमें संस्कृत का जो स्वरूप मिलता है वह हजारों वर्षों के उपरान्त बना हैं संस्कृत पूर्ण रूप से एक वैज्ञानिक भाषा हैं जो व्याकरण की दृष्टि से तर्क सम्मत भी हैं. इसके बारे में आचार्य दण्डी ने कहा हैं.

“सर्व भाषाओंमें संस्कृतका अपना महत्व है, संस्कृत सबसे मधुर और दिव्य है | उसमें भी संस्कृतके काव्य अत्यधिक मधुर हैं”

यह भी पढ़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *