स्वतंत्रता दिवस पर निबंध | Essay on Independence Day

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध | Essay on Independence Day

Essay on Independence Day 15 अगस्त सन 1947 का दिन भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखता है. यह वह दिवस है जिस दिन हमे अंग्रेजो से आजादी मिली थी जिससे पुरे देश में हर्ष की लहर दौड़ पड़ी थी. तथा इसी दिन दिल्ली का लाल किला तिरंगे से सुशोभित हुआ था. इसके साथ ही भारत से विदेशी सता का खात्मा हुआ. इसी समय भारतीय जनता ने अपनी सरकार स्थापित की.

Swatantrata Diwas 15 august shayari Kavita Speech in hindi | स्वतंत्रता दिवस शायरी कविता भाषण निबंध हिंदी में

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध | Essay on Independence Day

स्वतंत्रता दिवस मनाने का कारण- 15 अगस्त का दिन वर्ष 1947 के पश्चात प्रतिवर्ष हमारे स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है. इस दिन को मनाने का मुख्य कारण देश की आजादी की खातिर शहीद हुए तमाम लोगों को श्रद्दांजलि अर्पित करना.

तथा कड़े सघर्ष से प्राप्त बहुमूल्य आजादी को निरंतर बनाए रखना. हर साल स्वतंत्रता दिवस का दिन एक महत्वपूर्ण राष्ट्रिय दिवस के रूप में पुरे देश में मनाया जाता है.

विभिन्न कार्यक्रम- स्वतंत्रता दिवस का कार्यक्रम हर साल सरकार व् पुरे देश की जनता द्वारा बड़े धूमधाम तरीके से मनाया जाता है. देश के हर कोने में इस पर्व को मनाया जाता है.

स्कुलो तथा कोलेजो में प्रातकाल से ही विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किये जाते है. गाँवों तथा शहरों में प्रभात फेरिया व देशभक्ति गीत गाए जाते है. देश व् विभिन्न राज्यों के राजधानी शहर में यह दिवस ध्वरोहण के साथ हर्षोल्लास से मनाया जाता है.

इस दिन राष्ट्रिय कार्यक्रम में प्रधानमन्त्री व् राज्य स्तरीय समारोह में मुख्यमन्त्रियो द्वारा ध्वजारोहण किया जाता है. स्वतंत्रता दिवस पर हमारे राष्ट्रिय ध्वज के सम्मान में 21 तोपों की सलामी देकर गोले दागे जाते है.

लाल किले की प्राचीर से प्रधानमन्त्री महोदय झंडा फहराकर विशाल जन समूह को संबोधित करते है. दिल्ली के राजपथ में आयोजित इस स्वतंत्रता दिवस का सीधा प्रसारण आकाशवाणी तथा कई अन्य टीवी चैनल्स पर किया जाता है.

इस दिन देश के सभी सरकारी और निजी कार्यालयों में ध्वजारोहण के साथ राष्ट्रगान गाया जाता है. रात के समय सभी शहरों और कस्बो को रौशनी से जगमगा दिया जाता है. सभी देशवासी प्रसन्नता व् हर्ष से स्वतंत्रता दिवस के इस राष्ट्रिय उत्सव को बड़े धूमधाम से मनाते है.

उपसहार-भारत के इतिहास में स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त ) का दिन हमेशा अमर रहेगा. हर साल यह दिन देशवासियों में नया जोश और जूनून लेकर आता है.

वास्तव में यह दिन हमारे देश का महत्वपूर्ण राष्ट्रिय पर्व है. हमे हर साल इसे अत्यधिक जोश और उत्साह के साथ मनाना चाहिए.

if you like this short Essay on Independence Day articale than please share this post with your friend. how was this ? share your experience with all indians.

Leave a Reply