मध्यप्रदेश पर निबंध | Essay on Madhya Pradesh In Hindi

Essay on Madhya Pradesh In Hindi प्रिय मित्रों आपका स्वागत है आज हम मध्यप्रदेश पर निबंध साझा कर रहे हैं. छोटे बच्चों को कई बार मप्र पर निबंध भाषण अनुच्छेद आदि लिखने को कहा जाता हैं. कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10 के स्टूडेंट्स के लिए 5, 10 लाइन, 100, 200, 250, 300, 400, 500 शब्द सीमा में Essay on Madhya Pradesh In Hindi लिखने में हमारा यह लेख आपकी मदद कर सकता हैं.

मध्यप्रदेश पर निबंध | Essay on Madhya Pradesh In Hindiमध्यप्रदेश पर निबंध | Essay on Madhya Pradesh In Hindi

Get Here Short & Long Length Essay on Madhya Pradesh In Hindi Language For School Students & Kids.

Essay on Madhya Pradesh In Hindi In 400 Words

प्रस्तावना- भारत में 29 राज्य और 7 केंद्र शासित प्रदेश हैं. मध्यप्रदेश देश के मध्य में स्थित हैं. इसलिए इसे ह्रदय प्रदेश भी कहा जाता हैं. प्रदेश को मध्य प्रदेश का नाम पंडित जवाहरलाल नेहरु ने दिया था. म.प्र. को ब्रिटिश काल में सेंट्रल प्रोविंसेस और बरार नाम से जाना जाता था.

मध्य प्रदेश का गठन- स्वतंत्रता पश्चात मध्य प्रदेश को थ्री स्टेट a, b और c में बांटा गया. सेंट्रल प्रेविसेंस तथा बरार में छतीसगढ़ और बघेलखंड को मिलाकर पार्ट a बना. पश्चिम की रियासतों को मिलाकर पार्ट b बनाया गया. भोपाल पार्ट c का भाग था.

1853 में फजल अली की अध्यक्षता में गठित राज्य पुनर्गठन आयोग की अनुशंसा पर 1 नवम्बर 1956 को नवीन मध्य प्रदेश का गठन हुआ. नवीन मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल को बनाया गया. नवीन मध्य प्रदेश में कुल 43 जिले थे. वर्तमान में मध्यप्रदेश प्रशासनिक तौर पर 10 संभागों और 50 जिलों में बंटा हुआ हैं. 1 नवम्बर 2000 में मध्यप्रदेश से एक हिस्सा अलग करके छतीसगढ़ राज्य की स्थापना की गई.

मध्य प्रदेश की भौगोलिक स्थिति- म. प्र. पूर्णत आवेष्टित राज्य हैं. मध्य प्रदेश की सीमा पांच राज्यों उत्तर प्रदेश, छतीसगढ़, राजस्थान, गुजरात व महाराष्ट्र को छूती हैं. भौतिक संरचना की दृष्टि से भारत के पठार का उत्तरी भाग मध्य प्रदेश के अंतर्गत आता हैं. मध्यप्रदेश में मानसूनी जलवायु हैं.

यहाँ औसत जलवायु ११२ सेमी होती हैं. मध्य प्रदेश में पांच प्रकार की मिट्टियाँ पाई जाती हैं. काली मिट्टी, लाल पीली मिटटी, जलोढ़ मिट्टी, मिश्रित मिट्टी व कछारी मिट्टी. मध्य प्रदेश में 20 से अधिक छोटी बड़ी नदियाँ बहती हैं. जिनमें नर्मदा, चम्बल, ताप्ती, सोन, बेतवा, तवा, क्षिप्रा बेनगंगा आदि प्रमुख हैं. नर्मदा मध्य प्रदेश में बहने वाली सबसे लम्बी नदी हैं. जो बहुत बड़े भू भाग को सिंचित करती हैं. इसके साथ ही ये नदियाँ पनबिजली के भी स्रोत हैं.

मध्य प्रदेश की कला व संस्कृति- मध्य प्रदेश सर्वाधिक भिन्नता वाला प्रदेश हैं. यहाँ देश की सर्वाधिक जनजातियाँ पाई जाती हैं. जिनमें गोंड़, भील, बैंगा, मारिया, कोरकू, कोल माडिया, सहरिया, पनिका आदि प्रमुख हैं. इन सभी जातियों के अपने अलग अलग लोक नृत्य व संगीत हैं.

जिनमें माच, राई, स्वांग, काठी, कर्मा, गणगौर, सेरा नृत्य बहुप्रचलित हैं. रेलोगीत, हरदौला, ददरिया, आल्हा, माच आदि लोकगीत बहुत गाये जाते हैं. मध्य प्रदेश के प्रमुख सांस्कृतिक समारोहों में कालिदास समारोह, तानसेन समारोह, खजुराहो नृत्य, मालवा उत्सव, म. प्र समारोह प्रमुख हैं.

Short Essay on Madhya Pradesh In Hindi Language In 250 Words

1 नवम्बर 1956 को मध्यप्रदेश राज्य की स्थापना की गई थी. इसी दिन को हर साल स्थापना दिवस के रूप में भी मनाया जाता हैं. भारत के इस ह्रदय प्रदेश का सबसे बड़ा शहर इंदौर तथा राजधानी भोपाल हैं. इसका क्षेत्रफल 308,144 किलोमीटर हैं.

1 नवम्बर 2000 तक यह भारत का सबसे बड़ा राज्य था. यही वो दिन था जब इसे छतीसगढ़ नामक एक नयें राज्य के साथ विघटन कर दिया गया था. एमपी के उत्तर में उत्तर प्रदेश, पूर्व में छत्तीसगढ़, दक्षिण में महाराष्ट्र, पश्चिम में गुजरात तथा उत्तर-पश्चिम में राजस्थान है.

भारतीय संस्कृति का यह हमेशा केंद्र रहा हैं. भारत की विविधता में एकता का स्वरूप मध्य प्रदेश में ही देखने को मिलता हैं. सुंदर प्राकृतिक छटा की विरासत तथा जनजातियों के जीवन उनके नृत्य, संगीत, गीत को अपने में समाए यह रंग कुछ अलग ही छटा दिखाता हैं.

नर्मदा, सोन, सिंध, चंबल, बेतवा, केन, धसान, तवा नदी, ताप्ती, शिप्रा, काली सिंध यहाँ के जनजीवन की आशाओं तथा अपेक्षाओं को पूर्ण कर वसुधा की प्यास को मिटाती हैं. निमाड़, मालवा, बुन्देलखंड, बघेलखंड और चम्बल की संस्कृतियों का संगम लिए एक छोटे समावेशी संसार का रूप हैं.

यह भी पढ़े-

मैं उम्मीद करता हूँ दोस्तों यहाँ दिए गये Essay on Madhya Pradesh In Hindi आपकों पसंद आए होंगे यदि आपकों यहाँ दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे. यह लेख आपकों कैसा लगा यदि आपके पास भी इस तरह के स्लोगन हो तो कमेंट कर हमें अवश्य बताए.

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *