महात्मा गांधी निबंध | Essay on Mahatma Gandhi In Hindi

Essay on Mahatma Gandhi In Hindi हमारे देश में समय समय पर अनेक महापुरुषों ने जन्म लिया है. उन सभी ने भारतवर्ष की महान सेवा में अपना जीवन अर्पण किया है. ऐसे महान महापुरुषों में राणा प्रताप, शिवाजी, तिलक, गोखले, द्यानंत सरस्वती और महात्मा गांधी का नाम प्रमुख है.अपने गुणों के कारण ही गांधीजी बैरिस्टर होकर भी महात्मा कहलाएं. आज भारत ही नही पूरा संसार इस महापुरुष को देवता के तुल्य मानता है.

Birth: 2 October 1869, Porbandar
marriage– Kasturba Gandhi (V. 1883-1944)
Children: Harilal Gandhī, Devdas Gandhi, Ramdas Gandhi, Manilal Gandhi
Perents: Karamchand Gandhi, Pulleibai Gandhi
Education: Alfred High School, Rajkot (1887), UCL Faculty of Laws, Samaldas Arts College

महात्मा गांधी निबंध (Essay on Mahatma Gandhi In Hindi)

mahatma gandhi par nibandh

जीवन परिचय और शिक्षा-महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचन्द गांधी था. इनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात राज्य के पोरबंदर नामक स्थान पर हुआ था. इनके पिताजी कर्मचन्द गांधी राजकोट रियासत के दीवान थे. इनकी माता का नाम श्रीमती पुतलीबाई था. राजकोट जिले से हाईस्कुल की उतीर्ण कर ये बैरिस्ट्री पढ़ने के लिए इंग्लैंड चले गये. गांधी ने 1889 में बैरिस्ट्री पास कर भारत लौटे और वकालत का कार्य आरम्भ किया. इनका विवाह 13 वर्ष की आयु में कस्तूरबा के साथ हुआ था.

जीवन की घटनाएँ-वकालत पास करने के बाद गांधीजी पोरबंदर की एक फर्म के मुकदमें में 1893 में दक्षिण अफ्रीका चले गये थे. वहां भारतीयों के साथ गोरे लोग बेहद बुरा व्यवहार किया करते थे. ऐसा देखकर गांधीजी को बहुत बुरा लगा. ऐसे अमानवीय व्यवहारों से पीड़ित होकर गांधीजी ने सत्याग्रह किया और सत्याग्रह में विजयी होकर स्वदेश लौट आए. विजय की भावना से प्रेरित होकर देश को स्वतंत्र करवाने की अभिलाषा जागृत हो उठी. सन 1921 में असहयोग आंदोलन प्रारम्भ कर मद्द्य निषेध, खादी प्रचार, अस्पर्श्यता निवारण, सरकारी वस्तुओ का बहिष्कार एवं विदेशी वस्त्रों की होली जलाना जैसे कार्य सम्पन्न हुए.

गांधीजी ने वर्ष 1930 में नमक कानून के विरोध में सत्याग्रह किया. वर्ष 1942 में महात्मा गांधी ने भारत छोड़ो आंदोलन प्रारम्भ किया. इस दौरान गांधीजी को अनेक बार जेल जाना पड़ा और अनेक कष्ट उठाने पड़े. इनके प्रयत्नों के फलस्वरूप 15 अगस्त 1947 को हमारा देश पूर्ण रूप से स्वतंत्र हो गया. स्वतंत्र भारत के निर्माता होने से हम बापू और राष्ट्रपिता के संबोधन से आदर देते है.

उपसंहार-देश में भारत-पाकिस्तान विभाजन के फलस्वरूप साम्प्रदायिक दंगे हुए. गांधीजी ने इन दंगो को शांत करने के लिए पूर्ण प्रयत्न किया. परन्तु 30 जनवरी 1948 को दिल्ली में संध्या के समय नाथूराम विनायक गोडसे नामक एक मराठा युवक ने प्रार्थना सभा में पिस्तौल से गांधीजी को गोली मार दी. इस तरह अंहिसा के उपासक महात्मा गाँधी का जीवनांत हो गया.

मित्रों Essay on Mahatma Gandhi In Hindi (महात्मा गांधी निबंध) को “mahatma gandhi in hindi”, “mahatma gandhi essay” “about gandhiji in hindi” के लिए भी उपयोग कर सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *