मेला पर निबंध – Essay on Mela in Hindi Language

Essay on Mela in Hindi Language प्रिय साथियों आज हम मेला पर निबंध हिंदी में आपके साथ शेयर करने जा रहे हैं. 10 लाइन, 100, शब्द, 200 शब्द, 250, 500 शब्दों में यहाँ आपकों Essay on Mela in Hindi Language पढ़ने को मिलेगा. UKG & LKG से लेकर कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10 के छात्र परीक्षा के लिहाज से इस हिंदी एस्से ओन फेयर मेले के निबंध को याद कर सकते हैं.

मेला पर निबंध – Essay on Mela in Hindi Languageमेला पर निबंध – Essay on Mela in Hindi Language

Short & Long Essay on Mela in Hindi Language For Students & Kids : भारत को त्योहारों एवं पर्वों का देश माना जाता है इन उत्सवों की रौनक को मेले और बढ़ा देते है. भारतीय समाज में मेलों का बड़ा महत्व हैं. यही वजह है कि यहाँ हर समय कही न कही मेलों का आयोजन अवश्य ही होता हैं.

मेले कई प्रकार के होते है जिनमे कुछ धार्मिक, सामाजिक, सांस्कृतिक एवं वाणिज्यिक महत्व के होते हैं. इन मेला आयोजनों द्वारा अलग अलग स्थानों से लोग आकर मिलते है जिससे आपसी मेल मिलाप तथा भाईचारा भी बढ़ता है. कुम्भ तथा पुष्कर जैसे धार्मिक मेले सभी धर्मों में सद्भाव को बढ़ाते हैं.

बाल मेले, पुस्तक मेले तथा पशु मेलों का आयोजन भी मनोरंजन और लोगों के जीवन में उत्साह को बढ़ाने वाले होते हैं. भारत में कोटा का दशहरा मेला काफी लोकप्रिय है जिन्हें देखने के लिए दूर दूर से लोग आते है इससे पर्यटन को भी बढ़ावा मिलता हैं. व्यापारियों के लिए मेले आमदनी का स्रोत होते है दूर दूर से आने वाले लोग खरीददारी करते है जिनसे उनकी रोजी रोटी भी चलती हैं. कई स्थानों पर पशुओं की खरीद फरोख्त के लिए भी पशु मेलों का आयोजन किया जाता हैं.

Essay on Mela in Hindi Language In 200 Words

मेला स्थल वह स्थान होता है जहाँ किसी विशेष अवसर पर हजारों की तादाद में लोग एकत्रित होते हैं. सामाजिक ,धार्मिक एवं व्यापारिक अथवा अन्य किसी मान्यता के चलते भी मेलों का आयोजन किया जाता हैं. भारत जैसे धार्मिक एवं बहुसंस्क्रतिक देश में साल के बारहों महीने तक मेलों का आयोजन चलता रहा हैं.

अधिकतर मेलों के द्रश्यों में समानता होती है वहां तरह तरह की दुकाने सजी होती है यथा मिठाइयो, खिलौनों जादूगर मौत का कुआ, बच्चों को घुमाने वाले झूले आदि प्रत्येक मेले का अहम हिस्सा होते हैं. भारत में अधिकतर धार्मिक मेलों का आयोजन होता है जिनका कारण कोई संत फकीर अथवा देवी देवता होते हैं.

पशु, व्यापार तथा कृषि मेले का आयोजन भी बड़े स्तर पर किया जाता हैं. प्रयागराज में लगने वाले कुम्भ के मेले को विश्व के सबसे बड़े मेले का खिताब प्राप्त हैं.  हमारे शहर में हर दशहरे पर एक छोटे से मेले का आयोजन किया जाता हैं. शास्त्री पार्क में लगे इस मेले को देखने के लिए हजारों लोग एकत्रित होते हैं. विशाल जनमानस के इस सैलाब की अंतरात्मा में भक्ति के भाव हिलोरे मार रहे होते हैं.

पांच बजे से ही मेले का शुभारम्भ हो जाता हैं. ठीक इसी समय मैं भी स्वयं को रोक नहीं पाया तथा अपने दादाजी को साथ लेकर हम मेला स्थल की तरफ चल पड़े. शुभारम्भ कार्यक्रम चल रहा था. मुख्य अतिथि द्वारा मेले का शुभारम्भ किया गया. लोग आपस में एक दूसरे के साथ धक्का मुक्की करते तेजी से आगे निकलने की फिराक में थे. हम उस नजारे से थोड़ा दूर व्यवस्था कायम होने का इन्तजार कर रहे थे. भगदड़ शांत हुई मेला अपने मूल स्वरूप में आ गया.

इस दशहरे मेले में अलग अलग दुकाने सजी हुई थी कुछ पकवानों की तो कुछ खिलौनों कपड़ों घरेलू आवश्यकता की चीजों की थी. मेरा मन झूले पर झूलने का कर रहा था. हमारे कदम भी उसी तरह बढ़ रहे थे. मैंने व्यवस्थापकों की निर्धारित शुल्क टिकट को प्राप्त किया तथा झूले में झूलने का पूर्ण आनन्द उठाया.

कुछ ही देर बाद, रावण, कुम्भकर्ण, और मेघनाद के दहन का कार्यक्रम शुरू हो गया. इन तीनों राक्षसों के बड़े पुतलों को बस जलाया जाना बाकी था. सुरक्षा के लिहाज से अच्छे प्रबंध किये गये थे. मुख्य अतिथि ने ज्यू ही तीर छोड़ा तीनों पुतले धू धू कर जलने लगे तेजी से पटाखों की आवाज आने लगी. ठीक 15 मिनट तक यह सब चलता रहा और जय श्रीराम के नारों के साथ पूरा मेला प्रांगण भक्ति के रस में डूबा हुआ सैलाब अपने घरों की ओर प्रस्थान कर रहा था मैं भी अपने दादाजी को लेकर अपने घर आ गया.

Essay on Mela in Hindi Language In 500 Word

ग्रामीण मेले पर निबंध Essay on Village fair in Hindi – Mela par Nibandh: मेले का भ्रमणं हर किसी के मन को भाने वाला होता हैं. यह शिवरात्रि का समय था जब हमारे परिवार के सभी लोगों ने निश्चय किया कि जयपुर के शिवरात्रि मेले जायेगे. मगर किसी कारणवंश हम जयपुर नहीं जा सके तो किसी का मन आहत न हो इसलिए हमने हमारे गाँव के पास ही लगने वाले एक मेले में जाने पर सभी की सहमति बनी.

यह एक ग्रामीण मेला था जो मेरे लिए मेला देखने का पहला अनुभव भी था इसलिए मैं सभी से अधिक उत्साहित भी था. आमतौर पर छोटे गाँवों में घूमने फिरने अथवा देखने के लिए कोई आकर्षक स्थान नहीं होते है. मगर ग्रामीण मेले के आयोजन से कुछ नया देखने की उम्मीद भी जीवित थी.

मेले के आयोजन के अनेक फायदे होते है यहाँ आने वाले लोगों का मनोरंजन तो होता ही हैं. साथ ही व्यापारी लोग इस तरह के मेलों से अपनी आजीविका को चला पाते हैं. वे अपने सामान को ऐसे स्थानों पर छोटे ठेले या दुकान लगाकर आसानी से बेच सकते हैं.

मेले बच्चों के लिए विशेष रूप से आकर्षण का केंद्र होते हैं. बच्चों के लिए यहाँ के झूले, खिलौने, मिठाइयाँ, जादूगर, गुब्बारे, टोफियाँ आदि आदि उनकी विश लिस्ट के सामान हो वो आसानी से मिल जाया करते हैं. वैसे तो मुझे हर सुबह थैला लेकर स्कूल के लिए निकलना पड़ता हैं. मगर शिवरात्रि के दिन मेरे विद्यालय की ओर से अवकाश मिल जाने से मेला भ्रमण का मेरा सपना साकार का होने लगा था.

मैं अपना बड़ा भाई और मम्मी पापा के संग मेला देखने के लिए छः बजे ही घर से निकल गये. जब गाँव का नजारा आँखों के सामने आया तो मैं आवाक् रह गया. इतना बड़ा जनसैलाब मैं पहली बार देख रहा था. हजारों की संख्या में लोग तेजी से मेले के स्थान पर पहुच रहे थे.

गजब का शौरगुल कभी भोपू की आवाज तो कभी फेरीवालों तथा दुकानदारों की आवाजे स्पष्ट सुनाई दे रही थी. दुकानों पर लोगों की भीड़ जमा थी दुधिया रोशनी से पूरा गाँव दुल्हन की तरह नहाया हुआ था. लोग इधर से उधर अपने बच्चों को साथ लिए हुए बढ़ रहे थे.

बच्चें अपने मम्मी पापा से खिलौने की जिद्द कर रहे थे तो मेरा बचपना भी जग गया मैंने भी अपने बड़े भाई से रिमोट से चलने वाले हवाई जहाज की मांग कर ही डाली. उन्होंने 500 रूपये खर्च कर वो जहाज मुझे दिला दिया तथा बदले में मैंने भी भाई को बड़ा सा धन्यवाद भी दे दिया.

मुझे पता था मेरे भाई मेरी हर जिद्द पूरी करते है तो इस बार भी वो मेरी मांग को पूरा करेगे. बहरहाल हम खिलौना खरीदने के बाद दुकानों की उसी कतार में आगे बढ़े कि मुझे एक स्वेटर की अच्छी दुकान दिखी. मैंने मम्मी पापा से कहकर बड़े भाई के लिए अच्छा कोट खरीद दिया. बड़े गर्व के साथ इसे भाई को पहनाकर मैंने अपना एहसान इसी गाँव के मेले में चुकता कर दिया.

मेले की हरेक दुकान पर युवक युवतियों की लम्बी भीड़ थी सभी अपनी पसंद की वस्तुओं की खरीददारी कर रहे थे. तभी एक जोर से आवाज आई चोर चोर, मैंने मुड़कर देखा तो एक व्यक्ति तेजी से भाग रहा था तथा कुछ लोग उसका पीछा कर रहे थे. तभी मेरे पापा ने मुझे अपनी तरफ खीच लिया. मेरे भाई तेजी से उस व्यक्ति की ओर लपके जो किसी का पर्स चुराकर भाग रहा था. कुछ ही कदम पर राहुल ने चोर को अपनी बाहों में जकड़ लिया तथा उसे पुलिस के हवाले कर दिया.

वहां खड़े सभी लोगों ने राहुल की बहुत प्रशंसा की. हमने भी बड़े भाई की इस बहादुरी भरे कार्य को तालियाँ बजाकर स्वीकार किया. कुछ आगे बढने पर हम भोलेनाथ के मन्दिर पहुचे आठ बजे का समय हो चूका था. ढोल नगाड़ों के साथ शिवजी की आरती हो रही थी. हम सभी लोग भोलेनाथ को प्रणाम कर हाथ जोड़कर खड़े हो गये.

पाठ पूजा और आरती पूरी होने के बाद सभी ने प्रसाद खाया. रात काफी हो चुकी थी पापा उसी रात शिवरात्रि की भजन संध्या के लिए रूक गये तथा मैं राहुल और अपनी माताजी के साथ घर आए गये. इस तरह मेरे गाँव के शिवरात्रि के मेले का अनुभव आज भी यादाश्त में बसा हुआ हैं. जब भी मेले का नाम जेहन में आता है तो यह द्रश्य यकायक आँखों के सामने उपस्थित हो जाता हैं.

Essay on Mela in Hindi Language In 1000 Words

Essay on Indian Fair in Hindi Language: भारत को मेलों का महासागर कहा जाए तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी. क्योंकि भारत जैसे देश में समय समय और विविध स्थानों पर मेले लगते हैं. तीज त्योहार, पर्व, उत्सव और जयंती के मौकों पर मेलों का आयोजन किया जाता हैं. वही कुछ सांस्कृतिक मेलों का आयोजन राज्य सरकारे व विभिन्न संस्थान करते हैं. कही पर बड़े बड़े पशु मेले लगते है तो कही मजारों तथा मन्दिरों व समाधि स्थलों पर भी धार्मिक मेलों का आयोजन नियत अवसरों पर किया जाता है.

राजस्थान में कई अवसरों पर मेलों का आयोजन होता है. दशहरे के अवसर पर लगने वाले कोटा के मेले, पुष्कर मेले व तेजाजी के मेले के अतिरिक्त जैसलमेर के रामदेवरा में लोक देवता रामदेवजी का प्रसिद्ध मेला हर वर्ष भाद्रपद शुक्ल द्वितीया के दिन भरता हैं. साम्प्रदायिक श्रेणी का यह मेला राज्य का सबसे बड़ा मेला भी हैं. यहाँ हिन्दू मुस्लिम दोनों समुदाय के लोग समान भाव से आकर पूजा अर्चना करते हैं.

कई महीनों तक रामदेवरा मेला चलता है. लगभग एक महीने तक यह मेला चलता है जिसकी ख़ास बात यह है कि रामदेवरा दर्शन के लिए लाखों की संख्या में लोग राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश, पंजाब हरियाणा से लोग आते हैं. यहाँ अधिकतर आने वाले जातरु पैदल यात्रा के जरिये पहुचते हैं. कई महीनों तक पैदल यात्रा के बाद बाबा के मेले में भक्ति भाव से लोग मंगल कामना कर आशीर्वाद लेकर घर लौटते हैं.

मैं भी कई बार अपने दोस्तों के साथ रामदेवरा मेले में गया हूँ. मेरे घर से रामदेवरा की दूरी 300 किमी है यहाँ तक पहुचने का सफर 6-7 सात दिनों में तय होता हैं. रामदेवरा में लोग मनोरंजन या अधिक मेले के पहलुओं को लेकर आने की बजाय आस्था तथा धर्म के लिए दर्शन करने पहुचते हैं. बीच रास्ते लोगों के लिए तमाम व्यवस्थाओं का प्रबंध विभिन्न संस्थाओं द्वारा किया गया है जिसमें लोगों को निशुल्क खाना, दवाई आदि की मदद की जाती हैं.

हमारा 300 किमी का सफर पूरा होते होते एक सप्ताह तक राह में ही निकल गया, मगर इसका कभी एहसास भी नहीं हुआ, कि हम इतने दिनों से चल रहे हैं. सड़क लोगों से खचाखच भरी रहती है बाबा के जयकारों की गूंज देर रात तक सुनाई पड़ती हैं. इस तरह के नजारे के बीच थकान तो कभी महसूस ही नहीं होती. रामदेवरा एक छोटा सा गाँव हैं जिसके बारे में मान्यता है कि 15 वीं सदी में चमत्कारी लोक देवता बाबा रामदेवजी की यह कर्मस्थली रहा.

इन्होने ही इसी गाँव को बसाया था तथा यही पर बने मुख्य मन्दिर के स्थान पर इन्होने समाधि ली थी. तब से लेकर आज तक उनके जन्म दिन के अवसर पर यहाँ विशाल मेला भरता हूँ. रामदेवरा में पहुचने के पश्चात बाबा के दर्शन के कई घंटे लग गये. तकरीबन 50 हजार लोग दर्शन के लिए कतार में खड़े थे. पुलिस तथा प्रशासन की पुख्ता व्यवस्था के चलते तेजी से सभी लाइन आगे बढ़ रही थी.

हमने लाइन में ही रहते हुए पास ही लगे प्रासाद घरों से प्रसाद तथा पूजा की सामग्री खरीद ली. आगे बढ़ते जाने पर आखिर वो नजारा उपस्थित हो ही गया, जिसका हमें बीते सात दिनों से बेसब्री से इन्तजार था. सोने से मढ़ी बाबा की समाधि के सिर झुकाकर नमन किया और आगे के लिए निकल गये. मन्दिर में ही समाधि स्थल के अतिरिक्त कई मन्दिर और दर्शनीय स्थान हैं. मूल मन्दिर के पीछे एक बावड़ी और तालाब भी हैं. जहाँ श्रद्धालु स्नान करते हैं.

अन्य मेलों की तरह रामदेवरा के मेले में भी वो सब कुछ था. झूले, दुकाने, जादूगर,सर्कस मगर यहाँ एक चीज सबसे अलग थी वो थी आस्था जो अन्य मेले में शायद ही देखने को मिले. यहाँ की अधिकतर दुकानें प्रसाद घर, बाबा रामदेवजी की तस्वीरों की ही थी. मगर थोड़ा बाहर आने पर वो समस्त प्रकार की दुकानों को देखा जा सकता था. जो व्यक्ति की सभी जरूरतों को पूरा कर सके.

मैंने अपने जीवन में कई मेलों और दर्शनीय स्थलों का भ्रमण किया है मगर मुझे सबसे अधिक प्रभावित रामदेवजी के रुनिचा मेला ने किया हैं. यही वजह है कि मैं कई बार यहाँ गया है मन्नते पूरी करवाने या अन्य धार्मिक पहलू की पूर्ति की बजाय यहाँ आने से जो दिल को सुकून मिलता है वो किसी स्थान पर नहीं. और भी अवसर मिला तो मेरी कोशिश रहेगी फिर से रामदेवरा मेला का दर्शन किया जाए. आप भी किसी ऐसे स्थल की खोज में है जहाँ भक्ति और शक्ति का मेल हो तो हम आपकों रामदेवरा आने का निमंत्रण देते हैं.

मेलों के कई सारे लाभ होते है जिनके कारण हर बार इनका आयोजन किया जाता हैं. लोग एक दूसरे से मिलते है जिससे मेलजोल बढ़ता है. लम्बे समय बाद मन हल्का करने के लिए घूमने का एक बहाना भी मेले ही प्रदान करते हैं. अलग अलग तरह के मेलों का अपना महत्व हैं.

पशु मेले कृषकों तथा पशुपालकों के लिए आयोजित होते हैं. धार्मिक मेले किसी समुदाय विशेष के लिए पुस्तक मेले अच्छी पुस्तकों के अध्ययन में रूचि रखने वाले लोगों के लिए, ये सब मेले बच्चों के लिए आकर्षण का केंद्र तो होते ही हैं, साथ ही बच्चों के लिए विशेष रूप से बाल मेले का आयोजन कई स्थानों पर किया जाता हैं.

मेलों के आयोजन से लाभान्वित होने वाला दूसरा व्यवसायी वर्ग हैं. उन्हें हर श्रेणी के मेले में अपना माल बेचने तथा मुनाफा कमाने के अच्छे अवसर विद्यमान रहते हैं. मेले के आयोजन से टैक्स के द्वारा राज्य सरकारों तथा स्थानीय निकाय को भी लाभ मिलता हैं. जबकि इस तरह के कार्यक्रमों में पुलिस तथा प्रशासन के लिए कठिन परीक्षा का समय होता हैं.

उन्हें सम्बन्धित क्षेत्र में लोगों की सुरक्षा के दायित्व को निभाना होता हैं. हाल ही में अमृतसर के दशहरे के रावण दहन के समय जो हुआ, इसकी कभी पुनरावृति ना हो सके. इसके लिए प्रशासन तथा आयोजकों के अपने प्रबन्धन को एक अच्छे स्तर तक ले जाना होगा, जिससे हमारी मेलों की इस परम्परा को और अधिक मजबूत किया जा सके.

यह भी पढ़े-

उम्मीद करता हूँ मित्रों Essay on Mela in Hindi Language का यह लेख आपकों अच्छा लगा होगा. यदि आपकों मेले के निबंध में दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे. आपका कोई सुझाव या सवाल हो तो प्लीज कमेंट कर जरुर बताए. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *