दूध पर निबंध | Essay on Milk in Hindi

Essay on Milk in Hindi: नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है यहाँ दूध पर निबंध दिया गया हैं. समस्त जीवों के जीवन से प्रत्यक्ष रूप से जुड़ा हुआ यह पेय पदार्थ है जिन्हें आरम्भिक अर्थवा प्रथम भोजन भी कहा जाता हैं. इस निबंध में हम दूध के महत्व उपयोग और इसके लाभ के बारें में जानेगे.

दूध पर निबंध | Essay on Milk in Hindi

Essay on Milk in Hindi

दूध को सबसे बढ़िया पेय पदार्थ माना जाता हैं, जो हमारे खान पान का विशिष्ट अंग हैं. स्वास्थ्य विशेष्ज्ञ भी इस बात की सलाह देते है कि प्रत्येक व्यक्ति को सवेरे और शाम को एक गिलाश दूध अवश्य पीना चाहिए. गाय, बकरी, भैंस, स्त्री, हस्तिनी, घोड़ी, ऊँटनी और भेड़ ये पालतू पशु दूध के मुख्य स्रोत हैं.

सभी आयु वर्ग के लोगों के लिए दूध को अच्छा पोषण माना जाता हैं. एक साधारण व्यक्ति के लिए एक गिलाश दूध आवश्यक प्रोटीन और खनिज पदार्थों उपलब्ध करवाता हैं. मेडिटेशन करने वाले यूथ को भी एक गिलाश दूध नित्य लेना चाहिए.

दूध पीने के कई लाभ है इससे शरीर की वृद्धि व विकास में सहायता मिलती हैं, नन्हें बच्चों के लिए दूध को सर्वश्रेष्ठ पोषण माना गया हैं. यह हड्डियों को मजबूत बनाने के साथ ही बॉडी में जीवाणु, कीटाणु तथा विषाणु से लड़ने में सहायक माना गया हैं साथ ही नित्य दूध के सेवन से चेहरे पर क्रांति नजर आती हैं.

जब कभी हम बीमार पड़ते है हमारा शरीर बहुत निर्बल हो जाता है ऐसे में चिकित्सक भी दूध पीने की सलाह देते हैं. दूध से दही बनता है दही भी स्वास्थ्य के लिए लाभदायक माना गया हैं. दूध से बनने वाले उत्पादों में दही, घी, मक्खन, पनीर आदि मुख्य हैं. घी भी हमारे जीवन की दिनचर्या का हिस्सा है हम घी के बने विभिन्न व्यंजनों एवं पकवानों का उपयोग करते हैं. इस तरह दूध का सेवन हम सभी के लिए फायदेमंद हैं.

हमारी दिनचर्या में दूध का प्रयोग विभिन्न रूपों में किया जाता हैं. दूध से बने चावलों की खीर बेहद स्वादिष्ट होती हैं. बहुत से लोग दूध को फाड़कर नींबू से पनीर और सब्जी भी बनाते है साथ ही इससे आइस क्रीम भी बनाई जाती है जो बच्चों को विशेष रूप से बहुत प्रिय होती हैं. दूध से मेंगो शेक, कुल्फी, गाजर का हलवा भी बनाया जाता हैं.

सबसे अच्छा दूध गाय का होता हैं. मगर प्रत्येक व्यक्ति के लिए गाय पालना सम्भव नहीं होता हैं. ऐसे में बकरी एक अच्छे दूध का विकल्प है इसे गरीबों की गाय भी कहते हैं. बकरी का दूध पौष्टिक होने के साथ साथ सुपाच्य होता हैं. राष्ट्रपिता गांधी भी बकरी का दूध पीते थे. जहाँ तक सम्भव हो प्रत्येक व्यक्ति को नित्य सवेरे तथा शाम को दूध का सेवन करना चाहिए. बड़ी मात्रा में दूध में प्रोटीन व मिनरल्स होते है. जिससे शरीर में ऊर्जा का नया संचार होता है वह शरीर को मजबूती मिलती हैं.

भारत के प्रत्येक कोने में दूध बंद थैलियों में मिलता हैं. पशुपालक अपने जन्तुओं का दूध सहकारी दूध मंडी तक पहुचाता है जहाँ से प्रोसेसिंग के बाद इसे प्लास्टिक थैली में बंद कर दिया जाता हैं. नानक दूध, पारस दूध, पराग दूध, मदर डेरी का दूध और दिल्ली दुग्ध योजना का दूध, अमूल आदि भारत की सबसे बड़ी दूध विपणन कंपनियां हैं.

आज भी शहरों के आस पास रहने वाले पशुपालक बड़े दूध पात्रों में दूध भरकर साइकिल अथवा बाइक के जरिये घर घर आपूर्ति की जाती हैं. इन्हें मिल्कमैन अथवा दूधवाला के नाम से भी जाना जाता हैं. पुराने जमाने में कांच की शीशियों में दूध मिलता था.

सोने से पूर्व दूध पीना अच्छा माना जाता हैं, साथ ही इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि कच्छा दूध पीने की बजाय उसे गर्म कर पीना चाहिए जिससे कई कीटाणु खत्म हो जाते हैं. कब्ज की समस्या, बालों के झड़ने अथवा सिर में रुसी खुजली के घरेलू उपायों में दूध बेहद असरकारक माना गया हैं.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों Essay on Milk in Hindi का यह निबंध आपकों अच्छा लगा होगा, यदि आपकों दूध पर दिया गया निबंध

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *