मेरा शहर निबंध हिंदी में – Essay On My City in Hindi

This Paragraph On information about My City In Hindi. Short Best Long Essay On My City In Hindi Language. मेरा शहर पर निबंध, My Town mumbai, kanpur, chandigarh, agra, jaipur delhi Mere Shahar par Nibandh.

मेरा शहर निबंध हिंदी में – Essay On My City in Hindi

मेरा शहर निबंध हिंदी में - Essay On My City in Hindi

आधुनिक भारत की राजधानी दिल्ली प्राचीनकाल से ही लोगों के आकर्षण का केंद्र रही है. दिल्ली भारत का दिल है. यहाँ अनेक दर्शनीय, ऐतिहासिक, धार्मिक एवं सांस्कृतिक स्थल हैं जो अपने दामन में कला, सभ्यता, संस्कृति तथा इतिहास समेटे हुए हैं.

दिल्ली कितनी ही बार उजड़ी और बसी हैं. दिल्ली के हर कोने में पुराने खंडहर अपने प्राचीन अस्तित्व एवं वैभव की याद दिलाते हैं. महाभारत काल में इसे इंद्रप्रस्थ कहा जाता था, जिसका निर्माण युधिष्ठिर ने करवाया था. आठवीं शताब्दी में राजा अंगपाल ने इसे अपनी राजधानी बनाया, इसके पश्चात पृथ्वीराज चौहान, मुहम्मद तुगलक और मुगलों ने सजाया संवारा.

दिल्ली के अनेक स्मारक विभिन्न काल तथा राजाओं के स्मृति चिह्न हैं. पुराना किला पांडवों के शासन की याद दिलाता हैं, तो लालकोट का दुर्ग पृथ्वीराज के समय का स्मारक हैं. तुगलकाबाद तुगलक वंश तो कुतुबमीनार, फिरोजशाह कोटला, हुमायूं का मकबरा, जामा मस्जिद मुस्लिम सभ्यता के प्रतीक हैं. इसके अलावा जन्तर मन्तर, बिड़ला मंदिर, लोट्स टेम्पल, राष्ट्रीय भवन संसद भवन, चिड़ियाघर, नेहरू म्यूजियम आदि अनेक दर्शनीय स्थल हैं.

दिल्ली का लाल किला एक ऐतिहासिक दर्शनीय स्थल हैं. इसके अंदर नौबतखाना, दीवान ए खास, दीवान ए आम देखने योग्य हैं. और जामा मस्जिद विश्व की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक हैं. इसी प्रकार कुतुबमीनार अपनी ऊँचाई एवं भवन निर्माण कला से पर्यटकों का दिल मोह लेती हैं. दिल्ली में अत्यंत प्राचीन लौह स्तम्भ हैं, जिस पर कभी जंग नहीं लगती.

जन्तर मन्तर ज्योतिष शास्त्र पर निर्मित एक अद्भुत इमारत हैं. इसे सवाई मानसिंह ने बनवाया था. इससे दिन में समय की जानकारी प्राप्त होती हैं, तो रात में नक्षत्रों की गणना की जाती हैं.

पुराना किला के समीप बने चिड़ियाघर को देखने हजारों पर्यटक प्रतिदिन आते हैं. इसमें देश विदेश से लाए गये पशु पक्षियों को देखने का सुअवसर मिलता हैं. इसी प्रकार लोट्स टेम्पल आधुनिक भवन निर्माण कला का अद्भुत नमूना हैं अंग्रेजीकाल  निर्मित कनाट प्लेस, इंडिया गेट, गोलाकार संसद भवन, राष्ट्रपति भवन आदि भी विशेष आकर्षण के केंद्र हैं.

इस प्रकार मेरे दिल्ली शहर में अनेक दर्शनीय स्थल हैं, जो ज्ञान का स्रोत होने के साथ ही संस्कृति एवं सभ्यता के द्योतक हैं. ये स्थल दिल्ली की सुन्दरता में चार चाँद लगाते हैं और उसके ऐतिहासिक महत्व को बढ़ाते हैं.

#Essay On My City Delhi in Hindi #My City Essay in Hindi

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay On My City in Hindi Language ( Article ) आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *