Essay on My First Train Journey in Hindi And English | मेरी पहली रेल यात्रा

Essay on My First Train Journey in Hindi And English | मेरी पहली रेल यात्रा

My First Train Journey Essay: 1st Journey or trip experience is different from daily routine. when we saw first time train, bus or airplane then what thought comes to mind. maybe many wishes but one of them must come when I do the First time Train Journey. Essay on My First Train Journey I sharing with you same like this my experience when I trip first time in rail (train Journey). Essay on My First Train Journey in Hindi And English providing for students who read in class 1,2,3,4,5,6,7,8,9 etc.. 

Essay on My First Train Journey in Hindi And English

Essay on My First Train Journey in Hindi And English मेरी पहली रेल यात्रा
My First Train Journey

out of my many railway journeys, I remember the trip to Agra, this is my first My First Train Journey.

the last October we two friends made up our mind to visit the taj mahal. we started on 2nd October to enjoy our holiday. we reached New Delhi station by taxi. there was a great rush on the booking office.

somehow we managed to buy two tickets.

at the new Delhi railway platform, we saw hawkers selling seats, fruits, toys, tea, and cigarettes. we got seats.

passengers had occupied me seats, the train started earlier.

from the running train, we saw green fields on either side. taj express was gaining speed.

we played playing cards. we enjoyed jokes. we reached Agra railway station. time seemed passing quickly chit-chat. we drove straight to the taj mahal.

Essay on My First Train Journey in Hindi -मेरी पहली रेल यात्रा 

मेरी कई रेलवे यात्राओं में से, मुझे आगरा की यात्रा याद है, यह मेरी पहली पहली रेल यात्रा थी।

पिछले अक्टूबर में हम दो दोस्तों ने ताज महल जाने के लिए अपना मन बना लिया। हमने अपनी छुट्टी का आनंद लेने के लिए 2 अक्टूबर को हमारा आगरा सफर शुरू किया। हम टैक्सी द्वारा नई दिल्ली स्टेशन पहुंचे। बुकिंग कार्यालय पर बड़ी भीड़ थी।

किसी भी तरह हम दो टिकट खरीदने में कामयाब रहे।

नई दिल्ली रेलवे प्लेटफार्म में, हमने सीट, फल, खिलौने, चाय और सिगरेट बेचने वाले से हमने कुछ खाने पीने का सामान लिया और हमारी गाड़ी की ओर चल पड़े। हमें जाते ही डिब्बे में सीटें मिल गई.

हालांकि कई यात्रियों ने ट्रेन के शुरू होने से पूर्व ही सीटों पर कब्जा कर रखा तथा. इसी बीच हम भी एक सीट बचाने में कामयाब रहे.

धीरे धीरे हमारी ताज एक्सप्रेस स्पीड पकड़ रही थी. हरे हरे खेतों व पहाड़ों के मनोरम द्रश्य लगातार हमसे पीछे छुट रहे थे.।

समय बिताने के लिए हमने कार्ड्स का गेम खेला तथा मेरे दोस्त ने कुछ चुटकले भी सुनाये. बातों ही बातों में वक्त कैसे गुजर गया, पता ही नही चला. अब हम आगरा रेलवे स्टेशन पहुच चुके थे. बाद में हम ताजमहल की तरफ रवाना हो गये.

READ MORE:-

राजस्थान के पर्यटन स्थल पर निबंध | Essay On Rajasthan Tourist Places I... राजस्थान के पर्यटन स्थल पर निबंध | ...
कंप्यूटर का परिचय | Computer Introduction In Hindi... कंप्यूटर का परिचय | Computer Introd...
आतंकवाद की समस्या पर निबंध | Hindi Aatankwad Ki Samasya Essay... आतंकवाद की समस्या पर निबंध | Hindi ...
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *