मेरा मकान पर निबंध। Essay on My house in Hindi

Essay on My house in Hindi

मेरा मकान पर निबंध Essay on My house in Hindi : प्रत्येक प्राणी को सिर ढकने के लिए एक छत की अभिलाषा रहती हैं, इसलिए वह अपने घर का निर्माण करता हैं. मेरा अपना मकान चाहे वह कच्छा हो या पक्का उसमें यादें, तथा जीवन का सच्चा सुख व सुरक्षा के भाव जुड़े होते हैं. मेरे घर पर आज यहाँ निबंध बता रहे हैं, जिन्हें स्टूडेंट्स परीक्षा के लिहाज से याद कर सकते हैं. My house टॉपिक पर यहाँ Hindi Essay दिया गया हैं.

मेरा मकान पर निबंध। Essay on My house in Hindi

मेरा मकान पर निबंध Essay on My house in Hindi

ग्वालियर शहर की शारदा कोलोनी की शुरूआती पंक्ति में मेरा मकान पड़ता हैं, मैं और मेरा परिवार कोलोनी के एक साधारण से बहुमंजिले भवन में रहते हैं. आज से बारह वर्ष पूर्व जब मेरे पिताजी की ड्यूटी शहर में लगी तो उन्होंने सपनें से सुंदर इस घर में रहना शुरू किया था. हमारे घर के बाहरी भाग में अतिथि गृह, एक रसोई, शोचालय तथा दो शयन कक्ष बने हुए हैं. घर की छत से छटे स्टायलिश छज्जे बने हैं जो इसकी रौनक को और बढ़ा देते हैं.

जब मैं पांच वर्ष का था तो हम इस घर में आए थे. हमारे परिवार के सदस्यों के लिहाज से यह काफी बड़ा घर हैं. माता पिता, एक बहिन तथा मैं हम चारों लोग ही यहाँ रहते हैं. मेरा यह घर लोहे की सरियों व सीमेंट से बना हैं इसकी फर्श मार्बल से बनी हैं. तथा इसमें समस्त प्रकार की आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध हैं. दो बड़ी अलमारियों को ग्रेनाईट से बनाया गया हैं. मेरे मकान के प्रवेश द्वार से दाई ओर का दूसरा कमरा रसोई घर का हैं जो काफी बड़ा और आरामदायक भी हैं. इससे छ्टे कमरे हमारे सोने तथा पढ़ने के लिए हैं.

सभी कमरों के बीच की छोटी गैलरी प्रवेश द्वार की ओर खुलती हैं जहाँ से हम अपनी सोसायटी के दर्शन आसानी से कर सकते हैं. हमारा अतिथि गृह मेहमानों तथा रिश्तेदारों के लिए हैं इसे भली भांति से सजाया गया हैं. इसकी फर्श को नरम कालीन से ढका हैं. दीवार के सभी ओर प्रकृति की सुंदर तस्वीरे लगी हुई हैं. वही दरवाजे के पास रंगीन टीवी का सेट लगा हुआ हैं. अतिथि ग्रह में एक गोल टेबल हैं तथा बैठने के लिए अच्छे सोफे रखे गये हैं.

मेरे कमरे की बड़ी छत हैं जिस पर कपड़े सुखाने व सर्दियों में धुप का आनन्द लेने के लिए मैं जाता हूँ, छज्जे पर सुंदर खुशबूदार फूलों के गमले रखे गये हैं जिसकी महक पुरे घर में फैली रहती हैं. यह हमारे मकान की सुन्दरता को भी बढाता हैं. मेरे घर की डिजाइन इस तरह से बनी हैं जिसमें प्राकृतिक हवा अबाध रूप से आती है, कमरों में हवा के लिए चार छत पंखे तथा एक मेज फेन लगा हुआ हैं. इस तरह मेरे घर में वे समस्त सुविधाए है जो एक अच्छे घर में होनी चाहिए.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों Essay on My house in Hindi का यह निबंध आपकों पसंद आया होगा, इस निबंध स्पीच पैराग्राफ में दी जानकारी आपकों अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *