राष्ट्रीय एकता और अखंडता पर निबंध | Essay on National Unity and Integrity in Hindi

राष्ट्रीय एकता और अखंडता पर निबंध | Essay on National Unity and Integrity in Hindi

भारत एक संघ राज्य है. अनेक राज्यों या प्रदेशो में निवास करने वाले, भिन्न भिन्न रूप रंग, आचार विचार, भाषा और धर्म के लोग यहाँ निवास करते है. इन सभी की स्थानीय संस्कृतियाँ है. इन सबसे मिलकर एक भारतीय संस्कृति का विकास हुआ है. हम सभी भारतीय है, यही भावना भारत को राष्ट्र का रूप देती है. अनेकता में एकता की यह भावना ही हमारे राष्ट्र का आधार है. किसी ने ठीक ही कहा है.

हिन्द देश के निवासी, सब जन एक है
रंग रूप वेश भाषा चाहे अनेक है.

राष्ट्रीय एकता और अखंडता का अर्थ-

राष्ट्रीय एकता का अर्थ है भारतीय के रूप में हमारी पहचान. सभी धर्मों परम्पराओं, आचार, विचारों, भाषाओँ और उप्संस्क्रतियों का आदर करना, भारत भूमि और भारत के सभी निवासियों के प्रति प्रेमभाव रखना यही राष्ट्रीय एकता का स्वरूप है. राष्ट्रीय अखंडता का अर्थ है, राष्ट्र की भूमि के हर भाग की सुरक्षा करना.

देश को बाटने वाली विदेशी आक्रमण या षड्यंत्र को विफल बनाना और आंतरिक एकजुटता बनाए रखना, यही राष्ट्रीय अखंडता की भावना है. भारतवासियों को हर कीमत पर राष्ट्रीय एकता और अखंडता को बनाए रखना चाहिए.

एकता और अखंडता पर संकट

आज हमारी राष्ट्रीय एकता और अखंडता संकट में है. इस स्थति के लिये सर्वाधिक दोषी हमारे राजनेता है. विदेशी लोगों ने फूट डालों और राज करो’ की निति अपनाकर सैकड़ो वर्षों तक हमे गुलामी भोगने के लिए मजबूर किया था.

हमारे देशी शासक भी सता की लोलुपता से अंधे होकर यही निति अपना रहे है. इन्होने अपने स्वार्थ सिद्धि के लिए जनता को जाति, धर्म, आरक्षित, अनारक्षित, अगड़े, पिछड़े, अल्पसंख्यक, बहुसंख्यक और प्रादेशिक कहरता के आधार पर बाट दिया है, इनको न देश की एकता की चिंता है न अखंडता की.

इनको केवल अपना वोट बैंक बनाए रखने की चिंता है. ये लोग बड़बोले, कायर और देशद्रोही है, जनता को इनके असली रूप को अपनी शक्ति को पहचान लेना चाहिए और इनको सही रस्ते पर आने के लिए मजबूर कर देना चाहिए.

राष्ट्रीय एकता और अखंडता के लिए उपाय

राष्ट्र की अखंडता की रक्षा के लिए सेना है. बाहरी आक्रमण अथवा राष्ट्रीय संकट की घड़ी में सेना ही आगे आती है. लेकिन राष्ट्रीय एकता और अखंडता की रक्षा में देश के हर नाग्रिक्क की भी भूमिका होती है. अपने प्रतिनिधि चुनते समय हमे उनके पूर्व इतिहास और चरित्र पर ध्यान देना चाहिए. लोभ लालच या स्वार्थवंश ऐसा कोई कार्य नही करना चाहिए, जिससे हमारी राष्ट्रीय एकता और अखंडता पर संकट आए.

Hope you find this post about ”Essay on National Unity and Integrity in Hindi” useful. if you like this article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update keep visit daily on hihindi.com.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article about Rashtriya Ekta aur akhandta and if you have more information Ekta ka mahatva essay in Hindi then help for the improvements this article.

Leave a Reply