सड़क सुरक्षा में मीडिया की भूमिका | Essay On Road Safety In 500 Words In Hindi

सड़क सुरक्षा में मीडिया की भूमिका | Essay On Road Safety In 500 Words In Hindi: आज के समय में सड़क दुर्घटना आम बात हैं, जिसका मुख्य कारण सड़क सुरक्षा की ओर ध्यान न देना हैं. Road Safety Essay में हम जानेगे कि किस तरह वाहन चालक की लापरवाही, नशे में गाड़ी चलाने, ट्रेफिक पुलिस के नियमों की अवहेलना करने से सड़क दुर्घटनाएं (road accidents) बढ़ती जा रही हैं. सड़क सुरक्षा के नियमों की अनुपालना व जन जागृति में मीडिया की क्या भूमिका हैं.

Essay on Road Accident in Hindiसड़क सुरक्षा में मीडिया की भूमिका | Essay On Road Safety In 500 Words In Hindi

सड़क सुरक्षा में मीडिया की भूमिका (prevention of road accident):-

हम आए दिन अख़बार में पढ़ते हैं कि सड़क दुर्घटना में कई लोगों की मृत्यु हो गई हैं. या गंभीर रूप से घायल हो गया हैं. प्रशासन द्वारा सड़क सुरक्षा अभियान चलाकर इन घटनाओं के प्रति लोगों को जागरूक किया जाता हैं. यातायात के नियमों की जानकारी लोगों को विभिन्न माध्यमों से दी जाती हैं.

सड़क सुरक्षा अभियान में मीडिया की भूमिका खास हो जाती हैं. मीडिया लोगों को संदेशों विज्ञापनों के माध्यम से यातायात के नियमों का पालन करने हेतु प्रेरित करे. उसे सड़क सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए आवश्यकता अनुसार सकारात्मक सूचनाएं प्रसारित करनी चाहिए.

सामाजिक विज्ञापन से घर और सड़कों पर जीवन की सुरक्षा संबंधी संदेश देना चाहिए. मीडिया को स्पष्ट और निष्पक्ष विचार रखने चाहिए ताकि लोगों के विचारों में सकारात्मक प्रभाव पड़े. कुछ विज्ञापन गैर जिम्मेदाराना तरीके से उच्च क्षमता के वाहनों का प्रदर्शन स्टंट के द्रश्य सहित बिना वैधानिक चेतावनी के प्रसारित कर दिए जाते हैं.

बिना वैधानिक चेतावनी के ऐसे विज्ञापन नही होने चाहिए, क्योंकि बच्चें व युवा इन दृश्यों का अनुसरण कर चोटग्रस्त हो सकते है. वाहन चालन के समय निम्निलिखित सावधानियां रखे.

सड़क सुरक्षा के सामान्य नियम व सावधानियां (road safety rules in hindi):-

  • वाहन चालक के पास वैध ड्राइविंग लाइसेंस हो.
  • दुपहिया वाहन चालक और सवार हेलमेट का प्रयोग करे, चौपहिया वाहन के चालक व सवार सीट बेल्ट का प्रयोग करे.
  • वाहन चलाते समय मोबाइल का प्रयोग न करे.
  • तेज ड्राइविंग से बचे और वाहन निर्धारित गति सीमा में चलावें.
  • नशा करके वाहन न चलावें.
  • यातायात के नियमों का पालन करे.
  • अपनी लेन में ही चले और यातायात संकेतकों का पालन करे.
  • आम सड़क पर चलते समय स्टंटबाजी नही करनी चाहिए.

भारत में यातायात के मुख्य संकेत (Traffic signals Meaning )

सड़क सुरक्षा जितनी वाहन चालक के लिए आवश्यक हैं, ठीक उतना ही जरुरी आम आदमी के लिए हैं. यातायात के नियमों व संकेतों की साधारण जानकारी व अर्थ हमें पता होना चाहिए. भारत में सडकों के मुख्य संकेत के रूप में हर चौराहे पर तीन रंग की लाइट लगी रहती हैं. जो नीचे दिए गये चित्र के अनुसार होती हैं. इनकी तीनों लाइट का क्या अभिप्राय हैं.

Traffic signals

  • लाल बत्ती : यह संकेत आपकों रुकने का इशारा कर रहा हैं. अन्य पथ को खोलने के कारण आपके रास्ते को कुछ समय के लिए रोका गया हैं. इसलिए लाल बत्ती जलने पर आप जिस स्थति में हो रुक जाए.
  • पीली बत्ती-यह लाइट लाल लाईट के बंद होने के तुरंत बाद जलती हैं. इसका अर्थ हैं तैयार हो जाइए अब आपकों चलने का संकेत मिलने वाला हैं. हम कई बार देखते हैं. लोग पीली बत्ती के जलते ही अपने वाहन को स्टार्ट कर जल्दी से भागने को आतुर रहते हैं. ऐसा अपना वाहन चालू कर आराम से आगे बढ़ना चाहिए.
  • हरी बत्ती– इसका अर्थ हैं यू कैन गो नाउ, अब आप आगे बढ़ सकते हैं. आपका रास्ता साफ़ हैं.
राष्ट्रीय एकता और अखंडता पर निबंध | Essay on National Unity and Integr... राष्ट्रीय एकता और अखंडता पर निबंध |...
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *