विज्ञान का चमत्कार हिंदी निबंध | Essay On Vigyan Ke Chamatkar In Hindi Language

विज्ञान का चमत्कार हिंदी निबंध | Essay On Vigyan Ke Chamatkar In Hindi Languageविज्ञान ने हमें क्या नही दिया, उनके बढ़ते कदम चमत्कारों के कारण साइंस ने हमारे जीवन को सुखमय बना दिया हैं. विज्ञान की प्रगति ने कई ऐसे चमत्कारों को जन्म दिया है, जिन्हें आज हम wonder of science essay- विज्ञान का चमत्कार निबंध एस्से में पढ़ेगे. बढ़ते विज्ञान के कदम (short essay on science wonder of science essay 250 word) में हम 100,200,300, 400, 500,1000 शब्दों में हिंदी निबंध कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 के स्टूडेंट्स के लिए सरल भाषा में यहाँ उपलब्ध करवा रहे हैं. चलिए आरम्भ करते हैं.

Essay On Vigyan Ke Chamatkar In Hindi Languageविज्ञान का चमत्कार हिंदी निबंध | Essay On Vigyan Ke Chamatkar In Hindi Language

विज्ञान के चमत्कार पर छोटा व बड़ा निबंध Essay on Wonder of Science in Hindi: विज्ञान का चमत्कार हिंदी में, विज्ञान के चमत्कार पर निबंध हिंदी में, विज्ञान की देन निबंध इन हिंदी, विज्ञान का चमत्कार निबंध हिंदी में, दैनिक जीवन में विज्ञान का महत्व निबंध, विज्ञानाचे चमत्कार निबंध, विज्ञान के चमत्कार पर कविता, विज्ञान के चमत्कार par slogan.

Paragraph Short Essay On Vigyan Ke Chamatkar In Hindi Language For Students 

विज्ञान का चमत्कार | विज्ञान के बढ़ते कदम | विज्ञान वरदान या अभिशाप एस्से इन हिंदी

प्रस्तावना- आज विज्ञान ने ऐसे अनेक आविष्कार कर दिए हैं जिनसे जीवन का प्रत्येक कार्य आसान हो गया हैं. इतना ही नही आज प्रत्येक क्षेत्र में विज्ञान का ही साम्राज्य है, यही कारण है कि हूम इस युग को पूर्ण रूप से विज्ञान का युग कहते हैं.

विज्ञान का चमत्कार मानव जीवन में– वर्तमान में विज्ञान ने अलग अलग क्षेत्रों में अनेक चमत्कार किये हैं. विज्ञान ने यातायात के साधनों का निर्माण कर स्थानों की दूरी पर विजय पा ली हैं. राकेट का निर्माण करके अंतरिक्ष यात्रा आसान कर दी हैं. संदेश भेजने के क्षेत्र में अनेक चमत्कार दिखाई देते हैं. टेलीफोन, मोबाइल, इंटरनेट, टेलीविजन, रेडियो आदि.

चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान ने अनेक चमत्कार किये हैं. अब असाध्य रोगों का ईलाज संभव हैं तथा स्वचालित उपकरणों से शरीर के अंदर शल्य क्रिया होने लगी हैं. परखनली से बच्चे जन्म लेने लगे हैं. कंप्यूटर विज्ञान का सबसे बड़ा चमत्कार हैं. इसे मनुष्य का दस हजार गुना अधिक शक्तिशाली मस्तिष्क कहा जाने लगा हैं. मनोरंजन के साधनों में सिनेमा ग्रामोफोन गेम्स आदि अनेक साधन बन गये हैं. इसी प्रकार घरों में काम आने वाले कूलर फ्रिज एयरकंडिशनर पंखे आटा पिसाई मशीन मिक्सर जूसर गीजर रूम हीटर आदि अनेक उपकरण बन गये हैं.

विज्ञान से लाभ व हानि– विज्ञान ने अनेक चमत्कारी आविष्कार कर अपनी शक्ति से प्रकृति पर विजय प्राप्त कर ली हैं. परन्तु परमाणु शक्ति के आविष्कार से विज्ञान ने मानव सभ्यता के विनाश का रास्ता खोल दिया हैं. घरों में रसोई घर से लेकर किसान के खेत खलिहान तक अनेक उपकरण काम में आ रहे हैं. इसे काम शीघ्रता से हो रहा हैं. ये सब चमत्कार विज्ञान की लाभकारी देन है परन्तु विज्ञान ने कुछ आविष्कार ऐसे कर दियें हैं जिससे हानि भी हो रही हैं. कई नयें आविष्कारों से असाध्य रोग फ़ैल रहे हैं. तथा धरती का तापमान व पर्यावरण भी इन चमत्कारों से प्रभावित हो रहा हैं. 

उपसंहार– विज्ञान के चमत्कारों से लाभ और हानि दोनों ही हैं, हमे यह तो मानना पड़ेगा कि आज का जीवन पूरी तरह विज्ञान पर ही निर्भर हैं. वैज्ञानिक साधनों के बिना आज का मानव एक घंटे भी शांति और चैन से नही रह सकता हैं. हमें चाहिए कि हम विज्ञान का उपयोग मानव कल्याण के लिए करे तो यह विज्ञान हमारे लिए वरदान बन जाएगा.

vigyan ke chamatkar

vigyan ke chamatkar short essay in hindi:विज्ञान के चमत्कार: आज हमारा जीवन कितना सुखी हैं. हमारे कमरे जाड़े में गर्म और गर्मी में ठंडे रहते हैं. पलक झपकते ही हमें हजारों मील दूर के समाचार घर बैठे मिल जाते हैं. हमारी राते अब दिन जैसी जगमगाती हैं. हमारे घर के भीतर ही रेडियों टेलीविजन हमारा मन बहलाते हैं. यह सब किसकी देन हैं ? एकमात्र उत्तर हैं विज्ञान की.

विज्ञान और उसके चमत्कार- मनुष्य ने जब धरती पर जन्म लिया तो उसके चारो ओर की प्रकृति का कोई ज्ञान नही था. वह अपनी आवश्यकता के अनुसार सभी वस्तुओं का उपभोग करने लगा. धीरे धीरे उसका ज्ञान भी बढ़ता गया. आज वह विज्ञान के बल पर सम्पूर्ण प्रकृति का स्वामी बन गया हैं. उसने और उसके विज्ञान ने जीवन के हर क्षेत्र में चमत्कार दिखाया हैं.

ज्ञान और शिक्षा के क्षेत्र में विज्ञान के चमत्कार– हमारी पुस्तकें, कापियां और लेखन सामग्री मशीनों से तैयार होती हैं. आज आकाशवाणी और दूरदर्शन द्वारा भी शिक्षा दी जा रही हैं.

कृषि और उद्योग के क्षेत्र में विज्ञान के चमत्कार– आजकल विज्ञान ने हमारी कृषि की उपज कई गुना बढ़ा दी हैं. अच्छे बीजों, रासायनिक खादों और कृषि यंत्रों की सहायता से अब खेती सरल हो गई हैं. और लाभदायक भी. आजकल हमारे सभी उद्योग मशीनों पर आधारित हैं. कहीं कहीं तो सारा काम मशीने करने लगी हैं. मनुष्य केवल उनके काम को देखते हैं.

समाचार और यातायात के क्षेत्र में विज्ञान के चमत्कार– विज्ञान ने रेल यात्रा जैसे कठिन काम को आसान कर दिया हैं. रेलगाड़ी तथा वायुयान द्वारा लम्बी दूरियां भी थोड़ी सी देर में तय की जा सकती हैं. दिल्ली शहर में भीड़ के बढ़ते हुए दवाब के कारण जमीन के नीचे तथा ऊपर मेट्रों ट्रेन चलाकर यातायात को सुगम बनाया गया हैं. टेलीफोन तथा ईमेल द्वारा समाचार भेजना अब कितना सरल हो गया हैं. रेडियों तथा दूरदर्शन के माध्यम से हम देश विदेश के समाचार क्षण मात्र में जान लेते हैं.

मनोरंजन के क्षेत्र में विज्ञान का चमत्कार– हमारा विज्ञान मन बहलाने में भी पीछे नही हैं. रेडियो, टेप रिकॉर्डर टेलीविजन आदि अनेक साधनों से वह हमारा मनोरंजन करता हैं.

चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान की प्रगति– आज रोगी के शरीर का भीतरी हाल जानने के लिए एक्सरे से भी अच्छी मशीने हमे प्राप्त हैं. हर बिमारी की अच्छी से अच्छी दवा की खोज की जा रही हैं. ओपरेशन के द्वारा शरीर के अंगों को भी बदला जा रहा हैं. लेजर किरणों से बिना चीर फाड़ के ओपरेशन भी होने लगे हैं.

युद्ध के क्षेत्र में विज्ञान के बढ़ते कदम– आज हम राडार की सहायता से शत्रु के हवाई आक्रमण की जानकारी पहले से कर सकते हैं. ऐसे अस्त्र भी बन गये हैं जिनसे शत्रु के लड़ाकू विमान को जमीन पर बैठे हुए भी गिरा सकते हैं. निकट भविष्य में सैनिकों के स्थान पर रोबोट के द्वारा युद्ध लड़े जाने की संभावना को साकार करने में वैज्ञानिक लगे हुए हैं.

अन्य क्षेत्रों में विज्ञान का विकास- कैलकुलेटर गणित के कठिन से कठिन प्रश्न को एक क्षण में हल कर देता हैं. कम्प्यूटर तो हमारे दिमाग के समान ही सोचने समझने और निष्कर्ष निकालने का काम करते हैं.

उपसंहार– विज्ञान एक सेवक के समान हमारे काम करता हैं और हमें आराम देता हैं. वह हमे किसी भी ऋतु में कष्ट नही होने देता. किन्तु कभी कभी युद्ध के रूप में विनाश भी करता हैं. इसलिए हमें विज्ञान का प्रयोग सोच समझकर ही करना चाहिए.

Essay On Vigyan Ke Chamatkar In Hindi Language In 500 words

प्रस्तावना- आधुनिक युग विज्ञान की आश्चर्यजनक प्रगति का युग हैं. विज्ञान आज मानव जीवन में घुल मिलकर इसका अनिवार्य अंग बन गया हैं. ऐसी स्थिति में यह विचारणीय प्रश्न उत्पन्न हो गया हैं. कि क्या विज्ञान मानव समाज को लाभान्वित कर रहा हैं अथवा पतन के गर्त की ओर ले जा रहा हैं.

आधुनिक युग के समाजशास्त्री, दार्शनिक तथा साहित्यकार इन विशिष्ट प्रश्नों के सही उत्तर ढूढने में संलग्न हैं. कई बुद्धिजीवियों की राय हैं कि विज्ञान मानव की मानवता को नष्ट कर रहा हैं. जबकि अन्य विद्वान् चिंतक विज्ञान की मुक्तकंठ से प्रशंसा करते हैं.

विज्ञान का अभूतपूर्व विकास– बीसवीं शताब्दी में विज्ञान ने अभूतपूर्व उन्नति की हैं. जहाँ आज से सौ वर्ष पहले मनुष्य बैल गाड़ियों और घोड़ों पर बैठकर यात्रा करता था और सौ मील की यात्रा करने में उसके कई दिन निकल जाते थे तथा परिश्रम और थकान के मारे उसका कचूमर निकल जाता था,

वहां आज सैकड़ों मील की यात्रा वह चुटकियों में तय कर लेता हैं. विज्ञान के द्वारा प्रदत्त सुविधाओं से वह सैकड़ो मील दूर के द्रश्य देख लेता हैं. तथा मीलों दूर बैठे व्यक्ति से वार्तालाप कर सकता हैं. यातायात के साधनों, दैनिक सुख सुविधा की वस्तुओं, यांत्रिक साधनों तथा अनेक स्वचालित मशीनों आदि के आविष्कार से विज्ञान का आश्चर्यजनक विकास हुआ हैं.

विज्ञान मानव के लिए वरदान– विज्ञान से मानव को जितना लाभ हुआ है उतना उसे प्राचीन युग में ईश्वर आराधना या धर्माचरण से नहीं हुआ था. विज्ञान से समाज और व्यक्ति दोनों समान रूप से उपकृत हुए हैं. व्यक्ति का जीवन पग पग में सरल और उच्च स्तरीय बन गया हैं. आज जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में विज्ञान ने इतने साधन उपलब्ध करा दिए हैं कि अब कोई काम असम्भव नहीं रह गया हैं. इसलिए विज्ञान अब मानव के लिए वरदान ही हैं.

विज्ञान मानव के लिए अभिशाप- लेकिन साथ ही विज्ञान ने मनुष्य के महत्व और कार्यक्षेत्र का अमित विस्तार करके उसे बहुत ज्यादा व्यस्त बना दिया हैं. आज आदमी का जीवन एकदम नीरस और यंत्र जैसा बन गया हैं. भौतिकता बढ़ रही हैं. पर्यावरण प्रदूषित हो रहा हैं तथा विनाशकारी परमाणु हथियारों के आविष्कार से मानव जाति के समूल विनाश का भय उपस्थित हो गया हैं. अतः विज्ञान का अतिभौतिकतावादी प्रयोग मानवता के लिए अभिशाप बन गया हैं.

समाधान- अतः यह आवश्यक यह है कि विज्ञान को व्यक्ति मानवीय दृष्टि से अपनाएं. संसार में मानव हित का स्थान सर्वोपरि हैं. विज्ञान हमारी सुविधा के लिए हैं. हम विज्ञान की सुविधा के लिए नहीं हैं. अतः विज्ञान के द्वारा प्रदत्त सुविधाओं का महत्व तभी है, जब मनुष्य की मनुष्यता सुरक्षित रहे, वह अमानवीय न बन जाए तथा उसकी आत्मा सूखे नाले की तरह नीरस न हो जाए.

उपसंहार- विज्ञान को अभिशाप से वरदान बनाने का उत्तरदायित्व बुद्धिमान और विवेकशील लोगों पर हैं. इसलिए विज्ञान के सुपरिणामों को सही रूप में प्राप्त करने के लिए यह अनिवार्य हैं कि लोगों को सही रूप में शिक्षा प्रदान कर उनमें वैज्ञानिक समझदारी बढ़ाई जाए. विज्ञान मानव जाति के लिए वरदान सिद्ध हो, हमें इस दिशा में सचेत रहना चाहिए.

आशा करता हूँ फ्रेड्स Essay On Vigyan Ke Chamatkar In Hindi Language का यह लेख आपकों अच्छा लगा होगा, यदि आपकों विज्ञान के चमत्कार का यह हिंदी निबंध पसंद आया हो तो प्लीज इसे सोशल मिडिया पर भी शेयर करे.

इस लेख से सम्बन्धित अन्य पोस्ट
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *