Essay on Visit to Mumbai in Hindi – मुंबई की यात्रा भ्रमण सैर पर निबंध

Essay on Visit to Mumbai in Hindi प्रिय साथियों नमस्कार आज हम मुंबई की सैर का हिंदी निबंध यहाँ बता रहे हैं trip to mumbai के इस आर्टिकल में महाराष्ट्र के राजधानी शहर के विषय में जानकारी यहाँ प्राप्त करेगे. तो चलिए मित्रों इस निबंध को पढना शुरू कर दिया.

Essay on Visit to Mumbai in Hindi – मुंबई की यात्रा भ्रमण सैर पर निबंध

Essay on Visit to Mumbai in Hindi - मुंबई की यात्रा भ्रमण सैर पर निबंध

visit to mumbai essay: एक बार मैंने अपने मित्र सौरभ के साथ मुंबई की सैर करने की योजना बनाई. हमारे स्कूल की दुर्गा पूजा की छुट्टियाँ पड़ गई थीं. इसलिए हम दोनों सुबह 5 बजे नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर आ गये और टिकट लेकर पंजाब मेल में बैठ गये. सुबह सुबह कम भीड़ थी इसलिए बैठने के लिए बर्थ आसानी से मिल गई थी.

रेलगाड़ी पहले मथुरा आई, फिर आगरा पहुंची. आगरा से हमने वहां की मशहूर मिठाई पेठा लिया. पेठा खाने के बाद हम ताश खेलने लगे. ताश खेलते खेलते झांसी आ गया. फिर हमने खाना खाया और गाड़ी के बाहर का दृश्य देखने लगे. बाहर देखते देखते हम सो गये. जब हमारी आँखे खुली तो हमारी गाड़ी इटारसी में थी. वहां का मनोरम और मनोहारी दृश्य तो अत्यंत मनभावना था.

ऊँचे ऊँचे पहाड़ और दूर दूर तक फैले घास के मैदान हमने देखा कि पहाड़ों पर बादल छाएँ हुए थे. हमने अनुभव किया कि काश हम पहाड़ पर होते तो बादलों को छू लेते. मेरा दोस्त सौरभ अपने साथ कैमरा भी ले गया था, तो उसने उस मनोहारी दृश्य को कैमरे में कैद कर लिया.

इटारसी का वर्णन तो मैंने साहित्य में भी पढ़ा था कि इटारसी भारत के स्वर्ग कश्मीर से कम नहीं हैं. अतः कश्मीर से उसकी तुलना की जाती हैं. मैंने जो कुछ साहित्य में पढ़ा था, उसे आँखों से साक्षार देखकर मन तृप्त हो गया.

ट्रेन में चलते चलते एक बुजुर्ग सज्जन ने हमें बताया कि मुंबई महाराष्ट्र की राजधानी हैं. उसकी भाषा मराठी हैं. उसमें 31 जिले हैं. मुंबई को मायानगरी भी कहते हैं. पूरा फिल्म उद्योग जगत वहीं पर हैं. महाराष्ट्र भारत का तीसरे नम्बर का सबसे बड़ा राज्य हैं. मौर्यों के पतन के पश्चात लगभग 1000 वर्ष तक महाराष्ट्र पर हिन्दू राजवंशों का शासन रहा. छत्रपति शिवाजी के उदय के बाद इतिहास में एक नये चरण में प्रवेश किया.

फिर अगली सुबह कल्याण स्टेशन आया. वहां हमनें चाय पी. मैं अपनी बर्थ पर पालथी मारके चाय पी रहा था और मेरे नये जूते मेरी सीट के नीचे रखे हुए थे. चाय पीने के पश्चात जैसे ही मैंने पाँव नीचे किये, तो देखा कि मेरे जूते गायब थे. एक आदमी बोला- क्या हुआ भैया. जूते चोरी हो गये, भीड़भाड़ में कोई ले गया होगा.

अच्छा हुआ, मैंने जूते नहीं उतारे. वैसे हमें अपने सामान पर हर समय नजर रखनी चाहिए. उसकी बात सुनकर मेरा मित्र हंस दिया. मैं बोला- ये मेरी जिन्दगी की पहली यात्रा हैं भैया. धीरे धीरे सब सीख जाऊँगा. मेरा मित्र बोला- ठीक बात है आदमी खोकर ही कुछ पाता हैं.

उसके बाद हम मुंबई वी टी स्टेशन पहुँच गये. रेलगाड़ी से उतरकर सर्वप्रथम मैंने चप्पले खरीदी. फिर हम बस द्वारा रानी बाग़ गये. वहां पर हमने मगरमच्छ, एक बहुत बड़ा उल्लू और एक तालाब में राजहंस देखे. राजहंस मैंने जीवन में पहली बार देखे थे. लाल सुर्ख चोंच और हल्की गुलाब और सफेद रंगत. वहां हमने संगमरमर से बनी रानी की प्रतिमा भी देखी और संग्रहालय में रखे कुछ प्राचीन हथियार एवं अन्य वस्तुएं भी देखी. तत्पश्चात हमने खाना खाया. फिर हम बस द्वारा चौपाटी गये.

वहां पर समुद्र भी मैंने पहली बार देखा था, जो बहुत विशाल था. किनारे से लेकर क्षितिज तक पानी ही पानी. समुद्र की लहरें, तेज हवा के साथ बार बार आ और जा रही थी. मैं कुछ अंदर तक समुद्र के पानी में गया. मैंने समुद्र का पानी चखकर देखा, जो खारा था. वहां कई लोग घूम रहे थे कुछ पैदल और कुछ बग्गी में. वहां हमने भेलपुरी भी खाई. कुछ लोग वहां बच्चों के खिलौने भी बेच रहे थे. वहां मेला सा लगा हुआ था.

तत्पश्चात हम गेटवे ऑफ़ इंडिया गये. जिसे सन 1911 में ब्रिटिश सम्राट जार्ज पंचम तथा महारानी मैरी के भारत आगमन पर विजय स्मारक के रूप में बनवाया गया था. वहां हमने पानी का जहाज भी देखा था. इसके अतिरिक्त हमने मुंबई कैसल, प्रिंस ऑफ़ वेल्स म्यूजियम, मैरीन ड्राइव, हैगिग गार्डन, विक्टोरिया गार्डन, जहाँगीर आर्ट गैलरी, जुहू बीच, हाजी अली मस्जिद, छत्रपति शिवाजी टर्मिनल, संजय गांधी नेशनल पार्क और फ्लोरा फाउटेंन भी देखा. ये सब देखने के पश्चात हम अपने घर वापिस आ गये. मुंबई की सैर करके मुझे ऐसा प्रतीत हुआ, जैसे मैंने पूरी दुनियां का भ्रमण कर लिया हो. मुंबई की सैर मुझे सदैव स्मरण रहेगी.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ फ्रेड्स यहाँ दिया गया Essay on Visit to Mumbai in Hindi का यह जानकारी आपकों पसंद आया होगा, यदि आपकों Visit to Mumbai आर्टिकल में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मिडिया पर जरुर शेयर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *