महात्मा गांधी जयंती के बारे में जानकारी | Gandhi Jayanti Information In Hindi

Gandhi Jayanti Information In Hindi: सत्य एवं अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी के जीवन से हर कोई परिचित हैं. राष्ट्रपिता कहे जाने वाले महत्मा गांधी के जन्म दिवस को सम्पूर्ण भारत गांधी जयंती के रूप में मनाता हैं. बापू ने आजीवन राष्ट्रसेवा के व्रत का पालन करते हुए भारत को आजादी दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी. गांधी जयंती को भारत के राष्ट्रीय उत्सवों की श्रेणी में रखा जाना इसके महत्व को बताता हैं. इस पुण्य दिन भारत की धरा पर एक और सपूत ने जन्म लिया था. उनका नाम लाल बहादुर शास्त्री था. वे भारत के दूसरे प्रधानमन्त्री थे, इसलिए 2 अक्टूबर को हर साल हम शास्त्री-गांधी जयंती मनाते हैं. महात्मा गांधीजी की जयंती पर कुछ जानकारी (Information On Gandhi Jayanti) को गांधी जयंती के भाषण, निबंध के रूप में बोल सकते हैं.

महात्मा गांधी जयंती के बारे में जानकारी | Gandhi Jayanti Information In Hindiमहात्मा गांधी जयंती के बारे में जानकारी | Gandhi Jayanti Information In Hindi

बापू जिनका पूरा नाम मोहनदास करमचन्द गांधी था. इन्हें राष्ट्रपिता एवं महात्मा की उपाधि से सम्मानित किया गया. उनकें सत्य एवं अहिंसा के सिद्धांतों के बल पर अंग्रेजों को भारत छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा था. स्वदेशी प्रेम, हिन्दू मुस्लिम एकता, दलित एवं स्त्रियों के हित की बात करने वाले गांधीजी आज मरकर भी हमारे दिलों में जिन्दा हैं. गांधी जयंती (Gandhi Jayanti) हमें बापू के कदमों पर चलने की प्रेरणा देती है. हमारा कर्तव्य है कि हम गांधी के सपने के भारत को मिलकर बनाएं और उन्हें श्रद्धांजली स्वरूप स्वच्छ भारत सम्रद्ध भारत की तस्वीर पेश करे.

Mahatma Gandhi Jayanti Information Speech Poem in Hindi

गाँधी जयंती कब मनाई जाती हैं ? (Gandhi Jayanti Date)

आज के समय में यह यकीन करना कठिन है कि कोई व्यक्ति कैसे बिना शस्त्र एवं हिंसा के सैकड़ों वर्षों से शासन करने वाले लोगों को सत्ता छोड़ने के लिए विवश कर सकता हैं. यह वैज्ञानिक आइन्स्टाइन ने भविष्यवाणी भी की थी कि आने वाली हमारी पीढियां यकीन नही करेगी कि ऐसा भी कोई पुरुष हुआ था.

200 वर्षों की दासता से भारत को आजादी दिलाने में महात्मा गांधी की राजनैतिक सोच का महत्वपूर्ण स्थान थे. अब तक भारत की आजादी के लिए व्यापक संघर्ष व हड़ताले हो चुकी थी. 1857 की क्रांति के बावजूद अंग्रेजी सत्ता की जड़े नही हिली थी. मगर बापू ने इसे सशस्त्र क्रांतिकारी आन्दोलन को जन आन्दोलन का रूप दिया जिसमें विद्यार्थी, मजदूर, सरकारी कर्मचारी, महिलाएं व सभी वर्गों के लोग सम्मिलित थे.

महात्मा गांधी का जीवन परिचय

गांधीजी ने भारतीयों को एकता के सूत्र में बांधकर राष्ट्रव्यापी आन्दोलन चलाए और अंग्रेजों को उनके हार माननी पड़ी थी. ऐसे महान पुरुष का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था. उन्होंने इंग्लैंड से वकालत की डिग्री की तथा व्यवसाय के सिलसिले में उन्हें दक्षिण अफ्रीका जाना पड़ा. इसी दौरे ने उन्हें सामान्य जन से एक जुझारू व्यक्तित्व वाला इन्सान बना दिया था.

जब वे अफ्रीका में रंगभेद की निति के विरुद्ध किये गये आन्दोलन में सफलता के बाद भारत लौटे तथा यहाँ के किसानो ने उन्हें अपने प्रतिनिधि के रूप में चुना. धीरे धीरे उनकी लोकप्रियता देशभर में फैलती गई एक 1918 आते आते महात्मा गांधी राष्ट्रीय नेता के तौर पर जाने जाने लगे.

राष्ट्रीय आन्दोलन एवं भारत को स्वतंत्रता

उन्होंने कई बड़े आंदोलनों का नेतृत्व किया, जिनमें 1942 का भारत छोड़ो आन्दोलन सबसे प्रभावी एवं सफल आन्दोलन था. इसी आन्दोलन के दौरान उन्होंने करो या मरो और अंग्रेजो भारत छोड़ो के नारे दिए थे.

महात्मा गांधी के अथक प्रयासों के परिणामस्वरूप 15 अगस्त 1947 को भारत आजाद हो गया. आजादी के समय ही पाकिस्तान की मांग को उन्होंने अंत तक स्वीकार नही किया था. मगर देश में बढ़ रही साम्प्रदायिक हिंसा के चलते उन्हें यह मंजूर करना पड़ा था. आज भी भारत की जनता गांधी एवं नेहरु को भारत के विभाजन की जिम्मेदार मानती हैं.

गांधीजी एक स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ साथ समाज सुधारक भी थे. उन्होंने दलितों एवं स्त्रियों के उत्थान के लिए कई कार्यक्रम भी चलाएं. उन्होंने स्वच्छता को स्वतंत्रता से अधिक महत्व दिया था. वे स्वच्छ भारत का सपना पूरा करना चाहते थे. आखिर अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर को गांधी जयंती पर शुरू किए गये स्वच्छ भारत अभियान के जरिये, गांधीजी के सपनों के भारत को बनाने की दिशा में कदम बढाया हैं.

उम्मीद करता हूँ “महात्मा गांधी जयंती के बारे में जानकारी ” का यह लेख आपकों अच्छा लगा होगायदि आपकों हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज Gandhi Jayanti Information In Hindi इस लेख को सोशल मिडिया पर जरुर शेयर करे.

प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *