घर परिवार में सुख शांति प्राप्ति के उपाय Ghar Me Sukh Shanti Ke Upay In Hindi

Ghar Me Sukh Shanti Ke Upay In Hindi : हमारी संस्कृति में घर को स्वर्ग और मंदिर के तुल्य माना जाता है. वह घर ही होता हैं जहाँ हम बालक बनकर जन्म लेते है पलते बढ़ते है तथा जीवन भर अपने घर के वातावरण हमारे चरित्र में झलकता हैं. यदि घर का वातावरण अच्छा हो तो तो व्यक्ति का समाजीकरण बहुत अच्छे ढंग से होता है जबकि यदि घर में गृह क्लेश और शांति के अभाव में सुख शांति का सवाल तो होता ही नहीं इससे न केवल सभी सदस्यों को इनका नुकसान झेलना पड़ता बल्कि इसका सबसे बुरा असर बच्चों पर पड़ता हैं.

Ghar Me Sukh Shanti Ke Upay In Hindi

Ghar Me Sukh Shanti Ke Upay In Hindi

vastu tips for home in hindi: हर व्यक्ति चाहता है कि उनके घर में शांति का वास हो, परिवार के सभी सदस्य प्रेम और भाईचारे के साथ रहे, वैवाहिक जीवन अच्छा हो मगर कई बार इनको बुरी नजर भी लग जाती हैं. और आए दिन पति पत्नी या भाई भाई में झगड़े होने लगते हैं. इससे दशकों से साथ रहने वाले अलग हो जाते है या एक दूजे के खून के प्यासे बन जाते हैं.

चाणक्य ने भी वास्तु दोष और गृह शान्ति के सम्बन्ध में कुछ उपाय बताये थे. हमारे यहाँ ज्योतिष शास्त्र में विश्वास करने वाले नकारात्मक और सकारात्मक ऊर्जा से अवश्य परिचित होंगे. हर घर में ऐसा माना जाता है टूटे फूटे बर्तन, दरवाजे, खिड़की, घड़ी तथा दर्पण कभी भी घर में नही रखना चाहिए, ये घर की शांति के सबसे बड़े दुश्मन माने जाते हैं. इनके अलावा यहाँ हम आपकों घर में नकारात्मक ऊर्जा दूर करने और सुख शांति प्राप्ति के उपाय बता रहे हैं.

ghar ki shanti ke upay in hindi

एक पेड़ तभी तक खड़ा रह सकता है जब उसके सभी भाग किसी कठोर भूमिका में बंधे हो. परिवार में हमेशा बडो की बात को तवज्जु देनी चाहिए. आज की पीढ़ी वृद्ध माता पिता या दादा दादी की सलाह अपनी स्वतंत्रता या जिन्दगी में खलल मानकर उनसे दूर चले जाते हैं. जिसके कारण वे उनके आशीर्वाद और उनके अनुभव को नही पा सकते हैं तथा छोटी मोटी बात पर अनबन हो जाने से कोई समझाने वाला नहीं होने से परिवार टूट जाते हैं.

घर का आशय यह नहीं कि कमाने वाले योग्य व्यक्ति के सभी गुलाम रहे या उनकी ही बात को माने. कई बार युवक अपने अहं में इतने अंधे हो जाते हैं कि छोटे से प्यार व बडो से आदर आदि समस्त नैतिक मूल्यों को ताक पर रख देते हैं. झुंझलाहट में लिए गये फैसले भी अशांति के कारण बनते हैं. अतः सभी के साथ मिलकर रहे, छोटे व बड़ो की बात का आदर करे.

यदि आपको लगता है कि परिवार का कोई सदस्य कुछ गलत करने जा रहा है तो उसे डांटने की बजाय प्रेम से समझाए तथा ऐसा न करने को कहे. साथ ही यदि आप कोई वस्तु खरीद रहे है तो सभी के लिए लाए अन्यथा परिवार के सबसे छोटों के लिए लाए यदि आप पक्षपात करते है तो परिवार में इर्ष्या और जलन का जन्म होता है जो शांति की दुश्मन होती हैं.

अपने जीवन में बडो की इज्जत एवं पारिवारिक संस्कारों को जीवन मूल्य बनाए, क्योंकि आप और आपका परिवार तभी इज्जत पाएगा जब आप और की इज्जत करेगे, अपने पड़ोसियों तथा रिश्तेदारों के साथ अच्छे सम्बन्ध रखे.क्योकि पड़ोसी को परमेश्वर का रूप माना गया हैं जो हमारे सुख दुःख के सच्चे साथी होते हैं.

आशा करते हैं दोस्तों यहाँ दिए गये Ghar Me Sukh Shanti Ke Upay आपकों पसंद आए होंगे. यदि आप इन टिप्स का उपयोग करेगे तो निश्चय ही आपको फायदा मिलेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *