Gst Full Form And Meaning In Hindi | जीएसटी का अर्थ

Gst Full Form-जिन्हें हिंदी में गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GOOD AND SERVICE TAX) और वस्तु एंव सेवा कर के नाम से भी जाना जाता हैं| आपकों बता दे जीएसटी बिल 1 जुलाई से पुरे भारत में लागू होने जा रहा हैं|

मोदी सरकार के कार्यकाल में यह दूसरा सबसे बड़ा आर्थिक सुधार हैं| भला कोन भूल सकता हैं नोटबंदी को |

इसके अतिरिक्त कई वर्षो से लंबित और विचाराधीन पड़े जीएसटी बिल के लागू होने की शुभ घड़ी आ चुकी हैं| “एक राष्ट्र एक कर” की अवधारणा पर आधारित यह एक नई कर प्रणाली हैं|

जो देश के मध्यम छोटे और बड़े व्यापरियों के अतिरिक्त निम्न तबके के लोगों के लिए वरदान साबित हो सकती हैं|

व्यापारियों को एक तरफ इस नई कर पद्दति से विभिन्न प्रकार के टैक्स चुकाने से राहत मिलेगी तो अपनी मुलभुत आवश्यकताओ की पूर्ति करने के लिए सघर्ष कर रहे निम्न वर्ग को खाने-पीने से लेकर प्राथमिक आवश्यकता जिनमे रोटी कपड़ा दवाई की कीमतों में भी गिरावट आएगी|

जीएसटी अधिनियम, 2017 में केंद्र सरकार ने सभी उत्पादों को चार श्रेणियों में बाटा हैं,

जो इस प्रकार हैं| 5%, 12%, 18% और 28% आवश्यक वस्तुओ को 5 फीसदी जीएसटी टैक्स या जीएसटी फ्री के दायरे में रखा हैं|

जबकि वे वस्तुए जो वाणिज्यिक और महंगी एंव श्रंगार और धातु से जुडी वस्तुओ पर अधिक कर लगाया गया हैं|

आर्थिक विश्लेशको की माने तो आजदी के बाद हमारे देश का यह सबसे बड़ा आर्थिक सुधार हैं|

जो महंगाई को कुछ हद तक नियंत्रित करने और अर्थव्यस्था को मजबूत करने की दिशा में अहम कदम हैं|

प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी के मेक इन इंडिया को जीएसटी से एक नयी दिशा मिलने वाली हैं|

इससे न केवल भारतीय उद्योगपति अपने व्यापार को उन्नत करेगे|

बल्कि विदेशी निवेश को बढाने में भी जीएसटी सहायक होगी|

आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेगे जम्मू कश्मीर राज्य को छोड़कर देश के अन्य 28 राज्यों और सात केन्द्रशासित प्रदेशो में इस व्यवस्था को अपना लिया हैं|

जिससे अब आपकों किसी उत्पाद पर सर्विस टैक्स, सेल्स टैक्स, वैट, एक्साइज ड्यूटी जैसे इनडायरेक्ट टैक्स चुकाने से राहत मिल जाएगी|

भारत के अतिरिक्त 150 ऐसे देश हैं जो जीएसटी कर प्रणाली को अपना चुके हैं|

भले ही यह एक नया प्रयोग ना हो मगर हमारे देश में यह एक नई व्यवस्था अवश्य हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *