गुड़ी पड़वा की सम्पूर्ण जानकारी | Gudi Padwa Information In Hindi

Gudi Padwa Information In Hindi : आप सभी को Gudi Padwa 2019 की हार्दिक शुभकामनाएं, उगादी & गुड़ी पड़वा की सम्पूर्ण जानकारी में आपकों gudi padwa in hindi के रूप में पर्व की जानकारी /Information, निबंध /Essay यहाँ साझा कर रहे हैं. हिन्दू नववर्ष अर्थात चैत्र शुक्ल प्रतिप्रदा को मराठी त्योहार गुड़ी पड़वा मनाया जाता हैं. गुड़ी पड़वा का इतिहास तथ्य जानकारी अर्थ 2019 में डेट 6 अप्रैल के बारे में यहाँ जानकारी शेयर कर रहे हैं.

गुड़ी पड़वा की सम्पूर्ण जानकारी Gudi Padwa Information In Hindi

गुड़ी पड़वा की सम्पूर्ण जानकारी Gudi Padwa Information In Hindi

Gudi Padwa Information Bataye, Gudi Padwa Information In Marathi Hindi Wikipedia Fact Dates History Hindi Essay Speech, गुड़ी पड़वा कब है क्यों और कैसे मनाते हैं इतिहास 2019.

गुड़ी पड़वा का अर्थ व महत्वपूर्ण जानकारी

हिन्दू नव संवत्सरारम्भ & गुड़ी पड़वा महत्वपूर्ण हिन्दू त्योहार हैं. गुड़ी’ का अर्थ ‘विजय पताका’ होता है जो चैत्र प्रतिपदा के दिन मनाया जाता हैं इसे उगादि (युगादि) भी कहा जाता हैं. माना जाता हैं कि इस दिन शालिवाहन नामक एक कुम्हार-पुत्र ने मिट्टी के सैनिकों की सेना से प्रभावी शत्रुओं को पराजित किया था.

आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में ‘उगादि‘ और महाराष्ट्र में यह पर्व ‘ग़ुड़ी पड़वा’ का त्योहार मनाया जाता हैं.इसी दिन से हिन्दू नववर्ष माना जाता हैं ब्रह्माजी ने इसी दिन सृष्टि का निर्माण भी किया था. इसी मान्यता के चलते देश भर में इसे अलग अलग तरीके से उत्सव के रूप में मनाया जाता हैं. इस दिन लोग गुड़ी का पूजन कर घर के दरवाजे पर आम के पत्तों से बन्दनवार सजाया जाता हैं.

इस बन्दनवार को लगाने के पीछे यह मान्यता हैं कि ऐसा करने से घर में खुशियों का वास होता हैं. इस दिन मीठे पकवान खीर पुरिया तथा घी के व्यंजन बनाए जाते हैं. आंध्रा में इस दिन प्रसाद के रूप में पच्चड़ी घर घर बांटी जाती हैं. कुछ स्थानों पर लोग सवेरे उठकर नीम की कोपल खाकर फिर गुड़ खाते हैं मान्यता के अनुसार ऐसा करने से जीवन की कड़वाहट मिठास में बदल जाती हैं.

Gudi Padwa Information In Hindi

महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा के अवसर पर गुड़, नमक, नीम के फूल, इमली और कच्चा आम को मिलाकर मीठी रोटी बनाई जाती हैं तथा नीम के फूल कड़वाहट मिटाने गुड़ खाया जाता हैं. इमली व आम जीवन के खट्टे-मीठे स्वाद चखने का प्रतीक माने गये हैं.

भारत के इतिहास में गुड़ी पड़वा का अनूठा सम्बन्ध हैं. इस दिन सारे महत्वपूर्ण कार्य हुए जिनमें- ब्रह्माजी ने इस दिन ही सृष्टि की रचना की, भगवान् श्रीराम का राज्याभिषेक भी इसी दिन को हुआ था. चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से माँ दुर्गा के नवरात्र की शुरुआत होती हैं. युधिष्‍ठिर संवत्, शालिवाहन शक संवत् तथा विक्रम संवत की शुरुआत गुड़ी पड़वा के दिन से हुई थी. केशव बलिराम हेडगेवार का जन्म भी इसी दिन हुआ था जिन्होंने आरएसएस की स्थापना की इसके अतिरिक्त संत झूलेलाल का प्रकट दिवस तथा आर्य समाज की स्थापना भी चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को हुई थी.

उगादी या गुडी पडवा त्यौहार 2019 में कब है? (Ugadi or Gudi Padwa festival 2019 date)

गुड़ी पड़वा का उत्सव हर साल मार्च या अप्रैल महीने में पड़ता हैं, वर्ष 2019 में यह त्योहार 6 अप्रैल को भारत भर में मनाया जाएगा. चैत्र माह की शुक्ल प्रतिपदा को मनाया जाता हैं, बसंत ऋतु के आगमन पर्व के रूप में यह हर्ष का उत्सव मनाया जाता हैं. आप सभी को उगादी & गुड़ी पड़वा त्योहार 2019 की हार्दिक शुभकामनाएं देते हैं.

सूर्य संवेदना पुष्पे:, दीप्ति कारुण्यगंधने|
लब्ध्वा शुभम् नववर्षेअस्मिन् कुर्यात्सर्वस्य मंगलम्.|

जिस तरह सूर्य रौशनी देता हैं पुष्प सुगंध देता हैं उसी तरह आप अपने ह्रदय में दया करुणा के भाव को बसाएं रखे हिन्दू नववर्ष 2019 आपके और आपके परिवार के लिए मंगलमय हो, हम ईश्वर से यही प्रार्थना करते हैं.

Gudi Padwa Information In Marathi

छत्र महिन्याच्या शुक्ला प्रतिपदावर गुढी पाडवाचा उत्सव साजरा केला जातो. याला प्रतिपाडा किंवा युगाडी असेही म्हणतात. असे मानले जाते की गौरी पाडवा म्हणजे प्रतिपदाच्या दिवशी ब्रह्मा जीने जगाची निर्मिती केली होती. म्हणूनच हा दिवस नवीन संस्कृत म्हणजेच नवीन वर्ष म्हणून साजरा केला जातो.

गुढी पाडवा हिंदू धर्माचा सर्वात मोठा उत्सव आहे; या दिवशी हिंदू नववर्ष सुरू होते. चैत्र नवरात्रि हा दिवस साजरा करतात. भक्त भगवान गणेश दुर्गाचे नवरात्रि करतो. या प्रसंगी मदर दुर्गा उपवास करत राहतात आणि भेटवस्तू एकमेकांना वाटतात.

या दिवशी काय झाले ते पहा:

* ब्रह्माच्या निर्मितीची निर्मिती.
* लीमा पुरूषोत्तम भगवान रामचंद्र यांचा सन्मान.
* महाराज युधिष्ठिरचा राजपदही.
* महाराजा विक्रमादित्य यांनीही शंका (विक्रम संवत क्रिया) वर विजय जिंकला.
* दुर्गा दुर्गाच्या उपासनेच्या नवरात्र उपवासची सुरुवात.
* महर्षि दयानंद यांनी आर्य समाजाची स्थापना
* केशव बलिराम हेडगेवार यांचा जन्मदिवस, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाचे संस्थापक

यह भी पढ़े-

आशा करता हूँ दोस्तों आपकों Gudi Padwa Information In Hindi में दी गई जानकारी पसंद आई होगी. गुड़ी पड़वा की सम्पूर्ण जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *