Guru Purnima 2019 Kab Hai July Date Story Guru Importance In India In Hindi

Hello Friends, You Want To Know That When Is Or Kab Hai Guru Purnima 2019. Then Guru Purnima 2019 Kab Hai- गुरु पूर्णिमा कब है 2019 जुलाई में डेट तिथि समय वार भारत में गुरु पूर्णिमा की तिथि कब हैं, इसका महत्व क्यों मनाते है आदि जानकारी इस लेख में दी हैं.

Guru Purnima 2019 Kab Hai July Date Story Guru Importance In India In Hindi

Guru Purnima 2019 Kab Hai July Date Story Guru Importance In India In Hindi

Guru Purnima Kab Hai 2019 : हर इंसान के जीवन में सफल और असफल होने का कारण उनका गुरु ही होता हैं. गुरु का जीवन में बड़ा महत्व है, गुरु की शिक्षाओं पर चलकर व्यक्ति जीवन में सब कुछ पा सकता है. वही अज्ञानी, दुराचारी गुरु के पथ पर चलकर व्यक्ति अपना जीवन अंधकारमय भी बना सकता हैं. भारत ऋषि मुनियों तथा  गुरुओं का देश रहा हैं यहाँ वेदव्यास, द्रोणाचार्य तथा चाणक्य जैसे गुरुओं ने जन्म लिया हैं. गुरु के सम्मान में गुरु पूर्णिमा  का पर्व मनाया जाता हैं. आषाढ़ माह  की शुक्ल पक्ष का पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा कहा जाता हैं. गुरु पूर्णिमा 2019 कब हैं, गुरु पूर्णिमा स्टोरी, गुरु पूर्णिमा इम्पोर्टेंस के बारे में जानकारी इस आर्टिकल में दी गई हैं.

कब हैं गुरु पूर्णिमा २०१८ डेट (2019 Kab Hai Guru Purnima July Date)

इस साल 16 जुलाई, शुक्रवार के दिन गुरु पूर्णिमा का दिवस भारत में मनाया जाएगा. बौद्ध धर्म में इस दिन को बुद्ध पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता हैं, हिन्दू धर्म के आदि गुरु व महाभारत के रचियता श्री वेद व्यास जी की जयंती भी इसी दिन हैं. इस कारण इसे व्यास पूर्णिमा के रूप में भी मनाया जाता हैं.

गुरु का पद आपके माता-पिता, शिक्षक या आदर्श पुरुष कोई भी ले सकता हैं. गुरु मनुष्य को इस जीवन में अज्ञान रूपी अन्धकार को मिटाने के लिए ज्ञान का दीपक जलाकर उनके जीवन को रोशन करता हैं. न सिर्फ इस लोक में उनके जीवन को सफल बनाता हैं, बल्कि परलोक में मोक्ष प्राप्ति की राह भी गुरु ही निर्दिष्ट करता हैं.

Guru Purnima 2019 Importance In Hindi

भारत में गुरु परम्परा का इतिहास बहुत पुराना हैं, आदि शंकराचार्य , श्री रामानुजा आचार्य और श्री माधवचार्य  जैसे  आदि  गुरु इस धर्म में हुए है, जिन्होंने लोगों को सही राह दिखाकर उनके जीवन को सफल बनाया हैं. गौतम बुद्ध को भारत के महान गुरुओं ने गुरु पूर्णिमा के दिन ही उत्तरप्रदेश के सारनाथ में अपना पहला उपदेश दिया था.

गुरु पूर्णिमा के दिन अपने अपने गुरु की पूजा का विधान हैं. अतीत काल में आज की तरह पढ़ने के लिए  विद्यालय  नही  हुआ करते थे, तब छात्र पढ़ने के लिए गुरुकुलों में भेजे जाते थे. एक निश्चित अवधि तक शिक्षा प्राप्त करने के बाद आषाढ़ पूर्णिमा को वें अपने गुरु को सामर्थ्य के अनुसार दक्षिणा देकर विदा होते थे.

Story Of guru purnima 2019 in hindi

गुरुदेव को हमेशा श्रद्धेय माना जाता हैं, मगर आषाढ़ पूर्णिमा के दिन उनकी विशेष रूप से पूजा करनी चाहिए. आपके गुरु का क्षेत्र जो भी चाहे वो शिक्षा से जुड़े हो, खेल जगत, धार्मिक जगत अथवा डिजिटल युग के किसी अन्य प्रभाग में. आज के दिन आपके उनके चरण छूकर पूजन कर आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए.

गुरु को परब्रह्म परमात्मा’ और ‘परब्रह्म ज्ञान का रूप माना जाता हैं. महाभारत के रचियता वेद व्यास जी जिनके जन्म दिवस पर गुरु पूर्णिमा मनाई जाती हैं. उनका मूल नाम कृष्ण द्वैपायन था. इन्होने न केवल कौरव पांडव युद्ध का वृतांत लिखा, बल्कि हिन्दू धर्म के 6 शास्त्रों तथा 18 पुराणों की रचना की, जिसके कारण आज हम उन्हें आदि गुरु का सम्मान देते हैं.

गुरु पूर्णिमा 2019 की पूजा विधि

इस दिन जो भी भाई-बहिन अपने गुरु जो कोई भी हो सकता हैं. अपने माता-पिता, बड़े भाई, बहिन, शिक्षक अथवा अन्य व्यक्ति. गुरु पूर्णिमा 2019 के दिन सवेरे जल्दी उठकर साफ़ कपड़े पहनकर नहा धोकर अपने गुरु देव के यहाँ जाए, उनके चरण स्पर्श कर उनका विधिवत् पूजन करे.

गुरुपरंपरासिद्धयर्थं व्यासपूजां करिष्ये. इस गुरु पूर्णिमा मंत्र का जाप करते करते हुए गुरु के वस्त्र, फल फूल तथा दक्षिणा अपने गुरूजी को भेट करे, तथा चलने से पूर्व उनका आशीर्वाद जरुर ले. वे व्यक्ति जो दुर देश में बैठे हैं. अपने गुरु के इस महान दिन को बिलकुल नही भूले. कम से कम इस दिन अपने गुरु को कॉल कर संदेश भेजकर उनका हाल चाल जरुर जाने तथा गुरु पूर्णिमा 2019 बधाई संदेश जरुर प्रेषित करे.

Guru Purnima 2019 Me Kab Hai # 2019 Me Guru Purnima Kab Hai # Guru Purnima July Me Kab Hai

friends Guru Purnima 2019 Kab Hai me di janakari acchi lagi ho to please share kare.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *