तनाव कैसे दूर करे आसन टिप्स | How To Remove Stress

How To Remove Stress अधिक व्यस्त जिन्दगी में तनाव (Stress) की स्थति स्वाभाविक है. बहुत से लोग तनाव कैसे दूर करे की युक्तियों की खोज करते है. मगर क्या आप जानते है, तनाव फायदेमंद भी होता है. किन्तु एक सीमा तक. अधिक चिंतित या तनाव में रहने के कारण डिप्रेशन, मानसिक रोग और इससे बढ़कर आत्महत्या जैसे जधन्य अपराधों की तरफ लोगों की प्रवृति बढ़ जाती है.

तनाव कैसे दूर करे आसन टिप्स | How To Remove Stress

तनाव जिसे प्रेशर भी कहा जाता है. अमूमन लोग इसके नेगेटिव रूप को ही देखते है. मगर सच्चाई यह भी है कि कुछ सफल इंसान जिन्होंने अपने जीवन में कुछ अभूतपूर्व कर दिखाया है उनके अनुसार तनाव एक सीमा तक अच्छी चीज है. और व्यक्ति के सपने को पूरा करने में इसकी आवश्यकता होती है.

एक फुटबालर जिनका नाम नेमार है वो तनाव यानि प्रेशर के बारे में अपनी राय रखते हुए कहते है. कि तनाव ही वो चीज या दवाब है जिसके कारण मेरा प्रदर्शन सुधरता है. अथवा इसकी उपस्थिति में ही मै अच्छा प्रदर्शन कर पाता हु. दूसरा उदाहरण आप लोगों से छिपा नही है. नाम है विराट कोहली, अमूमन सभी लोग इस शख्सियत को जानते होंगे. कोहली का मानना है कि तनाव के कारण ही मेरा खेल निखरता है. इसका उदाहरण हम कई बड़े अंतर्राष्ट्रीय मैचों में विराट के प्रदर्शन को देखकर अंदाजा लगा सकते है.

तनाव से मुक्ति के उपाय क्या जरुरी है (What is the necessity of relieving stress?)

अब सवाल यह उठता है. हमारे लिए तनाव जरुरी है या नही. अगर जरुरी है तो कितना और किस प्रकार का प्रेशर किसी हद तक ठीक कहा जा सकता है. यदि साइक्लोजी की माने तो व्यक्ति के जीवन में सफलता, अच्छे ढंग से काम करने के लिए प्रेशर (तनाव) का होना जरुरी है.

मगर दूसरी तरफ इस सत्य को भी नकारा नही जा सकता कि अति अंत की जड़ है. यदि किसी चीज की मात्रा एक सीमा से अधिक हो तो इसके नकारात्मक परिणाम सामने आने लगते है. यह तनाव पर भी लागू होता है. तनाव की अधिकता के चलते हमारे जीवन में ख़ुशी का अंत और चिंता घर कर जाती है.

जीवन में तनाव क्यों जरुरी है. (Why stress is essential in life.)

उदाहरण के जरिये समझने की कोशिश की जाए तो मान के चलिए चार महीने के बाद मुझे आईएएस का मैंन पेपर देना है. अब इस परीक्षा को लेकर मुझ पर तनाव का आना स्वाभाविक है. तनाव के कारण में ऐशो आराम और सारे कामों को छोड़ कर पढाई शुरू कर देता हु. मगर यदि मै विवेक के साथ सही समय सारणी के अनुसार अपनी सेहत का ख्याल रखते हुए पढाई करता हु तो यही परीक्षा का तनाव मेरे लिए फायदेमंद साबित होगा.

दूसरी तरफ सिर्फ पढ़ाई और पढ़ाई खाने पीने या किसी अन्य चीज पर ध्यान नही देता हु तो इस प्रेशर के कारण मेरी मनोस्थति पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ सकता है. इस अत्यधिक तनाव के चलते यह भी संभव है मै परीक्षा में रोल नंबर ही गलत लिख आऊ.

चलिए जानते है तनाव के फायदों (Benefits of stress) के बारे में.

  • हमारे ध्यान को लक्ष्य की तरफ फोकस करने में मदद करता है.
  • इससे हमारे प्रयासों को पूर्णता मिलती है, तेजी आती है.
  • साथ की कार्य की गुणवत्ता व शुद्धता में वृद्धि होती है.
  • और अच्छा करने की प्रेरणा जाग्रत होती है.
  • लक्ष्य को प्राप्त करने की सम्भावना कई गुना तक बढ़ जाती है.
  • हमारी लक्ष्य की दिशा में विकास प्रक्रिया जारी रहती है.

तनाव कैसे दूर करे (How To Remove Stress)

तनाव कुछ कार्यो में हमारे लिए लाभदायक है लेकिन अधिकतर मामलों में अधिक मात्रा में तनाव एकस्वस्थ व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक होता है. आप इन आसन तरीकों को अपनी जीवनशैली में अपना कर तनाव को दूर कर सकते है.

  • उत्साहित रहे-हर कार्य में अपना उत्साह बरकरार रखे. रोजाना किसी भी कार्य को करने पर उसे सर्वश्रेष्ट तरीके से करने का भाव रखे तथा स्वयं की सोच में सकारात्मक नजरिया रखा जाए तो कुछ हद तक उत्साहित रहा जा सकता है. इसके अतिरिक्त रोजाना कम से कम एक घंटा व्यायाम के लिए जरुर निकाले, क्युकि स्वस्थ तन में ही स्वस्थ मन निवास करता है.
  • समय पर नीद ले-कई बार देर रात तक नही सोने से भी पूरा दिन तनावग्रस्त रहता है. एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए कम से कम 6 घंटे तक सोना जरुरी हो जाता है. पर्याप्त नीद व आराम मिलने से हमारा शरीर व मन दोनों स्वस्थ रहते है. समय पर नीद लेने से व्यक्ति की कार्यक्षमता तो बढ़ती ही है साथ ही तनाव में भी कमी लाने में मदद मिलती है.\
  • कार्यो का लेखा जोखा रखे- सक्षिप्त में कहे तो डायरी लिखना. कई बार ऐसा होता है व्यक्ति दिन भर कार्य में उलझा रहने के कारण उन्हे पता ही नही चलता है. वह कहाँ पर है. उसे क्या करना चाहिए कब करना चाहिए. पूरा दिन और उसकी दिनचर्या उलझन के बिच ही गुजरती है. जो तनाव को बढ़ाने में सहायक है. इसलिए डायरी लिखने से वास्तविक कार्यो और मन स्थति की जानकारी प्राप्त होती है.
  • परनिन्दा से बचे-कुछ लोग यह जानते हुए भी कि दूसरे की निंदा करने से कुछ भी हासिल नही होने वाला है. न ही सामने वाले पर इसका कोई प्रभाव पड़ता है. निंदा करना सबसे बुरी आदत समझी जाती है. व्यक्ति अकसर दूसरों की कमिया देखते देखते खुद की स्थति का आकलन करना भूल ही जाता है. अचानक जब कभी उन्हें स्वयं के स्तर का पता चलता है तो कार्य की अधिकता के चलते उनमे तनाव (प्रेशर) की अधिकता हो जाती है.
  • अपने मित्रों के साथ अच्छा व्यवहार करे. अच्छे लोगों के साथ दोस्ती रखना, तनाव को कम करने या समाप्त करने में सबसे अधिक मददगार हो सकता है. अकसर व्यक्ति मुश्किलों में पड़ने के कारण ही प्रेशर में रहता है. इसलिए अच्छे मित्र रखे जो किसी विकट स्थति में आपकी मदद कर सके.

दोस्तों उम्मीद करते है. “तनाव कैसे दूर करे आसन टिप्स | How To Remove Stress ” का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. यदि आपकों How To Remove Stress के लेख से जुड़ा कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट कर अपनी राय हमारे साथ जरुर शेयर करे. हाय हिंदी डॉट कॉम के लेख आपकों पसंद आते हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *