भाषण देने का तरीका हिंदी में | How to start a speech in Hindi

भाषण देने का तरीका हिंदी में  How to start a speech in Hindi: कम बोलना और अधिक सुनना अच्छा माना जाता है मगर हर इन्सान में वक्ता के गुण होने चाहिए ताकि वह अपनी बात औरों को कह सके. बहुत से लोग आपने जीवन में देखे होंगे जिसके पास बोलने की अद्भुत क्षमता होती है तथा वे किसी विषय पर एक बार बोलने की शुरुआत करते है तो फिर रूकने का नाम ही नहीं लेते हैं. भाषण देने का तरीका हिंदी में | How to start a speech in Hindi

भाषण देने का तरीका हिंदी में | How to start a speech in Hindi

how to start a speech in hindi in school: एक व्यक्ति के साथ संवाद करना ही एक भाषण का रूप है मगर एक बड़ी भीड़ को सबोधित करना थोड़ा कठिन भी हैं. जिसने कभी स्कूल या कॉलेज में कोई भाषण नहीं दिया है  तो पहली बार यह  उनके लिए काफी कठिन हो  जाता हैं. भाषण देने का सही तरीका क्या है आपकों संक्षिप्त में यहाँ बता रहे हैं.

अच्छे भाषण की शुरुआत और सम्बोधन (how to give speech in hindi)

भाषण की शुरुआत सम्बोधन के साथ की जाती हैं. नमस्कार Namaskaar के पश्चात हिन्दी में माननीय अतिथि महोदय सभा में उपस्थित सभी सदस्यों का हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन के साथ की जाती हैं.  अंग्रेजी में  Welcome the  chief guest other guests and the audience इस वाक्य को speech introduction के रूप में प्रयोग किया जा सकता हैं.

स्कूल के किसी कार्यक्रम में सम्बोधन के दौरान इन पक्तियों को भी कह सकते हैं.

जैसे – परम् आदरणीय अध्यक्ष, हम सभी के चहेते व समाज के लोकप्रिय माननीय मुख्य अतिथि जी, कार्यक्रम को विशिष्टता प्रदान कर रहे विशिष्ट अथिति जी व इस कार्यक्रम के महत्वपूर्ण अंग हमारे दर्शक गण


भाषण के संबोधन के साथ ही वक्ता को भाषण के विषय पर आना चाहिए, सर्वप्रथम आयोजकों द्वारा उक्त विषय पर बोलने के लिए अवसर देने के लिए धन्यवाद ज्ञापित करना अथवा आज मैं इस विषय पर भाषण देने जा रहा हूँ. स्कूल कॉलेज के भाषण के मुख्य भाग की शुरुआत से इस उदहारण से की जा सकती हैं.

आज आपके समक्ष अमुक विषय पर ( topic …..) अपने विचार व्यक्त करने के लिए यहां उपस्थित हुआ हूं

अंग्रेजी में इसे “Before starting the Speech say some couplets two or three lines on the topic of  speech ,in Hindi. Have full confidence and smile on your face when you go to the stage.”

इसके बाद भाषण की शुरुआत कर देनी चाहिए. भाषण की समाप्ति पर आप सब का धन्यवाद करता हूं के साथ ही वक्ता अपने स्थान को ग्रहण करने के लिए चला जाता हैं.

भाषण देते वक्त सावधानियाँ व टिप्स (start a speech in School In hindi)

  • भाषण देते हुए मुख्य विचार और लक्ष्य बेहद स्पष्ट होने चाहिए-भाषण देने से पहले दिमाग में तीन बातें स्पष्ट होनी चाहिए. मुख्य विचार, ऑडियश और लक्ष्य. शुरुआत अपने विचार पर फोकस करके की जा सकती है. तय करे कि आपको सुनने वाले कौन होंगे और इसी के अनुसार अपनी स्पीच लिखे. अगर कोई छोटे मंच पर बोलने जा रहे है, तो वाक्य व्यक्तिगत रखे जा सकते हैं.किसी कांफ्रेंस में प्रोफेशनल के बीच है तो तकनीकी भाषा का उपयोग किया जा सकता है. ये ध्यान रखना जरुरी है कि आपका लक्ष्य सभी को पता चल जाए. हो सकता है आप यह भी चाहे कि श्रोता आपकी कही बात को अन्य लोगों तक पहुचाएं.
  • साथ काम करते हुए एक दूसरे से बहुत कुछ सीख सकते हैं.- कर्मचारियों से एक दूसरे से सीखना भी विकास का एक जरिया है. शोध बताते है कि जब लोगों को कोई कौशल सीखना होता है तो वे अक्सर अपने सहकर्मियों की मदद लेते हैं. संस्थान में इस तरह से सीखना प्रोत्साहित किया जा सकता हैं. इसके लिए एक औपचारिक कार्यक्रम रखा जा सकता हैं. व फेसिलिलेटर को अपोइन्ट कर शुरुआत की जा सकती हैं. यहाँ लोगों को अपने विचार तजुर्बे और सवाल रखते हुए सुरक्षित करवाना जरुरी हैं. सेशन के दौरान सुनिश्चित करे कि जो भी सीखे, वह असल परिस्थतियों पर आधारित हो. जिससे प्रतिभागी अपने सीखे गये कौशल को तुरंत परख सके.
  • एक अच्छा वक्ता बनने के लिए आपका उठना, आपकी चाल और हावभाव भी काफी मायने रखता है. सहज होकर अपने स्थान से मंच तक पहुचे. क्योंकि जब वक्ता का नाम पुकारा जाता है तभी से ही श्रोतागण आपकी ओर अपना ध्यान आकर्षित कर लेते है तथा देखने लगते, इसलिए बनावटी चाल बनाने की बजाय अपने व्यवहारिक ढंग से संबोधन देने की तरफ बढ़े.
  • भाषण का संबोधन मुख्य रूप से मंच पर विराजमान अतिथिगण तथा श्रोताओं को ध्यान में रखकर तैयार किया जाता हैं. इसके लिए अतिथिगण, सभा मंडल में विराजमान बन्धुओं, भाइयो बहिनों, विद्यार्थियों, सहपाठियों, सहकर्मियों आदि शब्दों का चयन किया जा सकता हैं.
  • भाषण में वक्ता का मैं बना रहना चाहिए. भाषण की शुरुआत में संबोधन के बाद अपने श्रोताओं को विषय से परिचय कराएं जैसे आज मैं नारी सशक्तिकरण के बारे में मेरे विचार आपके समक्ष रख रहा हूँ. इसके पश्चात मूल विषय तथा बिन्दुओं को विस्तार से रखे तथा अंत में आयोजक तथा कार्यक्रम निर्माताओं द्वारा अपनी बात रखने का अवसर देने के लिए धन्यवाद देकर आप अपने भाषण को और अधिक आकर्षक रूप दे सकते हैं.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों How to start a speech in Hindi में आपकों भाषण देने का तरीका  संक्षिप्त में बताया है, उम्मीद करता हूँ ये लेख आपकों अच्छा लगा होगा. इस तरह के छोटे छोटे टिप्स से आप एक अच्छे वक्ता बन सकते हैं. यह जानकारी आपकों अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *